Tuesday, March 31, 2020 07:24 PM

रोहतांग की बर्फबारी ने रोकी लाहुल की उड़ान

केलांग -खराब मौसम ने जनजातीय जिला की हवाई उड़ानों पर एक बार फिर ब्रेक लगा डाली है। लाहुल-स्पीति के लिए हेलिकाप्टर की उड़ान न हो पाने से कबायलियों की दिक्कतें भी बढ़ती नजर आ रही है। जनवरी माह में ही जनजातीय जिला की करीब आधा दर्ज उड़ाने खराब मौसम की भेंट चढ़ गई हैं। लिहाजा अब लाहुल-स्पीति के लोगों को मौसम के साफ होने का इंतजार है। जानकारी के अनुसार मंगलवार को भुंतर हवाई अड्डे से लाहुल के स्टींगरी के लिए हेलिकाप्टर की उड़ान होनी थी, लेकिन रोहतांग दर्रे पर बर्फबारी के दौर ने हेलिकाप्टर की उड़ान को होने नहीं दिया। ऐसे में उड़ान समिति को स्टींगरी की उड़ान को रद्द करना पड़ा। बुधवार को जहां भुंतर हवाई अड्डे से हेलिकाप्टर की उड़ान किलाड़ चंबा के लिए भरी जानी है, वहीं यह उड़ान भी मौसम पर ही निर्भर रहेगी। उड़ान समिति के प्रभारी अशोक कुमार ने बातया कि मंगलवार को रोहतांग दर्रे पर हो रही भारी बर्फबारी के कारण हेलिकाप्टर की उड़ान रद्द करनी पड़ी। उन्होंने बताया कि बुधवार को किलाड़ की उड़ान भी तबी हो पाएगी जब घाटी का मौसम साफ रहेगा। उल्लेखनीय है कि जनजातीय जिला के लोगों के लिए जहां प्रदेश सरकार का हेलिकाप्टर ही घाटी में पहुंचने व यहां से बाहर जाने का एक मात्र साधन है। ऐसे में जनजातीय जिला की हवाई उड़ाने भी जहां खराब मौसम की भेंट चढ़ रही हैं, वहीं लोगों को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जीएडी द्वारा जहां जनजातीय जिला की उड़ानों का शेड्यूल तो जारी कर दिया जा रहा है, लेकिन कुल्लू-मनाली सहित रोहतांग दर्रे का खराब मौसम हेलिकाप्टर को उड़ान भरने नहीं दे रहा है। खराब मौसम के कारण लगातार रदद हो रही लाहुल-स्पीति की उड़ानों से जनजातीय जिला के लोग भी कुल्लू-मनाली में फंसे हुए हैं। ऐसे में अब लोगों को मौसम के साफ होने का इंतजार है। मंगलवार को भी लाहुल के लिए जहां हेलिकाप्टर की एक उड़ान होनी थी, वहीं यह उड़ान भी खराब मौसम की भेंट चढ़ गई। भुंतर हवाई अड्डे से लाहुल के लिए भरी जा रही हेलिकाप्टर की उड़ानों को लेकर कबायली अब इंद्र देव से यही प्रार्थना कर रहे हैं कि अगामी कुछ दिनों तक घाटी का मौसम साफ रहे और वह असानी से अपने घर पहुंच सके। बहरहाल मंगलवार को रोहतांग दर्रे की भारी बर्फबारी ने लाहुल के लिए हेलिकाप्टर की उड़ान को होने नहीं दिया।