Sunday, June 16, 2019 06:26 PM

ब्रह्मा-भगवती के दर्शन को उमड़ा जन सैलाब

सैंज—सैंज के कनौन मेले में आराध्य देव ब्रह्मा व महामाई भगवती  के मेले साजा  बैसाखी मेले में जहां देव परंपरा का निर्वाह किया, वहीं देवी भगवती व ब्रह्मा और देवता बंशीरा के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। इस मौके पर ब्रह्मा के रथ को हजारों हारियानों ने रस्से के साथ  खींच कर ऊंची चोटी पुखूरी धार बंनशीरा के मंदिर पहुंचाया। वहां देवता ब्रह्मा व भगवती ने अपने अंगरक्षक बंनशीरा के साथ क्षेत्र की रक्षा के लिए  मंथन किया। उल्लेखनीय है कि रविवार को देवता ब्रह्मा ऋषि के रथ को पूरे लावलशकर के साथ मंदिर से बाहर निकाला और देव खेल का निर्वाह कर देव हारियानों ने देवता के स्वर्ण रथ को रस्सी से खींच कर साथ लगते गांव कछैणी में देवी भगवती के मंदिर पहंुचाया और देव मिलन कर पुनः देवी-देवता के रथ को रस्सी खींचते हुए हजारों श्रद्धालुओं ने ऊंची चोटी पर बनशीरा देवता के मंदिर पहुंचाया, वहां पर देव हारियानों ने जंगल की लचकदार लकडि़यों से एक गोल रिंग बनाया, जिसे स्थानीय भाषा में चैचा कहते हैं। बाद में देव आज्ञानुसार देवी-देवता के हारियानों ने आपस में रस्साकशी की। अंत में इसे एक ही व्यक्ति सैकड़ों लोगों में से छुड़ा कर ले जाता है। देवता ब्रह्मा के कारदार भिमी राम ने बताया कि बनशीरा देवता उस व्यक्ति को पुत्र वरदान व मनवांछित वरदान  देता है। इस देव प्रक्रिया को देखने के लिए कनौन गांव में हजारों श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। सभी देव प्रक्रिया संपंन होने के बाद देव हारियानों ने कुल्लवी नाटी का आयोजन किया।