Friday, December 06, 2019 09:52 PM

मदद करने को पहुंच गए 570 किलोमीटर दूर

बिलासपुर -सोशल मीडिया पर जानकारी मिली तो 570 किलोमीटर दूर मदद करने के लिए पहुंच गए। ऐसे ही मददगार हैं एक इंट शहीद के नाम अभियान के संयोजक एवं समासेवी संजीव राणा। एक ईंट शहीद अभियान के सदस्यों ने जयपुर में एक शहीद की बेटी की शादी के लिए आर्थिक सहायता राशि सौंपी। एक ईंट शहीद के नाम अभियान के राष्ट्रीय संयोजक संजीव राणा ने बताया कि सोशल मीडिया पर एक सूचना को पढ़ा और मदद करने के लिए 570 किलोमीटर दूर मदद करने के लिए रवाना हो गए। इतना ही नहीं उनके साथ जुड़े लोगों ने भी आर्थिक मदद करने के लिए हाथ बढ़ाए। श्री राणा ने बताया कि कैप्टन क्षितिज शर्मा को पता लगा था कि जयपुर में जाट रेजिमेंट के एक शहीद का परिवार है जो इस समय आर्थिक रूप से कमजोर हैं और परेशानी में हैं। उनकी सात में से छठे नंबर पर आने वाली बेटी की शादी है, जिसकी वजह से वे आर्थिक रूप से परेशान हैं। चंडीगढ़ के कैप्टन क्षितिज शर्मा ने इस सूचना को अपनी सोशल मीडिया पर साझा किया। एक ईंट शहीद के नाम अभियान के राष्ट्रीय संयोजक संजीव राणा ने इस सूचना को पुख्ता किया और इसके बाद शहीद की बेटी की शादी कराने के लिए आर्थिक मदद जुटानी शुरू की। कैप्टन क्षितिज शर्मा, संजीव राणा और प्रोफेसर डा. अनिल अंगरीश तीनों ने मिलकर शहीद के परिवार की मदद करने की इच्छा जागी तो दूसरे लोग भी उनके इस पुनीत कार्य में जुट गए। संयोजक संजीव राणा ने बताया कि उन्होंने पता किया कि जम्मू-कश्मीर में 2000 में जाट रेजिमेंट का एक सैनिक शहीद हुआ था उसकी सात बेटियां थी, जिनमें से छठी बेटी की शादी होनी है। एक ईंट शहीद के नाम अभियान हिमाचल के संयोजक मेजर प्रेम मिन्हास ने बताया कि टीम का कार्य केवल शहीद स्मारक बनाना नहीं है बल्कि शहीदों के परिवारों पर अगर किसी तरह की आपत्ति है या मदद करने की जरूरत है तो वहां भी अभियान के सदस्य एकजुट हैं। बिलासपुर के जूनियर इंजीनियर अनूप गौतम, सुरेश चौधरी, कैप्टन भाग सिंह, पुनीत शर्मा व कैप्टन बाबूराम ने शहीद की बेटी की शादी के लिए कन्यादान पहुंचाया। अभियान के तहत तीनों सदस्य सोमवार को 570 किलोमीटर दूर जयपुर परिवार की मदद के लिए रवाना हो गए। सूबेदार मेजर प्रेम मन्हास ने भी टीम को शुभकामनाएं दी है।