Sunday, November 17, 2019 03:46 PM

बिगड़े मौसम ने बिगाड़ी बिलासपुर की सेहत

ठंड बढ़ने से क्षेत्रीय अस्पताल में बढ़े सर्दी-खांसी-जुकाम के मरीज, महकमे ने दी लोगों को एहतियात बरतने की सलाह

बिलासपुर -मौसम के लगातार बिगड़ते तेवर ने लोगांे के स्वास्थ्य पर विपरीत असर डालना शुरू कर दिया है। अचानक बढ़ रही ठंड के चलते जिला मंे सर्दी, खांसी व जुकाम के मरीजांे की संख्या एक बार फिर बढ़ गई है। मौसम के इस बिगड़े तेवर का असर हर तीसरे घर मंे दिख रहा है। इन दिनों क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर मंे पहुंचने वाले मरीजों की संख्या मंे पहले से दस फीसदी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है। वहीं, वायरल की चपेट में आकर रोजाना दस से 15 शिशु क्षेत्रीय अस्पताल में इलाज के लिए पहुंच रहे हैं। अस्पताल में इलाज के लिए आने वाले बच्चों में से कुछ को बुखार ने जकड़ा है, तो कुछ पर इन्फेक्शन हावी है। अस्पताल में तैनात शिशु रोग विशेषज्ञ डा. सतीश शर्मा ने बताया कि मौसम में चल रहा उतार-चढ़ाव इसका एक बड़ा कारण है। इसके चलते बीमारियां शिशुओं पर हावी हो रही हैं। चिकित्सकों के अनुसार वातावरण में घुल रहे वायरस से लड़ने के लिए शिशुओं के शरीर क्षमता कम होती है, जिस वजह से फीवर व दूसरी बीमारियां उन पर हावी हो जाती हंै। शिशु विशेषज्ञों की मानें तो शाम व रात के समय ही वायरल शिशुओं पर ज्यादा हावी होता है। शिशु विशेषज्ञों ने अभिभावकों से अपील की है कि वे बच्चों को बाहरी चीजें खाने को न दें व दूषित पानी के प्रयोग से बचाएं। बच्चों के अलावा अस्पताल में आने वाले दूसरे मरीज अधिकतर सर्दी, खांसी, जुकाम, छाती मंे इन्फेक्शन, आंखों मंे भारीपन, बुखार व शरीर दर्द आदि के लक्षणों वाले हैं। ठंड के बढ़े प्रकोप के चलते इन बीमारियों का उत्पन्न होना एक स्वाभाविक बात है, लेकिन यदि ऐसे मंे एहतियात नहीं बरती गई, तो इसके गंभीर परिणाम भी सामने आ सकते हंै। वहीं, चिकित्सकों ने सलाह दी है कि इस रोग से बचने के लिए शरीर को ढांप कर रखें। आइस्क्रीम व अन्य पेयजलांे से अपने आप को बचाएं।