भारतीय मुद्रा 71 रुपये प्रति डॉलर से नीचे उतरी

 घरेलू शेयर बाजार में रही तेजी के बावजूद विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों(एफपीआई) की बिकवाली और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में एक फीसदी की तेजी आने के दबाव में मंगलवार को अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में भारतीय मुद्रा लगातार तीसरे दिन फिसलती हुई 12 पैसे टूटकर करीब एक माह के निचले स्तर 71.05 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुई।भारतीय मुद्रा गत दिवस 43 पैसे की भारी गिरावट में 70.93 रुपये प्रति डॉलर पर रही थी। इन तीन दिनों में रुपया 64 पैसे टूटा है।घरेलू शेयर बाजार में रही तेजी के दम पर शुरूआती कारोबार में रुपया 14 पैसे की बढ़त के साथ 70.79 रुपये प्रति डॉलर पर खुला और 70.75 रुपये प्रति डॉलर के उच्चतम स्तर तक पहुंचा। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लंदन के ब्रेंट क्रूड वायदा के 1.1 प्रतिशत की बढ़त के साथ 59.62 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंचने से इसकी स्थिति कमजोर हुई और यह 71.15 रुपये प्रति डॉलर के दिवस के निचले स्तर तक लुढ़क गया। एफपीआई की पूंजी बाजार से 14.79 करोड़ डॉलर की निकासी का दबाव भी रुपये पर रहा।भारतीय मुद्रा अंतत: पिछले दिवस की तुलना में 12 पैसे टूटकर 17 दिसंबर के बाद के निचले स्तर 71.05 रुपये प्रति डॉलर पर रही।

Related Stories: