Tuesday, September 17, 2019 04:51 PM

लाइसेंस में एसडीएम के फर्जी साइन

शिमला में फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस का सामने आया मामला, छह-सात लाइसेंस में फर्जीं हस्ताक्षर

शिमला -राजधानी शिमला में फर्जी ड्राईविग लाईसेंस बनाने का मामला प्रकाश मे आया है। इसमें शातिरों ने  एसडीएम के फर्जी हस्ताक्षर कर ड्राइविंग लाइसेंस बनाने का प्रयास किया है। मामले को पकडने के बाद एसडीएम  शहरी नीरज चांदला ने इसकी पुलिस को शिकायत दी है। शिकायत मिलने पर  पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है। एसडीएम शहरी नीरज चादंला ने बताया कि  उनके कार्यालय में छह- सात लाइसेंस पर उनके फर्जी हस्ताक्षर हैं। छानबीन के बाद पता चला है कि उक्त आवेदकों ने ड्राइविगं टेस्ट भी नहीं दिया है। मामला प्रकाश में आने के बाद  से डीसी आफिस ही नहीं, बल्कि इस काम से जुड़े सभी कर्मचारियों में हड़कंप मचा है। शिमला में फर्जी लाइसेंस बनाने का कोई रैकेट ही तो काम नहीं कर रहा है। इसकी संभावना पर प्रशासन काम कर रहा है। एसडीएम शिमला शहरी की शिकायत पर पुलिस धोखाधड़ी सहित विभिन्न आपराधिक धाराओं के तहत केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। बताते चले कि ड्राइविंग लाइसेंस अब आनलाइन बनते हैं। लाइसेंस अंतिम मंजूरी के लिए जब एसीडीएम के पास पहुंचे तो उन्हें अपने हस्ताक्षर सही नहीं लगे। आशंका पर जब उन्होंने  पूरे प्रोसेस को जांचा तो पता चला कि इसमें कईर् लाइसेंस फर्जी है। एसडीएम शहरी नीरज चांदला ने बताया कि उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस को दे दी है। लाइसेंस कैंसिल कर दिए गए है।

लाइसेंस बनाने वाले शक के घेरे में

मामला प्रकाश में आने के बाद लाईसेंस बनाने वाले शंक के घिरे में है। अदेशा लगाया जा रहा  है कि शहर में लाइसेंस बनाने के काम से जुड़े कुछ लोग ऐसा कर सकते हैं। ये लोगों से लाइसेंस बनाने के एवज में पैसे लेते हैं। इस कमाई के धंधे को बढानें के लिए हस्ताक्षर भी खुद करने लगे हैं। शिमला आरटीओ  में पहले भी ऐसा मामला आ चुका है। एक आवेदक ने लाइसेंस बनाने वाले के नाम का किया खुलासा मामला प्रकाश में आने के बाद जब एसडीएम ने मामले की छानबीन शुरू की तो डराने पर एक आवेदक ने किसी लाईसेंस बनाने वाले का नाम लिया है। इसकी पुष्टि एसडीएम शहरी नीरज चांदला ने की है। उन्होंने बताया कि इस बाबत पुलिस को पूरी स्थिति से अवगत करवा दिया गया है।