Wednesday, August 21, 2019 04:20 AM

रेहड़ी-फड़ी वालों ने दिया धरना

आनी -आनी में एनएच किनारे से हटाए गए रेहड़ी-फड़ी संचालकों और प्रशासन द्वारा अवैध कब्जे हटाने को लेकर भेजे गए नोटिस से घबराए खोखा संचालकों ने अपनी मांगों को लेकर मंगलवार को एसडीएम कार्यालय के बाहर शांतिपूर्ण तरीके से धरना दिया। इस धरने की अगवाई जिला ओरिषद सदस्य एवं माकपा नेता लोकेंद्र कुमार और सीटू नेता पद्म प्रभाकर ने की।  प्रदर्शनकारियों के खनाग है कि सरकार और सरकार का तंत्र बेवजह गरीब लोगों को उजाड़ने में लगा है, जिसके तहत ही गक्त सप्ताह एनएच किनारे से रेहड़ी-फड़ी वालों को हटाया गया और अब प्रशासन द्वारा 50 खोखा मालिकों को अवैध कब्जा छोड़ने और उसे हटाने के नोटिस भेजे गए हैं। यूनियन ने मांग की है कि सरकार और प्रशासन के लोग मिलकर कमेटी का गठन करके खोखों और  रेहड़ी वालों को कोई जगह सुनिश्चित करें, ताकि लोग अपनी आजीविका कमा सकें। उन्होंने उपमंडलाधिकारी से बात की कि जब तक प्रशासन कोई कमेटी घटित नहीं करता है, तब तक गरीब लोगों को बेवजह तंग न करें। इसके अलावा रेहड़ी-फड़ी और खोखा संचालकों ने अपनी तीन सूत्री मांग उपमंडलाधिकारी के समक्ष रखी। जिनमें खोखा धारकों को नियमित करने के लिए तुरंत कमेटी का निर्माण किए जाने नेशनल हाई-वे  किनारे आजीविका कमा रहे लोगो को जगह सुनिश्चित किए जाने बारे और पंचायत व राजस्व विभाग मिलजुलकर कमेटी का जल्द निर्माण करें, ताकि भविष्य में इन गरीब लोगों के लिए कोई बेहतर नीति का निर्माण किया जा सके और इनकी आजीविका पर ग्रहण न लगे। कमेटी के गठन के लिए उमंडलधिकारी को अगस्त माह का समय दे दिया गया। साथ ही चेताया कि यदि प्रशासन ढिलाई बरतता है तो मजबूर होकर इन तमाम लोगों को एकजुट होकर उग्र आंदोलन करना पड़ेगा और जब तक प्रशासन पंचायत किसी बेहतर निर्णय पर नही पहुंचती है तब तक किसी को भी न उजड़ा जाए। इस धरने में विजय, नीट, सीता राम, पदम सिंह, रिशु, सत्य प्रकाश, डावे राम,  मंगल सिंह, नंदु, मोती राम, मोहिंद्र सिंह, तारा चंद आदि लोगों ने भाग लिया।