Monday, April 06, 2020 05:14 PM

मिनी सचिवालय के बाहर गरजी एनएसयूआई

प्रदेश में दो निजी विश्वविद्यालय द्वारा फर्जी डिग्री मामले को लेकर किया धरना-प्रदर्शन

सोलन -प्रदेश में दो निजी विश्वविद्यालय द्वारा फर्जी डिग्री मामले को लेकर एनएसयूआई आगबबूला हो गई है। डिग्री बेचने के मामले को लेकर सोलन एनएसयूआई ने मंगलवार को मिनी सचिवालय के बाहर धरना प्रदर्शन किया और जमकर प्रदेश सरकार को कोसा। एनएसयूआई जिलाध्यक्ष तुषार स्तान के नेतृत्व में आयोजित इस धरना-प्रदर्शन में कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सरकार की नाक के नीचे हो रहे इस गोरखधंधे को लेकर खूब हल्ला बोला। उनका कहना था कि सरकार की शह के बिना शिक्षा का इस तरह का बाजारीकरण नामुमकिन है। प्रदर्शन के उपरांत एनएसयूआई ने राज्यपाल को ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से प्रदेश सरकार से मांग की गई कि जल्द से जल्द इन दोनों निजी विश्वविद्यालयों की मान्यता रद्द कर दी जाए और इस घोटाले में जो भी लोग शामिल हैं उन्हें जल्द से जल्द सलाखों के पीछे डाला जाए। साथ ही निजी विश्वविद्यिलय शिक्षा विनियामक आयोग के अधिकारियों पर भी कार्रवाई करने की मांग की गई। इस दौरान तुषार  स्तान ने कहा कि यूजीसी ने प्रदेश सरकार को पहले ही पत्र लिखकर प्रदेश के दो निजी विश्वविद्यालय द्वारा पिछले करीब सात-आठ वर्षों में पांच लाख से भी अधिक फर्जी डिग्रियां बनाकर बेचने के बारे में सूचित कर दिया था। इसके बावजूद  सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया। उन्होंने कहा कि 2012 से पूर्व प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा एनएसयूआई के लाख विरोध के बावजूद  राज्य में अंधाधूंध प्राइवेट यूनिवर्सिटियां खोली थीं। परिसर अध्यक्ष सूर्य देव ने कहा कि एनएसयूआई इन्हीं फर्जीवाड़ों की आशंका के चलते शुरु से ही शिक्षा के निजीकरण के विरुद्ध आवाज उठाती आ रही है। उन्होंने कहा कि इस फर्जीवाड़े ने देशभर में हमारी देवभूमि को शर्मसार कर दिया है। तुषार स्तान ने कहा कि अगर जल्द ही दोषियों पर कठोर कार्रवाई न हुई तो प्रदेश भर के छात्रों को लामबद करते हुए एनएसयूआई द्वारा पूरे जिला के सभी महाविद्यालय में प्रदर्शन होगा । इस मौके पर जिलाध्यक्ष तुषार स्तान, परिसर अध्यक्ष सूर्य देव, अक्षित, मुदित, नितिन सूर्य, सौरव, अमन, अनुज, लक्की, महक, श्रुति सहित अन्य उपस्थित रहे।