Sunday, November 17, 2019 03:31 PM

मंडी के कचरे से बनेगा फ्यूल

एमओयू के बाद एसीसी ने डंपिंग साइट पर लगाई तीन मशीनें

मंडी -नगर परिषद मंडी से निकलने वाला कूड़ा-कर्कट अब शीघ्र ही एसीसी सीमेंट कारखाना में फ्यूल का साधन बनेगा। नगर परिषद मंडी और एसीसी सीमेंट प्रबंधन के बीच हुए एमओयू के तहत यह प्रक्रिया अब शुरू हो गई है।  एसीसी सीमेंट कंपनी ने नगर परिषद मंडी को इस कार्य के लिए तीन मशींने निःशुल्क उपलब्ध करवाई हैं। जिनमें डी वाटरिंग मशीन, प्लास्टिक कटर और बेलिंग मशीन शामिल हैं। इन मशीनांे की मदद से शहर से निकलने वाले फूड बेस्ट को सुखा कर खाद बनाई जाएगी, जबकि अन्य सूखे कूड़े व प्लास्टिक को बेलिंग मशीन से फ्यूल में बदला जाएगा। इसके बाद एसीसी कंपनी को इस सारे फ्यूल को भेजा जाएगा। इस सारी प्रक्रिया को अमलीजामा पहनाने के लिए नगर परिषद ने कांगड़ा की भी एक संस्था से एमओयू किया है, जो कि इन मशीनों की मदद से इस कूडे़ से खाद व फ्यूल बनाने में लगी हुई है। सोमवार को अतिरिक्त उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने भी डंपिंग साइट का निरीक्षण किया। उन्होंने मौके पर पहुंच कर सारी प्रक्रिया को देखा और आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए। वहीं नगर परिषद के सफाई निरीक्षक प्रदीप दीक्षित ने बताया कि इस प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है। अभी इसमें ट्रायल प्रोसेस चला हुआ है। इस प्रक्रिया के पूरी तरह से लागू होने के बाद नगर परिषद की डंपिंग साइट से कूड़ा कम  होना शुरू हो जाएगा। उन्होंने की नगर परिषद ने इस बाबत एसीसी कंपनी से समझौता किया हुआ है।