Monday, September 23, 2019 01:47 AM

भू-वैज्ञानिकों ने जांची दरकी पहाड़ी

घुमारवीं में बोले उपायुक्त; दो दिन के अंदर सौंपे रिपोर्ट, करयालग में भू-स्खलन से दस घर हुए थे क्षतिग्रस्त

घुमारवीं -18 अगस्त को घुमारवीं में कठलग के गांव करयालग में हुई भारी वर्षा से हुए भू-स्खलन के कारण क्षेत्र के सात परिवारों के दस घर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। उपायुक्त राजेश्वर गोयल ने प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया तथा आपदा ग्रस्त परिवारों से मुलाकात की। इस अवसर पर उन्होने कहा कि प्राथमिक सहायता के तौर पर आपदा ग्रस्त परिवारों को प्रति परिवार 40 हजार रुपए की राहत राशि प्रदान कर दी गई है। उपायुक्त ने बताया कि गत दिन 12 लाख 50 हजार रुपए की राहत राशि स्वीकृत की गई। उपायुक्त ने बताया कि शिमला से राज्य भू-वैज्ञानिक का दल जिसमें गौरव शर्मा, जिला माइनंग अधिकारी और भू-संरक्षण अधिकारी क्षेत्र का दौरा कर निरीक्षण कर दो दिनों के भीतर विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे। यह दल क्षेत्र की भूमि का तकनीकी मूल्यांकन करेंगे, ताकि भविष्य में भू-स्खलन को रोका जा सके। उन्होंने राजस्व विभाग को निर्देश दिए कि प्रभावित परिवारों को उनकी मांग पर कृषि योग्य भूमि उपलब्ध करवाने के लिए भूमि का शीघ्र चयन करें, ताकि मामला उच्च स्तर पर स्वीकृति के लिए भेजा जा सके। उन्होंने खंड विकास अधिकारी और भू-संरक्षण अधिकारी को प्रभावित परिवारों को पुनर्वास के लिए आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए।  उन्होंने बताया कि आपदा से प्रभावित परिवारों को किसी भी प्रकार की समस्या आने नहीं दी जा रही है। स्थानीय पंचायत के लोग, स्वंय सेवी संस्थाएं तथा अन्य संस्थाएं प्रभावित परिवारों को आश्रय देने के लिए आगे आई है। इनके रहने का उचित प्रबंध किया गया है। प्रभावित परिवारों की सुविधा के लिए भोजन, बिजली, पानी व शौचालय इत्यादि की सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई है। उन्होंने बताया कि प्रशासन ने प्रभावितों के लिए एक महीने का राशन आवश्यक वस्तुएं जैसे बरतन व कंबल इत्यादि उपलब्ध करवा दिए गए हैं, ताकि उन्हें किसी भी प्रकार की समस्याओं का सामना न करना पडे़। इस दौरान उपायुक्त ने बताया कि इलाके के उन लोगों को सम्मानित किया जाएगा, जिन्होंने रेस्क्यू आपरेशन में कई जिंदगियां बचाई। इसके लिए सभी से रिपोर्ट ली जाएगी। इस अवसर पर एसडीएम घुमारवीं शशिपाल शर्मा व बीडीओ जीतराम के अतिरिक्त संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।