Thursday, January 17, 2019 02:22 AM

बिजली संशोधन बिल मंजूर हुआ, तो आंदोलन

देहरागोपीपुर - हिमाचल प्रदेश राज्य विद्युत बोर्ड कर्मचारी यूनियन ने देहरा में बिजली संशोधन कानून 2018 पर चर्चा व विरोध में एक प्रदेश स्तरीय अधिवेशन  का अयोजन किया। इसअवसर पर प्रदेश बिजली बोर्ड कर्ममचरी यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह खरवाड़ा ने बिजली कानून-2018 का विरोध करते हुए कहा कि बिजली संशोधन बिल-2018 बिजली बोर्ड कर्मी, बोर्ड सेवानिवृत्त कर्मी व उपभोक्ता विरोधी है। इस कानून को लाने के प्रयास में केंद्र की एनडीए सरकार अगले संसद के शीतकालीन सत्र में अध्यादेश लाने की पूरी तैयारी कर चुकी है। श्री खरवाड़ा ने कहा कि अगर ऐसा होता है, तो बिजली बोर्ड कर्मियों की नौकरी पर खतरे की तलवार लटक जाएगी। बोर्ड सेवानिवृत्त भी पेंशन से महरूम हो जाएंगे। प्रदेश के उपभोक्ताओं को कई गुना महंगी बिजली मिलने की संभावना बढ़ जाएगी। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि केंद्र सरकार को इस जनविरोधी  बिजली कानून-2018 को जनहित में प्रदेश में लागू होने से राकें। यूनियन ने सरकार को चेताया है कि यदि बिजली संशोधन बिल मंजूर हुआ, तो कर्मचारी आंदोलन से भी गुरेज नहीं करेंगे।