मणिमहेश यात्रा को ऑनलाइन नहीं मिलेंगी हेलिटैक्सी की टिकटें

प्रशासन का फैसला, ‘पहले आओ, पहले पाओ’ आधार पर होगी बिक्री

भरमौर - उतरी भारत की प्रसिद्ध मणिमहेश यात्रा में हेलिटैक्सी की टिकटों की बिक्री अब ऑनलाइन नहीं होगी। पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर मौके पर ही हेलिटैक्सी का टिकट मिलेगा। वहीं टिकटों के ब्लैक होने का मामला सामने आने पर संबंधित हेलिटैक्सी को ब्लैकलिस्ट घोषित कर दिया जाएगा। वहीं, इस वर्ष जिला मुख्यालय चंबा से भी गौरीकुंड के लिए हवाई उडा़नें करवाने की संभावनाओं को तलाशा जाएगा। शुक्रवार को मणिमहेश यात्रा की तैयारियों को लेकर डीसी चंबा की अध्यक्षता में उपमंडल मुख्यालय भरमौर में आयोजित बैठक में ये फैसले लिए गए। जानकारी के अनुसार शुक्रवार को उपमंडल मुख्यालय भरमौर स्थित मिनी सचिवालय के सभागार में मणिमहेश यात्रा की तैयारियों को लेकर बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता उपायुक्त चंबा एवं मणिमहेश ट्रस्ट के कमिश्नर विवेक भाटिया ने की। बैठक में मणिमहेश न्यास के अध्यक्ष एवं एडीएम भरमौर पीपी सिंह समेत सरकारी और गैरसरकारी सदस्य विशेष तौर पर मौजूद रहे। इस दौरान यात्रा के दौरान चंबा से गौरीकुंड के लिए हवाई उड़ानें शुरू पर भी चर्चा की कई। कहा जा रहा है कि चंबा से उड़ानों को लेकर संभावनाओं को देखा जाएगा। इसके बाद ही चंबा से गौरीकुंड के लिए उड़ानों पर आगामी फैसला लिया जाएगा। बैठक के दौरान भरमौर से गौरीकुंड के लिए होने वाली हवाई उड़ानों की टिकटों की बिक्री को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है। इसके तहत इस वर्ष हेलिटैक्सी की टिकटों की बिक्री ऑनलाइन नहीं होगी। इस दौरान एक सेक्टर अधिकारी को टिकटों की सुविधा व रॉयल्टी पर निगरानी के लिए तैनात किया जाएगा।

यह फैसला भी लिया

बैठक में फैसला लिया गया है कि अगर यात्रा के दौरान टिकटों के ब्लैक होने का मामला सामने आता है कि तो संबंधित कंपनी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के साथ उसके ब्लैकलिस्ट किया जाएगा।

आज हो सकते हैं श्रीखंड के दर्शन

आनी- शिव भक्तों को शनिवार को  18570 फुट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड महादेव के दर्शन का सौभाग्य प्राप्त  हो सकता है। प्रशासन शिव भक्तों के उत्साह को देखते हुए पार्वती बाग से आगे बंद यात्रा को बहाल करने पर विचार कर रहा है। श्रीखंड यात्रा ट्रस्ट के उपाध्यक्ष एवं एसडीएम आनी चेत सिंह ने बताया कि श्रीखंड महादेव के दर्शन को निकले श्रद्धालुओं को फिलहाल एहतिहात के तौर पर पार्वती बाग से आगे जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है, मगर शनिवार को मौसम यदि साफ रहा और आगे का मार्ग ठीक हुआ, तो प्रशासन श्रद्धालुओं को पार्वती बाग से आगे जाने की अनुमति दे सकता है। एसडीएम ने कहा कि श्रीखंड यात्रा को लेकर प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है और यात्रा के बेस कैंप सिंहगाड में प्रत्येक श्रद्धालु का पंजीकरण व मेडिकल जांच की जा रही है। खबर लिखे जाने तक लगभग 400 से अधिक श्रद्धालुओं का पंजीकरण हुआ है। एसडीएम ने बताया कि प्रशासनिक  तौर पर 15 जुलाई से शुरू हुई श्रीखंड कैलाश यात्रा पर अब तक करीब चार हजार श्रद्धालु महादेव के दर्शन को निकले हैं, मगर इन श्रद्धालुओं को फिलहाल पार्वती बाग तक ही जाने की अनुमति दी जा रही है।

Related Stories: