Tuesday, June 02, 2020 12:00 PM

बीबीएन में 41 दिन बाद कोरोना रिटर्न

बीबीएन - औद्योगिक क्षेत्र बीबीएन में कोरोना संक्रमण ने 41 दिन बाद दोबारा दस्तक दे दी है, इस बार कोरोना ने जोरदार तरीके से वापसी की है। बीबीएन में इससे पूर्व कोरोना संक्रमण के 10 मामले सामने आए थे, जिनमें से एक कोरोना संक्रमित महिला की मौत हो गई थी जबकि बाकी नौ ने कोरोना को मात दे दी थी। कोरोना का आखिरी मामला 10 अप्रैल को आया था जिसमें ब्रुकलिन अस्पताल के दो कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद बीबीएन में 41 दिनों तक कोरोना का कोई मामला सामने नहीं आया , बेशक बीबीएन से बाहर गए छह लोगों के संक्रमित होने की घटनाएं जरूर सामने आई थी हालांकि इसके बावजूद स्थानीय स्तर पर ऐसा कोई केस नहीं आया था । इसी के चलते बीबीएन तकरीबन ग्रीन जोन की दहलीज पर खड़ा था,लेकिन गुरुवार सुबह मानपुरा क्ववारंटाइन सेंटर में एक साथ फूटे पांच कोरोना मामलों ने बीबीएन में दहशत मचा दी है। इसमें सिर्फ राहत की वजह यह है कि यह लोग पश्चिम बंगाल से बद्दी आते ही सीधे क्ववारंटाइन कर दिए गए थे। जिससे संक्रमण फैलने का खतरा न के बराबर है। फिलवक्त इलाकावासी क्षेत्र में कोरोना की वापसी से खौफजदा है। गुरुवार को कोरोना के मामले सामने आने के बाद डीसी सोलन, एसपी बद्दी, एसडीएम नालागढ़ ने भी क्षेत्र का दौरा किया और व्यवस्था का जायजा लेते हुए एहतियाती कदम उठाने के निर्देश दिए। यहां उल्लेखनीय है कि कोरोना को तकरीबन बाय -बाय कह चुके सोलन जिला के बीबीएन ने एक बार फिर कोरोना के नए मामलों से माहौल खौफजदा कर दिया है। बीबीएन में पहला मामला दो अप्रैल बद्दी के झाड़माजरी स्थित उद्योग से सबंधित लोगों का आया था, इस उद्योग के मालिक सहित करीब चार लोग कोरोना संक्रमित पाए गए थे,जबकि एक कोरोना संक्रमित महिला की पीजीआई में मौत हो गई थी। इसके बाद चार अप्रैल को नालागढ़ मरकज में रह रहे तबलीगी जमात के तीन लोग संक्रमित पाए गए थे। दस अप्रैल कोे  ब्रुकलिन अस्पताल के दो कर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए थे। यह सभी लोग कोरोना की जंग जीत चुके हैं,हालांकि इसके बाद बीबीएन से बाहर गए छह लोग कोरोना संक्रमित पाए गए थे। लेकिन यह साबित नही हो पाया कि वह लोग बीबीएन में रहते कोरोना की जद में आए थे, क्योंकि उनके प्राइमरी व सेकेंडरी कांटेक्ट में आए तमाम लोगों की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है। अब कोलकाता (पश्चिम बंगाल) से आए  लोगों में से पांच के कोरोना संक्रमित पाए जाने से बीबीएन में एक बार फिर दहशत का माहौल बन गया है। बता दें कि बीबीएन के विभिन्न क्वारंटान सेंटरों में पश्चिमी बंगाल, महाराष्ट्र सहित अन्य राज्यों से हिमाचली बीबीएन में वापस आए लोग रह रहे हैं। एसडीएम नालागढ़ प्रशांत देष्टा ने कहा कि जनता से अपील की कि वह प्रशासन के दिशा-निर्देशों की पालना करें।

यह एरिया कंटेनमेंट जोन में

मानपुरा क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे पांच लोगों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद मानपुरा स्कूल के बीस मीटर एरिया को कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए वहां तमाम गतिविधियों पर रोक लगा दी है। इसके अलावा सुराजमाजरा बद्दी स्थित कम्यूनिटी सेंटर की बाड़बंदी कर दी गई है। पश्चिम बंगाल से आए लोग मानपुरा सेंटर में शिफ्ट किए जाने से पूर्व इस कम्यूनिटी सेंटर में ही रह रहे थे।

25 से 46 आयु वर्ग के  है कोरोना संक्रमित

बद्दी के तहत मानपुरा स्थित क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए पांच लोगों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद क्षेत्र में हड़कंप मच गया है। कोरोना संक्रमित इन पांच लोगों में से तीन नालागढ़ की नंड पंचायत व दो बारी पंचायत के है। 25 से 46 आयु वर्ग के ये सभी लोग कोलकाता में पल्लेदारी का काम करते थे और विगत 15 मई को बद्दी पहुंचे थे। सैंपल रिपोर्ट पोजिटिव आने के बाद इन सभी को कोविड अस्पताल काठा श्फ्टि कर दिया गया है। बता दे की कोरोना संक्रमित ये लोग दो दर्जन अन्य लोगों के साथ ट्रक में 13 मई को कोलकाता से चले थे और 15 मई को बद्दी पहुंचे थे । शुरुआत में ये स्वराज माजरा के एक आश्रम में  रुके थे जहां से इन्हें 17 मई को मानपुरा क्वारंटाइन सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया जहां से 19 मई को इनके सैंपल लिए गए जिनकी बुधवार को सीआरआई कसौली में जांच हुई जिसमें ये पॉजिटिव पाए गए।