Monday, June 01, 2020 01:24 AM

राहत : स्पीति में कोरोना का कोई मरीज नहीं

काजा अस्पताल में एहतियात के तौर पर लिए गए तीनों सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव, सख्ती से हो रही चैकिंग

केलांग - काजा अस्पताल की टीम की ओर से एहतियात के तौर पर  लिए गए तीन  सैंपल की रिपोर्ट बुधवार को प्राप्त हो गई है। तीनों सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। स्पीति क्षेत्र के लिए राहत भरी खबर है।  काजा अस्पताल की टीम ने एहतियात के तौर पर तीन सैंपल लिए थे। इनमें दो व्यक्तियों के सैंपल काजा अस्पताल में लिए गए, जबकि एक सैंपल किब्बर पीएचसी के तहत लिया गया था। खंड चिकित्सा अधिकारी तेंजिन नोरबू के अनुसार एहतियात के तौर पर तीनों सैंपल लिए थे। तीनों सैंपल आईजीएमसी  शिमला भेज दिए गए थे। तीनों की रिपोर्ट मिल चुकी है, तीनों सैंपल नेगेटिव आए हैं। काजा उपमंडल में सात मार्च से लोगों को कोरोना को लेकर जागरूक करने का कार्य स्थानीय प्रशासन ने शुरू कर दिया था। इसके साथ ही जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू का लगाने की घोषणा की थी तो उसका सख्ती से पालन स्पीति क्षेत्र में किया गया। काजा उपमंडल में सबसे पहले सार्वजनिक ऑफिस को सेनेटाइज किया गया। स्पीति के निवासियों ने प्रशासन के सहयोग से लॉक डाउन का पालन किया है। जब लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाया गया तो स्थानीय प्रशासन ने स्पीति को चार जोन में बांट दिया। इसके साथ ही  14 अप्रैल के बाद स्पीति क्षेत्र में आने वाले हर व्यक्ति को होम क्वारंटाइन अनिवार्य किया है। पूरे  स्पीति क्षेत्र को चार जोन में बांट दिया गया है। इसमें ग्यू  ताबो और  डंखर पंचायत (शाम जोन) के नोडल अधिकारी एसडीएम जीवन सिंह नेगी खुरीक, हल और लोसर पंचायत  (तुद जोन) के नोडल अधिकारी एक्स इन मनोज कुमार, किब्बर, लांगचा, काजा, डेमुल, लालूंग पंचायत (सेंट्रल जोन) के नोडल अधिकारी डा. तेंजिन नोरबू बीएमओ और कुंगरी  संगम ( पिन जोन) के नोडल अधिकारी  बीडीओ नियोन धैर्य शर्मा को नियुक्त किया गया है।  समदो  बैरियर पर स्पीति में प्रवेश करने वाले व्यक्ति की चैकिंग हो रही है। साथ ही साथ मेडिकल टीम वहीं पर मेडिकल चैकअप भी कर रही है। इसके बाद हर व्यक्ति को होम क्वारंटाइन अनिवार्य किया है। सुमदो में  कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है, जिसके इंचार्ज बीडीओ काजा नियुक्त किया गया है,  जो कि रोजाना स्पीति आने वाले लोगों की सूची एडीएम बीएमओ और डीएसपी को रोजाना रिपोर्ट भेजेंगे। होम क्वारंटाइन में रह रहे हर व्यक्ति की निगरानी के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को निर्देश दिए हैं कि निगरानी टीम को हर पांच दिन बाद निरीक्षण करना होगा। निगरानी टीम अपनी रिपोर्ट प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से खंड चिकित्सा अधिकारी को सौंपेगी। खंड चिकित्सा अधिकारी हर तीसरे दिन रिपोर्ट सौंपेंगे, जबकि आपातकालीन स्थिति में खंड चिकित्सा अधिकारी दूरभाष के माध्यम से रिपोर्ट दे सकते हैं। खंड चिकित्सा अधिकारी ने होम क्वारंटाइन की निगरानी करने के लिए संबंधित एरिया से पटवारी, पंचायत सचिव, हैल्थ वर्कर और आशा वर्कर की टीम नोडल अधिकारी के अधीन होगी। एडीएम ज्ञान सागर नेगी ने काजा उपमंडल में तीनों सैंपल नेगेटिव आने की पुष्टि की है।