Tuesday, June 02, 2020 11:52 AM

मजदूरों का शोषण बंद करे सरकार

मजदूर विरोधी नीतियों के चलते सीटू ने रामपुर में किया प्रदर्शन, मजदूर हितों के साथ खिलवाड़ नहीं होगा बर्दाश्त

रामपुर बुशहर-केंद्रीय ट्रेड यूनियन व राष्ट्रीय फेडरेशनों के आह्वान पर केंद्र व राज्य सरकारों  की मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ शुक्रवार को सीटू संबंधित रामपुर क्षेत्र की सभी यूनियन ने अपने कार्यस्थल पर राष्ट्रीय प्रतिरोध दिवस मनाया। ट्रेड यूनियनों के संयुक्त मंच के रामपुर क्षेत्रीय कमेटी के संयोजक नरेंद्र देष्टा व सहसंयोजक नील दत्त ने केंद्र व प्रदेश सरकारों को चेताते हुए कहा कि यदि मजदूरों के हितों के साथ खिलवाड़ नहीं रोका गया तो आने वाले समय में आंदोलन तेज किया जाएगा। उन्होंने कहा है कि कोरोना महामारी के इस संकट काल में भी मजदूरों का शोषण लगातार जारी है। कारखाना अधिनियम 1948 में तबदीली करके हिमाचल प्रदेश में काम के घंटों को आठ से बढ़ाकर बारह कर दिया गया है। इससे एक तरफ मजदूरों की भारी छंटनी होगी वहीं दूसरी ओर कार्यरत मजदूरों का शोषण तेज होगा। यूनियन ने प्रदेश सरकार पर पूंजीपतिपरस्त होने का आरोप लगाया है।  उन्होंने कहा कि सरकार के इस फैसले से पूंजीपतियों को मजदूरों की खुली लूट करने का अधिकार मिल गया है जिसे प्रदेश का मजदूर वर्ग किसी भी तरह बर्दाश्त नहीं करेगा। इस विरोध-प्रदर्शन में जसबीर, विपिन, प्रेम सिंघानिया, विकेश, मोहन, सुरेंद्र जोकटा, जितेंद्र, राकेश, रवि, विजय, सुनामनी, ललिता, मंजु, देवेंद्र, कैलाश मेहता, कुलदीप, रिंकू महादेवन, हेम राज, गोविंद, भूप सिंह, राजकुमार, सुशील, सीमा, श्याम, आशा आदि मौजूद रहे।