Monday, April 06, 2020 05:41 PM

रेस्ट हाउस में कोलकाता के सैलानी

 रामपुर बुशहर-सरकार के आदेशों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। सरकार ने साफ निर्देश जारी किए थे कि जो भी पर्यटक हिमाचल में आ रहा है वह वापस जाएं और जो पहले से यहां पर आए है वह एक दो दिनों में यहां से निकल जाए। लेकिन इन नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है। रामपुर स्थित ब्रदाश में एक निजी रेस्ट हाउस में पिछले तीन दिनों से 20 से अधिक कोलकत्ता के पर्यटक ठहरे हुए हैं। इतना ही नहीं वह यहां पर खुलेआम घूम भी रहे है, जो कि एक खतरे की घंटी है। वहीं नेपाली मूल के मजदूर ग्रामीण क्षेत्रों में खुलेआम घूम रहे हैं। जबकि ये मजदूर कुछ दिनों में ही यहां पर आए है। ऐसे में इन मजदूरों के यहां पर आने से ग्रामीण दहशत में हैं। दरकाली पंचायत में भी तीन दिन पहले चार नेपाली आए थे, जिनमें दो बीमार चल रहे थे। जिन्हें उपचार के लिए ग्रामीणों ने वहां से भेज दिया। अब वह कहां गए इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। अगर इसी तरह से बाहरी राज्यों के लोग यहां पर पहुंचते रहे तो वह कहीं न कहीं उपमंडल या फिर जिला के परिधि क्षेत्र में तैनात पुलिस की चूक मानी जाएगी, लेकिन इसका भुगतान आम लोगों पर भारी पड़ सकता है। उक्त निजी रेस्ट हाउस के मालिक का कहना है कि इस बारे में प्रशासन को सूचित किया जा चुका है। वहीं पुलिस को भी इस बात की जानकारी है। हैरानी इस बात की है कि इनमें से कई पयर्टक रामपुर में घूमते पाए गए है। सोमवार को ये पयर्टक रामपुर में कई जगह पर घूमते दिखे, जिससे लोगोें ने नोटिस किया और इस बात की जानकारी मीडिया तक पहुंचाई कि कुछ बाहरी पर्यटक यहां पर घूम रहे हैं जबकि पर्यटकों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया जा चुका है। ऐसे में कहीं न कहीं सरकार के नियमों की अवहेलना की जा रही है।