Wednesday, July 08, 2020 02:02 PM

बेघरों के लिए नगरोटा में शेल्टर होम

नगरोटा बगवां प्रशासन प्रवासियों और लाचारों के लिए बना मसीहा

नगरोटा बगवां  - नगरोटा बगवां उपमंडल में कोई भी बाहरी या भीतर का कोई परिवार इस आपदाकाल में भूखा न सोए, यह सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय एसडीएम शशि पाल नेगी की टीम ने पूरी ताकत झोंक दी है। दूसरे राज्यों के लिए पलायन कर रहे मजदूर वर्ग को उपमंडल की सीमा पर हो रोक कर उनके खाने पीने रहने की व्यवस्था का भरोसा दिलाकर इस दौरान बनाए गए अस्थायी आश्रय गृहों में भेजा जा रहा है। प्रशासन ने हटवास तथा रजियाणा में बेघरों के लिए आश्रय गृह स्थापित किए हैं, जहां सोने, नहाने खाने की तमाम व्यवस्थाएं जुटाई जा रही हैं । नगरोटा  बगवां के एक स्कूल में प्रशासन द्वारा साझा चूल्हा चलाया गया है। प्रशासनिक अमले के साथ स्थानीय विधायक अरुण मेहरा के नेतृत्व में  स्वयंसेवकों की एक बड़ी फौज हर परिस्थिति से निपटने तथा व्यवस्थाएं जुटाने में दिन-रात लगी है। उपमंडलीय अधिकारी ने रविवार को स्वास्थ्य विभाग से मिलकर सभी आश्रय गृहों का मुआयना किया तथा अगंतुकों के स्वास्थ्य की जांच के साथ सुविधाओं को भी जांचा। जानकारी यह भी कि प्रशासन ने जन सहयोग से अब तक करीब एक हजार ऐसे परिवारों को 15-15 दिन का संपूर्ण राशन उपलब्ध करवाया है, जो दिहाड़ी न लगने की वजह से अपना चूल्हा जलाने में असमर्थता जाहिर कर चुके थे । स्थानीय पुलिस ने कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर कई वाहनों को कब्जे में लिया है तथा अवैध तस्करी करने वालों को भी कानूनी पाठ पढ़ाया।