Friday, December 13, 2019 07:34 PM

मां जयंती के दरबार सुबह तीन बजे से कतार

मेले के अंतिम दिन 30 हजार भक्तों ने लिया आशीर्वाद, खूब लगियां रौणकां

कांगड़ा -पंचभीष्म मेले के पांचवें व आखिरी दिन जयंती माता मंदिर में लगभग 30 हजार श्रद्धालुओं ने माथा टेका। इन मेलों के दौरान पांच दीये मां के दरबार में पांच दिन तक अखंड जल  रहे हैं। मेले के दौरान जयंती माता रास्ते पर अलग-अलग प्रकार के लंगर लगाए गए थे, जिसमें कड़ी, राजमाह मां की दाल, जलेबी, पकौड़े, चाय व आदि अन्य चीजों के लंगर लगाए गए थे। मेलों के दौरान कांगड़ा ही नहीं, बल्कि अन्य जिलों से भी श्रद्धालु भी मंदिर में पहुंच रहे है। मंगलवार सुबह तीन बजे मंदिर के कपाट खुले ही भक्तों की लाइनें माता के दशर्नों को लगनी शुरू हो गईं तथा हर तरफ से माता के जयकारे गंूजने लगे, जिसके बाद पूरा दिन यह सिलसिला चलता रहा। हालांकि पुलिस कर्मी लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए लगे हुए थे, लेकिन पुराना कांगड़ा से लेकर जयंती माता मार्ग तक वाहनों का जाम पूरा दिन ही लगता रहा। घंटों लोगों को जाम में फंसना पड़ रहा था। हालांकि स्थानीय लोग जाम में फंसी गडि़यों को निकालने में लगे, लेकिन फिर भी लोगों को समस्या से दो चार होना पड़ रहा था।