Wednesday, July 08, 2020 12:16 PM

बिलासपुर में दो इंस्टीच्यूशन, दो कोविड केयर सेंटर में इलाज

बिलासपुर -वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए लॉकडाउन व कर्फ्यू के बीच हर दिन सामने आ रहे मामलों पर जिला प्रशासन सतर्क है। बाहर से आने वालों को जिला की सीमा पर स्क्रीनिंग व ट्रेवल हिस्ट्री चेक करने के बाद नयनादेवी और स्वारघाट में इंस्टीच्यूशनल क्वारंटाइन किया जा रहा है। उन्हीं लोगों को क्वारंटाइन किया जा रहा है, जिनमें कोरोना के लक्षण नजर आते हैं और उनके टेस्ट किए जा रहे हैं। पॉजिटिव लोगों के इलाज के लिए भी प्रशासन ने जिला में पुख्ता इंतजाम कर रखे हैं। जिलाधीश राजेश्वर गोयल ने बताया कि बिलासपुर जिला में शिवा आयुर्वेद कालेज में कोविड-19 केयर सेंटर बनाया गया है, जिसकी क्षमता 60 बेड है, जबकि जरूरत पड़ने पर 100 तक बढ़ाया जा सकता है। यहां अभी तीन पॉजिटिव आए लोगों का उपचार भी चल रहा है। इस सेंटर में सामान्य लक्षण वाले मरीजों का ईलाज किया जाएगा। यह सेंटर जिला मुख्यालय से महज दस से बारह किलोमीटर की दूरी पर है और क्षेत्रीय अस्पताल से मरीज को सेंटर तक पहुंचाने में पंद्रह मिनट का समय ही लगेगा। इसके साथ ही जिला मुख्यालय से बीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित घुमारवीं शहर में 50 बेड क्षमता का कोविड-19 हेल्थ सेंटर बनाया गया है जहां थोड़ा ज्यादा लक्षण वाले मरीजों का उपचार होगा और कोरोना से बहुत ज्यादा पीडि़त यानी मेजर केस में मरीजों का उपचार मंडी जिला के नेरचौक मेडिकल कालेज में बनाए गए कोविड-19 डेडिकेटिड केयर सेंटर में किया जा रहा है। वहां पर बिलासपुर से ईलाज के लिए भेजे गए दो मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। ऐसे में बिलासपुर जिला में किसी भी प्रकार की आपात स्थिति से निपटने को लेकर व्यापक प्रबंध किए गए हैं। उन्होंने बताया कि बाहर से आने वाले लोगों को क्वारंटाइन करने से लेकर अन्य तमाम व्यवस्थाओं के लिए जिला नोडल अधिकारी के अलावा आठ अन्य नोडल अधिकारी तैनात किए गए हैं। जिला नोडल अधिकारी सिद्धार्थ आचार्य हर दिन बाहर से आने वालों की अपडेट ले रहे हैं और उन्हें सीमावर्ती क्षेत्र से बिलासपुर लाने का प्रबंध करवा रहे हैं। उन्होंने बताया कि बिलासपुर जिला में हालांकि अभी तक नयनादेवी हलके से एक ही मामला सामने आया है और वह युवक भी बार्डर पर ही स्क्रीनिंग के बाद नयनादेवी में इंस्टीच्यूशनल क्वारंटाइन किया गया था। जो छह मामले सामने आए हैं उनमें तीन हमीरपुर और शेष बाहरी राज्यों दिल्ली व अहमदाबाद से ताल्लुक रखते हैं। ऐसे में अभी तक बिलासपुर जिला पूरी तरह से  सुरक्षित है।

स्कूलों से क्वारंटाइन सेंटर करवाए जा रहे खाली

जिलाधीश के अनुसार स्कूलों में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटरों को खाली किया जा रहा है और अन्य जगहों पर सेंटर बनाए जा रहे हैं। इस बाबत प्रशासनिक स्तर पर पूरी प्लानिंग की गई है। उपायुक्त राजेश्वर गोयल ने बताया कि आने वाले समय में स्कूलों को शुरू किया जाना है तो सरकार के भी निर्देश हैं कि अन्य जगहों पर क्वारंटाइन सेंटर बनाए जाएं इसलिए स्कूलों को खाली किया जा रहा है।