Saturday, April 20, 2019 01:45 PM

रोजगार के खोलेेंगे द्वार… नशे पर करेंगे वार

युवाओं ने हिमाचल में मौका मिलने पर भ्रष्टाचार व बेरोजगारी को जड़ से खत्म करने की बात कही है, तो वहीं क्वालिटी एजुकेशन पर अधिक फोक्स करने के विचार भी सांझा किए हैं । इसी पर कांगड़ा की राय जान रहा है प्रदेश का अग्रणी  मीडिया ग्रुप ‘दिव्य हिमाचल’ .....

विनोद कुमार, धर्मशाला

पर्यटन विकास-विद्युत उत्पादन को देंगे बढ़ावा

अपूर्वा राणा का कहना है कि प्रदेश में पर्यटन और ऊर्जा के क्षेत्र में बहुत अधिक स्कोप है। उन्हें प्रदेश में बदलाव करने का मौका मिलता है, तो वह पर्यटन विकास व विद्युत उत्पादन को बढ़ाकर प्रदेश के सिर पर अब तक 50 हजार करोड़ के कर्ज को भी समाप्त करना चाहेंगी।

प्रदेश में बेरोजगारों को देंगे रोजगार

धर्मशाला के राहुल का कहना है कि प्रदेश में बेरोजगारी उन्हें काफी दुखद लगती है। उन्हें मौका मिलने पर प्रदेश में युवाओं को रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ने की मुहिम शुरू करेंगे। साथ ही सरकारी तंत्र में रोजगार मिलने वाले लोगों को उनके काम के प्रति ईमानदार होकर कार्य करवाने के लिए भी प्रेरित करेंगे।

भ्रष्टाचार करेंगे खत्म

धर्मशाला शहर के युवा पकंज कुमार का कहना है कि प्रदेश में भ्रष्टाचार पूरी तरह से फैल चुका है। सरकारी तंत्र, नेताओं व अधिकारियों से लेकर कर्मचारियों तक भ्रष्टाचार की आदत पड़ चुकी है। उन्हें मौका मिला तो वह प्रदेश की युवा पीढ़ी के साथ मिलकर भ्रष्टाचार को जड़ से समाप्त करने के लिए प्रयास करेंगे।

सरकारी स्तर पर देंगे क्वालिटी एजुकेशन

स्मार्ट सिटी के साहिल का कहना है कि प्रदेश में शिक्षा के नाम पर राजनीति और बिजनेस का दौर चल रहा है, जो कि उन्हें बहुत अधिक चुभता है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के निजीकरण को रोककर वह सरकारी स्तर पर क्वालिटी एजुकेशन शुरू करेंगे।

हिमाचल से नशे का करेंगे पूरी तरह खात्मा

धर्मशाला शहर के मुनीष का कहना है कि प्रदेश में ड्रग माफिया अपने पांव पसार चुका है। उन्होंने कहा कि बड़े कारोबारियों के चलते युवा पीढ़ी भी नशे की चपेट में आ रही है। ऐसे में उन्हें मौका मिलने पर वह पूरी तरह से प्रदेश को नशामुक्त करने का प्रयास करेंगे।

सरकारी तंत्र को सुधारूंगा

शहर के युवा सोनू डोगरा का कहना है कि पहाड़ी राज्य में सरकारी तंत्र में व्यापक सुधार करने की जरूरत है। प्रदेश में उन्हें सुधार का मौका मिले, तो वह सरकारी तंत्र में सुधार करना चाहेंगे। सरकारी तंत्र में एक फाइल जमा करवाने के बाद भी वह घूमती ही रहती है, लेकिन ऐसा सिस्टम होना चाहिए कि सिंगल विंडो में ही सभी काम निपटने चाहिएं। इससे गरीब व्यक्ति को भी अपने काम करवाने के लिए अधिक न भटकना पड़े।  प्रदेश में खेल की प्रतिभाएं भी छिपी हुई हैं, जिसे खोज कर तराशने की जरूरत है।