Monday, July 22, 2019 01:30 AM

बारिश ने तबाह कर दी किसानों की फसल

नालागढ़—नालागढ़ उपमंडल के पलासड़ा दीतू व पलासड़ा निहला के किसानों पर बारिश कहर बनकर बरसी है। बारिश आने से साथ बहने वाली नदी का पानी खेतों में और मकानों में घुस गया, जिससे किसानों की मक्की और धान की फसल खराब हो गई है और उन्हें भारी नुकसान झेलना पड़ा है। किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल इस समस्या को लेकर उपमंडलाधिकारी नालागढ़ से मिला और इस समस्या से निजात दिलाने की मांग उठाई है। किसानों का कहना है कि साथ लगती नदी का गाद वाला पानी हर वर्ष की बरसात में उनके खेत और मकानों में घुस जाता है, जिससे उनकी फसलें चौपट हो जाती है, वहीं उन्हें भारी नुकसान भी झेलना पड़ता है, इसलिए इस समस्या से निदान के लिए आवश्यक कदम उठाए जाने अनिवार्य है उपमंडल प्रशासन में इस मामले को लोक निर्माण विभाग को आगामी कार्रवाई के लिए प्रेषित कर दिया है। क्षेत्र के किसान जयप्रकाश, सुखबीर सिंह, सीताराम, सूबेदार प्रेम, राम सिंह, राम गोपाल, श्यामलाल, हरिपाल, कुंदन लाल, सत्या देवी, सुरेंद्र सिंह, परशुराम, टेकचंद चंदेल, रूपलाल, बाबूलाल, राजेश राणा, जगत राम आदि ने बताया कि मंगलवार को हुई बारिश से इन गांवो के साथ लगती नदी का जलस्तर बढ़ गया, जिससे गाद वाला पानी उनके खेतों में आ गया और उनकी फसलें तबाह हो गई है। यही नहीं इस नदी का पानी सात-आठ मकानों में घुस आया है। उन्होंने कहा कि हर वर्ष इन गांवों के लोग इस परेशानी का सामना कर रहे है, लेकिन आज तक इस समस्या का समाधान नहीं हुआ है उन्होंने उपमंडलाधिकारी से मांग की है कि नदी के पानी को उनके खेतों और गांव में घुसने से रोका जाए और इस दिशा में ठोस कदम उठाए जाए, ताकि किसानों सहित लोगों को राहत मिल सके। एसडीएम नालागढ़ प्रशांत देष्टा ने बताया कि किसानों द्वारा सौंपे गए ज्ञापन को आगामी कार्रवाई के लिए लोक निर्माण विभाग को प्रेषित कर उन्हें दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए है।