Friday, September 20, 2019 12:33 AM

बीबीएन में पांच की जान गई

बीबीएन - बारिश उद्योगों पर कहर बनकर बरसी है। उद्यमियों को 100 करोड़ से ज्यादा की चपत लग चुकी है। इसके अलावा प्रशासन अपने स्तर पर नुकसान का आकलन कर रहा है, जिसके बाद इस आंकड़े में और इजाफा हो सकता है। उद्योगों में पानी के सैलाब ने जमकर उत्पात मचाया और उद्योग परिसर को क्षतिग्रस्त करते हुए तैयार व कच्चे माल सहित मशीनरी को अपनी चपेट में ले लिया। बीबीएन के कई उद्योगों में पांच फीट तक पानी भरने से करोंड़ो की मशीनरी खराब हो गई। यहीं नही बारिश से बिगड़े हालातों से बीबीएन के हर उद्योग में कामकाज ठप करना पड़ा, जिससे उद्यमियों को खासा नुकसान झेलना पड़ा है। बीबीएन में भारी बारिश के चलते क्षेत्र की 29 सड़कें बंद हो गईं। नालागढ़ डिपो की 30 से अधिक बसें अपने रूटों पर तो गईं, लेकिन वापस नहीं आईं। इस दौरान 95 से अधिक रूट प्रभावित हुए हैं।

मकान पर गिरा डंगा पिता-पुत्र की मौत

पहला हादसा बद्दी के तहत मानकपुर में पेश आया, यहां एक रिहायशी मकान पर सुबह डंगा गिर गया, परिवार की दो लोग अंदर सो रहे थे और एक महिला पूनम चाय बनाने उठी थी। इस हादसे में पिता-पुत्र कर्मचंद (55) पुत्र विष्णू राम और अवतार सिंह उर्फ जिंदर (25) पुत्र कर्मचंद की मकान के मलबे के नीचे दबने से मौत हो गई, पूनम (24) सुरक्षित है। एनडीआरएफ की टीम के प्रभारी कन्हैया लाल व रमेश चंद समेत 18 लोगों की टीम ने जिला पुलिस के 35 जवानों और दमकल विभाग की टीम के साथ मिलकर नौ घंटे के रेस्क्यू के बाद शव बाहर निकाले।

दीवार गिरी मजदूर दबा

दूसरे हादसे में एक उद्योग से छुट्टी कर जा रहे विक्की निवासी बिहार व राजेश कुमार निवासी यूपी पर भारी बारिश के चलते दीवार गिर गई, जिसमें विक्की (28) निवासी बिहार की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि राजेश कुमार निवासी यूपी घायल हो गया है।

बच्चे और ग्रामीण का शव मिला

तीसरे हादसे में सरसा नदी में भुड्ड के पास एक अज्ञात बच्ची का शव बरामद हुआ है। सरसा नदी के उफान को देख रहे भुड्ड के लोगों को नदी किनारे लगे एक बच्चे का शव दिखा, तो लोगों ने शव को बाहर निकाल कर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है हांलाकि अभी तक बच्ची के शव की कोई पहचान नहीं हो सकी है। वहीं, संडोली के पास सड़क पर एक व्यक्ति का शव मिला है, जिसकी अभी तक शिनाख्त नही हो सकी है। बताया जा रहा है कि भारी बारिश के कारण उकत अधेड़ की नाले में डूबने से मौत हो गई। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है। एसडीएम प्रशांत देष्टा ने बताया कि पीडि़त महिला को 10 हजार व दोनों मृतकों को 25-25 हजार की फौरी राहत मौके पर प्रदान की गई है। एसपी बद्दी रोहित मालपानी ने खबर की पुष्टि की है।

बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ का कनेक्शन आपस में कटा

हालात ये हैं कि बारिश के कारण नदियों के उफान पर आने से जहां सड़कें व पुल क्षतिग्रस्त हो गए हैं, वहीं बद्दी, नालागढ़ व बरोटीवाला का आपस में संपर्क भी कट गया। दरअसल बीबीएन की लाइफ लाइन कहे जाने वाले एकमात्र एनएच पिंजौर-नालागढ़ के बीच बागबानियां स्थित पुल का एक हिस्सा उफ नती नदी में बह जाने के बाद बद्दी का नालागढ़ से संपर्क कट गया। इस मार्ग पर सुबह पांच बजे से देर शाम तक वाहनों की आवाजाही बंद रही। ऐसा ही नजारा बालद नदी का भी था। इसके अलावा मोरपेन वाया एफी फार्मा रोड पर पुल से पहले सड़क का बड़ा हिस्सा नदी में बहने से इस मार्ग पर भी यातायात ठप हो गया।

जेसीबी-पिकअप बही

किशनपुरा में उफनती नदी की चपेट में आकर एक स्टोन क्रशर जेसीबी बह गई, जबकि नालागढ़ के वार्ड तीन सहित क्षेत्र में भी आधा दर्जन वाहन बह गए, आलम यह था कि नदी के तेज बहाव ने क्रशर का नामोनिशान ही मिटा दिया। सुबह बद्दी साई मार्ग पर रत्ता पुल के पास खड़ी दो पिकअप पानी की चपेट में आकर बह गई। बद्दी-नालागढ़ नेशनल हाई-वे पर रत्ता नदी में ही एक टैम्पो 407 भी पानी की भेंट में चढ़ गया। वहीं, शीलतपुर में प्राइमरी स्कूल की चार दिवारी गिर गई, जबकि झाड़माजरी में बिजली बोर्ड परिसर की चार दिवारी गिर गई।