Tuesday, March 31, 2020 07:08 PM

रिकांगपिओ के ग्रामीणों ने जानी बैकिंग

रिकांगपिओ  -शुक्रवार को जिला मुख्यालय रिकांगपिओ में भारतीय रिजर्व बैक व हिमाचल प्रदेश राज्य सहकारी बैंक के सयुक्त तत्त्वावधान में एक वित्तिय साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भारतीय रिजर्व बैंक शिमला शाखा के सहायक प्रबंधक नितिन कुमार नामा ने कहा कि इस वित्तिय  साक्षरता शिविर का मुख्य उदे्शय लोगों विशेष कर महिलाओं व अन्य को बैंको द्वारा विभिन्न केंद्रीय व राज्य योजनाओं के अंतर्गत दी जाने वाली ऋण सुविधओं के बारे में जागरूक करना है। उन्होने कहा कि बैंकों से दी जाने वाली मुद्रा योजना के तहत बिना गारन्टीं व बिना  प्रौसेसिंग चार्ज के ऋण दिया जाता है और इस योजना के तहत ऋण चुकाने की अवधि को पांच साल तक बढ़ाया जा सकता है। उन्होने बताया कि कोई भी व्यक्ति अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए दस लाख तक का ऋण प्राप्त कर सकता है। बैंकों द्वारा सुक्षम व लघु उघोगो को स्थापित करने के लिए दस लाख तक का ऋण बिना जमानत दिया जाता है। नितिन कुमार नामा ने दीनदयाल अंन्तोदय योजना राष्ट्र ग्रामीण आजीविका मिशन के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस कार्यक्रम का मुख्य उद्ेश्य गरीबों विशेष कर महिलाओं को वित्तिय सेवाओं व आजीविका सेवाओं से जोड़ना है। कार्यक्रम के तहत महिला स्वयं सहायता समुह को  व्यवसायिक गतिविधियां चलाने के लिए कम ब्याज दर्रो पर ऋण उपल्बध करवाया जाता है। इस अवसर पर हि0प्र0 राज्य सहकारी बैंक के जिला प्रबंधक गिरद्वारी लाल ने किसान क्रेडिट कार्ड से मिलने वाले लाभ के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस कार्ड के बन जाने पर किसानों व बागबानो को अपनी बागबानी व कृषि गतिविधियों के लिए बैंको द्वारा ऋण  उपल्बध करवाया जाता है उन्होंने कहा कि यह ऋण एक साल के लिए दिया जाता है ताकि किसानो को बीजए कीटनाशकों कृषि व बागबानी गतिविधियों में उपयोग आने वाली सामग्री को खरीदने के लिए कोई कठिनाई न हो उन्होंने कहा कि एक बीघा जमीन पर डेढ लाख तक का ऋण दिया जाता है।