Monday, June 01, 2020 02:33 AM

मनाली से नेपाल रवाना हुए 35 लोग

पर्यटन नगरी में हालात सुधरने के इंतजार में रुके थे मजदूर, बस से हुई वापसी

पतलीकूहल-मनाली में पर्यटन कारोबार करने वाले नेपाल के 35 लोगों ने राहत की सांस ली है। लोगों ने जिला प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद बुधवार को प्राइवेट बस में अपने घर नेपाल का रुख किया। बस के दो चालक इन लोगों को दो दिन लगातार सफर करने के बाद उत्तर प्रदेश के नेपाल बॉर्डर पर पहुंचाएंगे। ये लोग मनाली में पर्यटन कारोबार करते हैं तथा कई सालों से यहीं रह रहे हैं। विनोद, लक्ष्मी, भोजराज, हरिताल, चेतन, पुष्प राज,  टेकराज, खगेंद्र ने बताया कि वे रास्ते में कहीं नहीं रुकेंगे। उन्होंने बताया कि हालात को देखते हुए उन्होंने खाने-पीने का सामान अपने साथ रख लिया है। उन्होंने बताया कि उन्हें उम्मीद थी कि हालत सुधर जाएंगे, लेकिन हालत न सुधरने के चलते उन्होंने घर जाना ही उचित समझा है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के चलते बेरोजगार हो गए तथा सरकार से भी अपेक्षित राहत नहीं मिल रही है।  उन्होंने बताया कि वे हिमाचल से पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, दिल्ली व उत्तर प्रदेश होते हुए अपने नेपाल बॉर्डर पहुंचेंगे। कोरोना लॉकडाउन ने पर्यटन नगरी के सैकड़ों श्रमिकों को मुसीबत में डाल दिया है। लॉकडाउन से पर्यटन नगरी में पर्यटन कारोबार चौपट हो गया है, जिससे विशेष कर पर्यटन से जुड़े श्रमिकों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। श्रमिकों को अब यह चिंता सता रही है कि वे बेरोजगारी के इस दौर में अपने परिवार का भरण पोषण कैसे कर सकेंगे। एसडीएम मनाली रमन घरसंगी ने कहा कि हालांकि छिटपुट कार्य शुरू हो गए हैं तथा प्रशासन की ओर से हरसंभव प्रयास किया जा रहा है कि विशेषकर कामगार घर न जाएं, लेकिन जो घर जाना चाहते हैं, उन्हें अनुमति दी जा रही है।