Thursday, July 16, 2020 11:23 PM

बेमौसमी बारिश ने तबाह कर दी फसल

शिमला-पिछले कई दिनों से भारी वर्षा के कारण किसानों को काफी नुकसान हुआ है। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी(मार्क्सवादी) प्रदेश सरकार से मांग करती है कि पिछले दिनों ओलावृष्टि, भारी वर्षा व आंधी तूफान से प्रदेश के किसानों व बागबानों की फसलों को हुए भारी नुकसान का तुरंत जायजा लेकर उनको उचित मुआवजा देकर सरकार इसकी क्षतिपूर्ति करे। पिछले कुछ दिनों से लगभग पूरे प्रदेश में भारी वर्षा आंधी तूफान व ओलावृष्टि से किसानों व बागबानों की अनाज, फलों जिसमें सेब, गुठलीदार फल, चेरी, आम आदि व बेमौसमी सब्जियों जिसमे मटर, टमाटर, गोभी व अन्य सब्जियों को भारी क्षति हुई है। अभी तक लगभग 700 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान किसानों व बागबानों को इसके कारण उठाना पड़ा है। लेकिन सरकार ने कोई भी राहत अभी तक किसानों व बागबानों को इसकी भरपाई के लिए नहीं दी है। इस संकट की घड़ी में भी सरकार द्वारा किसानों व बागबानों को लागत वस्तुएं जिनमें विशेष रूप से खाद, बीज, फफूंदीनाशक, कीटनाशक आदि कहीं भी उपलब्ध नहीं करवाई जा रही है। जिससे किसान व बागबान इस संकट के दौर में बाज़ार से महंगा सामान खरीदने के लिए मजबूर हो गया है। पिछले दो दिनों में भारी ओलावृष्टि व आंधी तूफान के कारण शिमला जिला के रोहड़ू, जुब्बल, कोटखाई, टिक्कर, ठियोग, चौपाल, रामपुर, कोटगढ़, कुमारसैन, ननखड़ी, कुल्लू जिला के आनी, निरमंड, किन्नौर व  मंडी जिला के सेराज, करसोग आदि क्षेत्रों में सेब व अन्य फसलों को भारी नुकसान हुआ है। सरकार किसानों व बागबानों के कर्ज को माफ कर उन्हें तुरंत राहत प्रदान करे। यदि सरकार इस संकट की घड़ी में किसानों व बागबानों की राहत नहीं प्रदान करती तो इनका आर्थिक संकट और बढ़ेगा और प्रदेश की कृषि व बागबानी का क्षेत्र बर्बाद हो जाएगा।

The post बेमौसमी बारिश ने तबाह कर दी फसल appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.