Wednesday, September 30, 2020 04:41 AM

बुरी शक्तियों के खिलाफ   देवभूमि में अभियान

भुंतर - देवभूमि कुल्लू की शांत वादियों में पनपी बुरी शक्तियों का जल्द ही खात्मा होने वाला है। घाटी के देवी-देवताओं के आशीर्वाद और सहयोग से जिला के देव समाज के लोग इन बुरी शक्तियों को अपने इलाके से दूर भगाने के लिए अभियान का आगाज कर चुके हैं। जानकारी के अनुसार लोगों ने मकर संक्रांति के बाद से अपने घरों के बाहर रात को मशालें जलानी आरंभ कर दी हैं और यह सिलसिला आने वाले सात दिनों तक चलेगा। आधि-व्याधियों और बुरी शक्तियों के वर्चस्व वाले काला माह पोष का अंत हो गया है और घाटी में देवी देवता भी लिहाजा एक बार फिर अपने भक्तों व हारियानों की रक्षा के लिए लौट आए हैं। देव समाज से जुड़े लोगों से मिली जानकारी के अनुसार देवी-देवताओं के सहयोग से जिला वासी सात दिनों तक अपने घरों में मशालें जलाकर और जगह-जगह देवालयों में भी मशाले जलाकर, अश्लील गालियां देकर अपने इलाके को बुरी शक्तियों से बचाएंगे। दुष्ट शक्तियों को भगाने का सिलसिला जिला की रूपी घाटी के साथ महाराजा घाटी , बंजार उपमंडल और दूसरे स्थानों पर देव विधियों के साथ आरंभ हुआ और सात दिनों तक चलेगा। लोगों के अनुसार इस प्रक्रिया को दियाली व सदियाला के नाम से पुकारा जाता है। घाटी के रूपी घाटी के चौंग, भ्रैण, दियार, हवाई, खोखण, नरोगी, पीज, आदि में यह पर्व विशैष तौर पर मनाए जाते हैं तो बंजार उपमंडल के साथ अन्य स्थानों पर भी यह परंपरा निभाई जाती है।  देव समाज के जानकार नवीन कुमार शर्मा, कृष्ण कुमार शर्मा, राजन शर्मा कहते हैं कि कि दियाली और सदियाले के माध्यम से जिला से बुरी शक्तियों को इलाके से बाहर किया जाता है और इलाके की सुरक्षा देवी देवता करते हैं।