Tuesday, June 02, 2020 11:55 AM

मजदूर विरोधी-दमनकारी नीति का विरोध

भारतीय मजदूर संघ ने उपायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

बिलासपुर-भारतीय मजदूर संघ ने जिला संगठन मंत्री बाबू राम चौधरी की अगुवाई में केंद्र व राज्य सरकारों की मजदूर विरोधी एवं दमनकारी नीति के विरोध में उपायुक्त बिलासपुर के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा।  बाबू राम चौधरी ने बताया कि केंद्र व राज्य सरकारें मजदूर विरोधी एवं दमनकारी नीति को देश में लागू करने जा रही है, जिसका भारतीय मजदूर संघ हिमाचल प्रदेश विरोध करती है और सरकार से मांग की है कि दमनकारी नीति को तत्काल प्रभाव से बंद किया जाए।  उन्होंने बताया कि श्रम कानूनों को तीन वर्ष तक स्थगित करने और काम की अवधी को आठ घंटे बढ़ाकर 12 घंटे करने, सार्वजनिक क्षेत्र का निजीकरण करना, लॉकडाउन के कारण कार्य से वंचित मजदूरों को वेतन भुगतान न होना, प्रवासी मजदूरों को समूचित सहायता प्रदान करना, श्रम कानूनों में संशोधन का विरोध, रोजगार समाप्त करना, मंहगाई भत्ता फ्रिज करना व अन्य भत्ते समाप्त करना। उन्होंने कहा कि प्रदेश के बद्दी स्थित दमयानी फूड को बिना कारण, बिना श्रमिक समस्या बंद करना, प्रदेश में औद्योगिक उत्पदान शुरू हो चुका है व प्रवासी श्रमिकों का पलायन शुरू है। उन्होंने बताया कि संघ ने सरकार से मांग की हैकि इनका पलायन रोका जाए, ताकि उद्योगों के उत्पादन पर बुरा प्रभाव न पड़े। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को नियमों में बदलाव करने से पहले वार्ता करनी चाहिए, क्योंकि वर्तमान समय में श्रमिक बहुत घुटने में जीवन-यापन कर रहा है। अन्यथा भारतीय मजदूर संघ सरकार के इस निर्णय के खिलाफ अंदोलन शुरू करने  से पीछे नहीं हटेगा। इस अवसर पर प्रदेश कार्य समिति के सदस्य रत्न ठाकुर, भोला दत्त, प्यार सिंह व जगदीश शर्मा सहित अन्य उपस्थित रहे।