Monday, October 21, 2019 10:35 AM

मजदूरों की तैनाती का मामला पहुंचा एसडीएम रोहडू के पास

रोहडू—चिड़गांव के गुशाली क्षेत्र में निजी हाईड्रो पॉवर कंपनी गौतमी व मजदूरों के बीच चल रहा विवाद सुलझ नही रहा है। पॉवर कंपनी व मजदूरों के बीच 8 महीनों से चल रहे विवाद को लेकर मजदूर यूनियन के सदस्यों का एक प्रतिनिधिमंडल एसडीएम रोहडू बाबू राम शर्मा से मिला व अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन सौपा। वरकर्ज यूनियन की ओर से एसडीएम रोहडू से मिलें। प्रतिनिधि मंडल में गलोवर सिंह, सुनिल कुमार, कलम सिंह, त्रिलोक, अजय, नेहर सिंह, गुडडू, राजिंद्र सिंह, राजवंत, गुरूदयाल, देविंदर, नरेंदर, राजवंत मेहता, महेंदर, पवन, जवाहर, मोहन लाल, सतनाम, रूप सिंह, रमन, प्रदीप, विधा सैन, सोनम, राजकुमार व गौतम लाल ने अवगत करवाया कि मजदूर यूनियन पॉवर कंपनी के बीच चल रहे विवाद को लेकर मामला एसडीएम रोहडू के निर्देशानुसार तहसीलदार चिड़गांव के समक्ष चल रहा है लेकिन परियोजना प्रबंधन ने कुछ समय पहले से परियोजना स्थल पर कुछ नए मजदूर भर्ती किए हैं जो परियोजना की कलोनी के तालों को तोड़कर रहें हैं जिनके पूछने पर जवाब मिलता है कि हम यहां के कर्मचारी हैं, वहीं कंपनी की ओर से तैनात ये कर्मचारी परियोजना स्थल पर नहीं जा रहे हैं और जान से मारने की धमकी तक दे रहे हैं। इस बारे में चिढ़गांव पुलिस थाने में भी शिकायत दर्ज करवाई लेकिन कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा रही है। वर्कर यूनियन का मानना है कि कंपनी की ओर से पुराने वर्कज के स्थान पर परियोजना स्थल पर तैनात इन लोगों के व्यवहार से लगता है कि वे केवल मजदूरों को धमकाने के लिए रखे गए है। मजदूर युनियन ने एसडीएम रोहडू को बताया कि कंपनी ने जिस प्रकार से इन लोगों को धमकाने व डराने के लिए रखा हैं ठीक उसी प्रकार से 2 साल पहले मण्डी जिले की कमांड में कंपनी मालिकों ने बाउंसर रख लिए थे जिसके बाद वहां पर मजदूरों पर गोलियां चलवाई गई थीे ऐसा माहौल यहां पर भी गौतमी कंपनी की ओर से बनाया जा रहा है जिस पर प्रशासन से जल्दी ही कदम उठाने की मांग की जाती है। गौतमी हाईड्रो प्रोजक्ट वर्कज युनियन ने एसडीएम रोहडू से मांग की है कि प्रशासन परियोजना के कार्य को तुरंत शुरू करवाने व मजदरों की जायज मांगों को पुरा करवाने के निर्देश देे वहीं कंपनी ने बाहरी राज्यों से गैर कानूनन रूप से जिन लोगों के परियोजना स्थल पर तैनात किया है उन पर पुलिस की ओर से कानून कार्रवाई करने के आदेश जारी करेंे।