Wednesday, July 17, 2019 08:44 PM

मजदूर करवाएं पेंशन के लिए पंजीकरण

नजदीकी लोकमित्र केंद्र में हो सकती है रजिस्ट्रेशन, रिकांगपिओ में सहायक आयुक्त उपायुक्त ने ली मीटिंग

रिकांगपिओ -प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के तहत रिकांगपिओ में बैठक आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता सहायक आयुक्त उपायुक्त किन्नौर सलीम आजम ने की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के श्रम और रोजगार मंत्रालय द्वारा  यह योजना अंसगठित क्षेत्र में  काम कर रहे श्रमिकों के लिए आरंभ की गई है। उन्होंने कहा कि 15 फरवरी 2019 से यह योजना आरंभ हुई है जिसमें पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए श्रमिक नजदीकी  लोकमित्र केंद्रों में जा कर अपना पंजीकरण करवा सकते है। उन्होंने बताया  कि ऐसे श्रमिक जो असंगठित क्षेत्र में काम कर रहें हैं जिनमें घरेलु कामगारए बोझ उठाने वालेए भट्टे पर काम करने वालेए मोची, कचरा उठाने वालेए धोबी, फेरी वाले, कृषक कामगार, भवन एंव निर्माण,  हस्तकला-हथकरघा चर्म, ऑडियो-विडियो कार्यकर्ताए मिड डे मिल कार्यकर्ता स्वयं रोजगार एवं मनरेगा व इस तरह के अन्य व्यवसाय से जुड़े लोग इस योजना के पात्र होंगे। उन्होनें बताया कि इस योजना का लाभ उठाने के  लिए पात्र लोगों की  आयु सीमा 18 से 40 वर्ष  के मध्य तथा अधिकतम मासिक आय 15 हजार रुपए व इस से कम होनी चाहिएए इस योजना के पात्र होगें। सहायक आयुक्त उपायुक्त किन्नौर ने कहा कि इस योजना के अंतर्गत वे श्रमिक जो संगठित क्षेत्र में काम कर रहे हैं और जिनका ईपीएफए एनपीएस रार्ष्ट्रीय पेंशन योजना ईएसआईसी कर्मचारी राज्य बीमा निगम की कटौती उनके नियोक्ताओं द्वारा की जा रही हैए इस पेंशन योजना के अंतर्गत नहीं आते हैं। उन्होंने कहा कि पंजीकरण के लिए आधार कार्ड, बचत बैंक खाता तथा आइएफएससी के साथ जनधन खाता होना अनिवार्य है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए मासिक अंश दान आयु अनुसार न्यूनतम 55 रुपए और अधिकतम 200 रुपए मासिक अषंदान निर्धारित की गई है। उन्होंने विभिन्न विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देष दिए कि इस योजना का अधिक प्रचार करें ताकि लोगों को इस योजना का लाभ मिले। इस अवसर पर श्रम एवं जिला रोजगार अधिकारी किन्नौर आरएस चौहान ने प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि पंजीकृत कामगारों को 60 वर्ष पूर्ण होने पर सरकार द्वारा तीन हजार रुपए प्रतिमाह पेंषन प्रदान की जाएगी और पंजीकृत कामगार की मृत्यु के उपरांत उसके आश्रित को 50 प्रतिशत पेंशन प्रदान की जाएगी। इस बैठक में विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।