Wednesday, December 11, 2019 05:14 PM

रंगकर्मी इंद्रराज को सुकेत रत्न पुरस्कार

सुंदरनगर -ललित कला एवं सामाजिक विकास मंच व मांडव्य कला मंच द्वारा आयोजित दो दिवसीय सुकेत उत्सव-2019 बेहतरीन प्रस्तुतियों के साथ संपन्न हो गया। इस उत्सव की दूसरी व अंतिम संध्या  में विधायक  राकेश जम्वाल मुख्यातिथि के रूप में पधारे। उनके साथ विशिष्ट अतिथि के रूप में नीरज उप्पल प्रधानाचार्य राजकीय  बहुतकनीकी महाविद्यालय सुंदरनगर व रिटायर्ड अधीक्षण अभियंता अरुण शर्मा विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे। मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथियों को आयोजकों  कुलदीप गुलेरिया, सुनील कुमार, ललिता बांगिया, देवेंद्र शर्मा, पूजा वालिया, हेमंत कुमार, राजेश, मयंक, मनीष, हितेश ने टोपी शाल व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। यह संध्या रंगकर्मी सचिन ठाकुर की स्मृति में नाट्य संध्या के रूप में मनाई गई। कार्यक्रम  की शुरुआत शहनाई की मंगल ध्वनि से हुई व इसके बाद हिमाचल में  कत्थक के मशहूर कलाकार दिनेश गुप्ता व लतेश कश्यप द्वारा कत्थक की बेहतरीन प्रस्तुति दी गई। कलाकारों ने देश भक्ति गीत ऐ मेरे वतन के लोगो और कर चले हम फिदा जानो तन साथियों गाकर दर्शकों को देश भक्ति के रंग में सराबोर कर दिया।  अंत में संध्या का मुख्य आकर्षण भीष्म साहनी द्वारा लिखित व उत्तर भारत के मशहूर रंगकर्मी इंद्रराज इंदु द्वारा निर्देशित नाटक माधवी का मंचन रहा।इस नाटक में नारी के अनोखे बलिदान की कथा को बखूबी दर्शाया गया। नाटक में माधवी को उसके पिता ययाति मुनि कुमार गालव की गुरु दक्षिणा को पूरा करने के लिए दान में दे देते हैं। आत्मरति में डूबा मुनी कुमार गालव माधवी के माध्यम से गुरु दक्षिणा को पूरी कर लेता है। गालव की गुरु दक्षिणा को पूरा करने के लिए माधुरी को तीन राजाओं के निवास में रहना पड़ता है और अंत में उसे स्वयं को गालव के गुरु विश्वामित्र को समर्पित करना पड़ता है। अंतर्मन से गालव को प्रेम करने  वाली माधवी का शरीर जब जीर्ण शीर्ण  हो जाता है तो मुनि कुमार गालव उसे अपनाने से मना कर देता है। माधवी अपने निःस्वार्थ प्रेम के लिए अपने यौवन  की आहुुति दे देती है एक ऐसे व्यक्ति के लिए जो केवल स्वयं से प्रेम करता है। इस मार्मिक व बेहतरीन नाटक ने दर्शकों को  भाव विभोर  कर दिया। माधवी की मार्मिक कहानी को देख कोई ऐसी आंख न थी, जो नम न हुई। इसके उपरांत लोक संस्कृति व नाट्य विधा में अमूल्य योगदान के लिए उत्तर भारत के मशहूर रंगकर्मी इंद्रराज इंदु  को इस वर्ष का सुकेत रत्न पुरस्कार दिया गया। इस अवसर पर लोक नृत्य प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार महावीर पब्लिक स्कूल सुंदरनगर व लोकगीत प्रतियोगिता में रजनी प्रथम, राजेश द्वितीय व आशु को तृतीय पुरस्कार मिला। मुख्य अतिथि ने इस आयोजन के लिए अपनी ऐच्छिक निधि से 21000 रुपए देने की घोषणा की। इस अवसर पर सुंदरनगर भाजपा महामंत्री जितेंद्र शर्मा, नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अशोक शर्मा, डाक्टर जेसी शर्मा सुकेत साहित्यिक एवं सांस्कृतिक परिषद से डा. गंगाराम राजी, सुरेंद्र मिश्रा, उत्तम चंद शर्मा, कृष्ण चंद्र, महादेविया नगर परिषद की पूर्व अध्यक्ष गिरजा गौतम, हेमंत शर्मा जय किशन जैक, चेतन कपूर, मनजीत मन्ना, रामपाल मलिक, पवनजीत आदि मौजूद रहे।