Thursday, June 20, 2019 02:27 PM

मंड-सनौर में शाहनहर ने बरपाया कहर

मीलवां—लोकतंत्र के सबसे बड़े महापर्व की तैयारी में जुटे मंड सनौरवासियों को शाहनहर की लापरवाही ने रविवार  सुबह मुसीबत में डाल दिया। अचानक शाहनहर विभाग द्वारा नहर में पानी छोड़ देने से मंड सनोर की 40 एकड़ भूमि जल मग्न हो गई। जिस कारण नहर का पानी कहर बरपाता हुआ किसानों के खेतों और घर के आंगन में भर गया। खेतों में पड़ी तूड़ी खराब हो गई वही, हरे चारे की फसल खराब ही गई। मंड मलकाना और सनोर के ग्रामीण वोट डालने की तैयारी छोड़़ अपने अपने सामान का बचाव करने में जुट गए, जबकि पानी लगातार खेतों में भरता रहा। दरअसल एक पंचायत के उपप्रधान ने ठेके पर ली जमीन को पानी लगाने के चक्कर मंे शाहनहर को गैर कानूनी तरीके से बांध लगाकर पानी रोक रखा था। विभाग द्वारा रात को पानी छोड़ देने से इस गैर कानूनी तरीके से लगाए बांध में अत्यधिक कचरा जमा हो जाने से पानी नहर से ओवर फ्लो होकर अपना कहर बरपाता रहा। सुबह महिला मंडल प्रधान सृष्टा देवी ने इसकी सूचना चौकी प्रभारी ठाकुरद्वारा को दी। सूचना मिलते ही चौकी प्रभारी सुरिंदर राणा अपने दल संग मौके पर पहुंचे तथा ग्रामीणों की मदद से कचरा निकलवाकर पानी को सुचारू रूप से चालू किया। लोगों का कहना है कि जब पानी की जरूरत होती है तब विभाग द्वारा पानी नहीं दिया जाता परंतु जब जरूरत नहीं होती है तो अधिक पानी छोड़ कर ग्रामीणों का नुकसान कर परेशान किया जाता है । जब तक पानी सुचारू रूप से चलता तब तक ग्रामीण बलदेव सिंह, कुलदीप सिंह, विश्वनाथ, सरवन कुमार, साईं दास सुरिंद्र कुमार, ज्ञान चंद, धन देवी, रिखिया के आंगन, खेतों, घरों के आसपास पानी ने नुकसान किया। खेतों में पड़ी तूड़ी पानी भर जाने से खराब हो गई। पंचायत की महिला मंडल प्रधान सृष्टा देवी ने प्रशासन से उचित मुआवजे की मांग करते हुए दोषियों के खिलाफ सख्त कारवाई की मांग की है ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो।