मोहाली में दूसरी टी-20 जंग आज

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मुकाबला शाम सात बजे से

मोहाली - भारतीय क्रिकेट टीम धर्मशाला में पहला मुकाबला बारिश से धुलने के बाद मोहाली में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के दूसरे ट्वेंटी -20 में हर हाल में जीत के लिए उतरेगी। हालांकि मुकाबले में सभी निगाहें टीम के युवा खिलाडि़यों के प्रदर्शन पर टिकी रहेंगी। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन टी-20 मैचों की सीरीज़ का पहला मैच पूरी तरह धुलने के बाद दूसरा मैच अहम हो गया है, क्योंकि जो भी टीम इसे जीत जाती है, तो उसके पास बढ़त के साथ सीरीज कब्जाने का भी बेहतर मौका रहेगा। यह सीरीज कप्तान विराट कोहली और टीम प्रबंधन के लिए नए संयोजन तलाशने का भी बढि़या मौका है, जो अगले वर्ष आस्ट्रेलिया में होने वाले आईसीसी टी-20 विश्वकप के लिए अभी से तैयारी और मजबूत टीम तैयार करने में जुटा है। इसी के मद्देनज़र प्रबंधन ने मौजूदा सीरीज़ में कई नए चेहरों को मौका दिया है, जिनमें नवदीप सैनी, दीपक चाहर, वाशिंगटन सुंदर और खलील अहमद हैं। कप्तान विराट के धर्मशाला की ही टीम को मोहाली में भी बिना बदलाव उतारने की उम्मीद है। ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या भी टीम में वापसी कर रहे हैं और उनकी मध्यम तेज़ गेंदबाज़ की मौजूदगी से टीम तीन स्पिनरों को मौका दे सकती है। गेंदबाज़ी विभाग में भारत के पास कई विकल्प हैं। तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह को इस बार आराम दिया गया है, ताकि नए खिलाडि़यों को मौका दिया जा सके। तेज़ गेंदबाज़ों की नई तिकड़ी नवदीप, दीपक और खलील को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका रहेगा। स्पिन विभाग में अब वाशिंगटन सुंदर और राहुल चाहर के प्रदर्शन पर निगाहें रहेंगी, वहीं ऑलराउंडरों में रविंद्र जडेजा और क्रुणाल पांड्या अहम होंगे। अनुभवी खिलाडि़यों में एक बार फिर शिखर धवन, रोहित शर्मा और कप्तान विराट पर अधिक जिम्मेदारी रहेगी। वहीं कोच रवि शास्त्री भी इन दिनों पंत के शॉट चयन से संतुष्ट नहीं हैं, ऐसे में पंत पर खुद को साबित करने की दोहरी जिम्मेदारी होगी।

हाइएस्ट स्कोर 211 रन

मोहाली में भारत का हाइएस्ट टी-20 स्कोर 211 रन है। ये रन भारत ने श्रीलंका के खिलाफ बनाए थे। मेहमान टीम ने इंडिया को जीत के लिए 207 रन का टारगेट दिया था, तब भारत ने चार विकेट खोकर 211 रन बना दिए थे। इस मैच में युवराज और सहवाग ने विस्फोटक पारी खेली थी। 

कोहली की सबसे बड़ी पारी

इस मैदान पर अब तक किसी खिलाड़ी ने सेंचुरी नहीं लगाई है। सबसे हाईएस्ट स्कोर 82 रन है, जिसे विराट कोहली ने 2016 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाया था। इस मैच में कंगारुओं ने भारत को जीत के लिए 161 रन का लक्ष्य दिया था और भारत ने चार विकेट खोकर यह लक्ष्य हासिल कर लिया था।

आज तक कोई मैच नहीं हारा भारत

भारत बनाम साउथ अफ्रीका के बीच तीन मैचों की टी-20 सीरीज का दूसरा मैच बुधवार को मोहाली में खेला जाएगा। धर्मशाला में पहला मैच बारिश में धुलने के बाद विराट सेना दूसरी जंग के लिए पूरी तरह से तैयार है। ये मुकाबला मोहाली के पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाएगा। ये वही मैदान है, जहां भारत को टी-20 में कोई भी टीम नहीं हरा पाई है। ऐसे में मेहमान साउथ अफ्रीका के लिए भारत को हरा पाना आसान न होगा। मोहाली के इस मैदान में टीम इंडिया ने कुल दो टी-20 मैच खेले हैं और दोनों में जीत दर्ज की। पहला मैच 2009 में श्रीलंका के खिलाफ खेला था, जिसमें मेजबान भारत को छह विकेट से जीत मिली थी। वहीं दूसरी बार 2016 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत ने फिर से छह विकेट से वो मुकाबला जीता था। यानी कि भारत ने यहां दो मैच जीते हैं और हर बार छह विकेट से जीत दर्ज की।

कप्तानी का क्या असर, नहीं जानता

मोहाली - साउथ अफ्रीका के नवनियुक्त टी-20 कप्तान क्विंटन डि कॉक ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि इस नई जिम्मेदारी का उन पर नकारात्मक असर पड़ेगा या सकारात्मक। वह इसे लेकर चिंतित नहीं हैं और न ही इसे लेकर वह कुछ सोच रहे हैं। फाफ डुप्लेसिस की गैरमौजूदगी में टीम के सीनियर खिलाडि़यों में से एक डि कॉक को कप्तानी की जिम्मेदारी सौंपी गई है। साउथ अफ्रीकी टीम प्रबंधन अगले साल होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप से पूर्व उन्हें निखारना चाहता है। डि कॉक ने दूसरे टी-20 से पहले कहा, ईमानदारी से कहूं तो अधिक चिंतित नहीं हूं। यह मेरे करियर का नया मील का पत्थर है। मुझे अतिरिक्त जिम्मेदारी मिली है। तय नहीं हूं कि इसका मुझ पर नकारात्मक असर पड़ेगा या सकारात्मक।   

Related Stories: