Monday, November 18, 2019 04:30 AM

बारिश से पीडब्ल्यूडी के धुल गए 66.19 लाख

नालागढ़—मानसून के आगाज के साथ ही बारिश ने पीडब्ल्यूडी नालागढ़ मंडल को 66 लाख 19 हजार का नुकसान झेलना पड़ा है। तीन दिनों की हुई बारिश ने लोक निर्माण विभाग को जमकर नुकसान पहुंचाया है कई सड़क मार्ग अवरुद्ध हो गए हंै, जबकि कई सड़कों पर ल्हासे आने से सड़कों के सरफेस को क्षति पहुंची है, वहीं डंगे आदि गिर गए है। बारिशों का ऐसा ही क्रम रहा तो नुकसान का यह आंकड़ा और बढ़ जाएगा। फिलवक्त लोक निर्माण विभाग ने नुकसान की रिपोर्ट तैयार करके विभाग के उच्चाधिकारियों को प्रेषित कर दी है। इस वर्ष की अब तक की हुई बारिश होना लोनिवि को एक करोड़ से अधिक का नुकसान पहुंचा दिया है। इससे पहले लोनिवि को 43.50 लाख का बारिशों से इस साल नुकसान उठाना पड़ा है। इन बारिशों ने विभाग के अधीन आने वाली सड़कों के सरफेस डेमेज कर दिए है, वहीं डंगे आदि आने से सड़कों को अच्छा खासा नुकसान हुआ है। जानकारी के अनुसार मॉनसून की दस्तक से ही लोनिवि विभाग के अंतर्गत आने वाली सड़कों पर मलबा गिरने, ल्हासा गिरने, डंगा टूटने, पुलियां गिरने आदि के मामले आने शुरू हो गए है। तीन दिनों में हुई बारिश है शिमला कुनिहार रामशहर नालागढ़ रोड को एक लाख, रजवाती मलैहणी मार्ग को एक लाख, टिक्करी बोहरी अंब दा हार सड़क को एक लाख, कुमारहट्टी मित्तियां मार्ग को एक लाख, रामशहर सुन्ना नेरली को दो लाख, संपर्क मार्ग धर्माणा को एक लाख, बद्दी बरोटीवाला पुल को 50 लाख, शीतलपुर नानोंवाल मार्ग को तीन लाख, शालाघाट अर्की कुनिहार बद्दी को एक लाख, गुरुमाजरा ढेला कासला अबरनी रोड को एक लाख, कुमारहटटी मित्तियां क्वारनी मार्ग को दो लाख, क्वारनी मित्तियां बिस्सियां कटलू मार्ग को 1.36 लाख, ममला से ममला सड़क को 20 हजार, संपर्क मार्ग धारघाट को 13 हजार, बद्दी साई रामशहर मार्ग को 50 हजार का नुकसान पहुंचा है। इन सड़कों में रोड़ क्रस्ट के साथ डंगे आदि आने से सड़कों को नुकसान पहुंचा है। बीते वर्ष पीडब्ल्यूडी नालागढ़ डिवीजन के बरसात ने 19.38 करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचाया था। इस वर्ष के शुरुआत और बीच में हुई बारिशों से ही 43.50 लाख का नुकसान पहुंच चुका है, जबकि तीन दिनों की बारिश से 66.19 लाख का नुकसान हो चुका है। एक्सईएन लोनिवि नालागढ़ मंडल संजीव अग्निहोत्री ने कहा कि तीन दिनों की बारिश से 66.19 लाख का नुकसान हो चुका है और इसकी रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को आगामी कार्रवाई के लिए प्रेषित कर दी गई है।