Friday, October 18, 2019 11:56 AM

बिलासपुर में मिलावटखोरों की मौज

दो साल से फूड सेफ्टी अधिकारी नहीं होने से अभी तक नहीं भरा एक भी सैंपल, लोगों की सेहत से खिलवाड़

बिलासपुर -बिलासपुर जिला में फूड सेफ्टी अधिकारी का पद अरसे से खाली पड़ा हुआ है। नतीजन फूड सेफ्टी अधिकारी के न होने से अभी तक त्योहारी सीजन में खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा एक भी सैंपल नहीं भरा गया है। एफएसओ न होने से बिलासपुर में असिस्टेंट कमिश्नर खाद्य सुरक्षा को अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है। इसके चलते ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर शहरी क्षेत्रों तक केवल जांच कार्य कर जहां भी खाद्य समाग्री ठीक नहीं पाई गई है, उन्हें नोटिस दिए जाने के साथ मिठाइयों को फिंकवाकर काम चलाया जा रहा है। दशहरा के बाद अब दिवाली आने वाली है, लेकिन इस फेस्टिवल सीजन में बिकने वाली मिठाइयों के सैंपल ही नहीं भरे जा सके है। मिलावटखोरों पर शिकंजा कसने के उद्देश्य से खाद्य सुरक्षा विभाग ने जांच का खाका तैयार किया है। हालांकि अभी तक त्योहारी सीजन के बीच असिस्टेंट कमिश्नर खाद्य सुरक्षा बिलासपुर सविता ठाकुर की टीम ने जिलाभर में दबिश दी है। इस दौरान कई जगह वासी व खराब मिठाइयां फिंकवाई गई व इन पर कार्रवाई करते हुए दर्जनों दुकानदारों को नोटिस भी थमाए गए हैं, लेकिन अभी तक जिला में कोई बड़ी कार्रवाई नहीं हो पाई है। बहरहाल फूड सेफ्टी अधिकारी की कमी लगातर बिलासपुर को खल रही है। खाद्य सुरक्षा विभाग बिलासपुर की असिस्टेंट कमिश्नर सविता ठाकुर ने बताया कि फूड सेफ्टी अधिकारी का पद वर्ष 2017 से खाली होने बारे उच्च अधिकारियों को इस बारे समय-समय पर अवगत करवाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि  त्योहारी सीजन में इस बार खाद्य सुरक्षा विभाग ने रणनीति तैयार की है। कई जगह कार्रवाई की जा रही है व कई जगह दबिश देने की तैयारी है। उल्लेखनीय है कि पर्व-त्योहार के समय मिलावटखोरों की चांदी हो जाती है। खासकर मिठाइयों में तो मिलावट के काफी मामले आते हैं। बिलासपुर में भी कई बार खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा चलाए गए अभियान में मिलावटी मिठाइयां बेचे जाने की बात सामने आई है, लेकिन इस बार इन मिलावटी मिठाइयों पर कौन लगाम लगाएगा, यह एक बड़ा सवाल विभाग के सामने खड़ा रहा। फूड सेफ्टी अधिकारी का पद खाली होने से मिलावटखोरों के भी हौसले बुलंद हैं।