Monday, June 01, 2020 02:33 AM

लापता किसान को तलाशेगी विदेशी रेस्क्यू टीम

प्रशासन के आग्रह पर अटल टनल से आज लाहुल पहुंचेगा दल, हफ्ते से मोर्चे पर डटे हैं आईटीबीपी-पुलिस जवान

केलांग-ग्लेशियर के मलबे में लापता हुए लाहुल के किसान की तलाश के लिए लाहुल-स्पीति प्रशासन ने अटल टनल के निर्माण कार्य में जुटी विदेशी कंस्ट्रक्शन कंपनी एफकॉन की रेस्क्यू टीम को लाहुल बुलाया है। बताया जा रहा है कि इस टीम में कुछ लोग ऐसे हैं, जिन्हें बर्फ में सर्च आपरेशन चलाने व रेस्क्यू आपरेशन को अंजाम देने में महारथ हासिल है। यही नहीं इस टीम के पास आधुनिक उपकरण भी हैं, जिसके माध्यम से बर्फ के निचे दबी चीजों का असानी से पता लगया जा सकता है। प्रशासन को उम्मीद है कि पिछले सात दिनों से ग्लेशियर के मलबे में की जा रही किसान की तलाश अब अंजाम तक पहुंचेगी। एसडीएम केलांग अमर नेगी ने खबर की पुष्टि की है। उनका कहना है कि बरगुल में खेतों में काम करने जा रहे किसान जहां गत दिन पहले हिमखंड की चपेट में आ गया था, वहीं प्रशासन ने घटना का पता चलते ही युद्ध स्तर पर किसान को तलाशने का कार्य शुरू कर दिया था। उन्होंने बताया कि लाहुल में इस दौरान जहां ताजा बर्फबारी हो जाने से सर्च आपरेशन का कार्य जहां प्रभावित हुआ है, वहीं अब प्रशासन ने यह निर्णय लिया है कि अटल टनल के निर्माण कार्य को अंजाम दे रही एफकॉन कंपनी के रेस्क्यू टीम की मदद ली जाए। उन्होंने कहा कि उक्त टीम के लोगों को जहां बर्फ में रेस्क्यू व सर्च आपरेशन चलाने में महारथ हासिल है, वहीं उनके पास आधुनिक उपकरण भी हैं। उन्होंने कहा कि एफकॉन कंपनी के रेस्क्यू टीम अटल टनल से होते हुए लाहुल पहुंचेगी। उन्होंने बताया कि पहले यह टीम बीते शनिवार को ही मनाली से लाहुल पहुंचने वाली थी, लेकिन बर्फबारी के कारण टीम लाहुल नहीं पहुंच सकी। उन्होंने बताया कि बरगुल में अभी भी हिमखंड के गिरने की संभावना बनी हुई है। ऐसे में प्रशासन खराब मौसम को ध्यान में रख लोगों की जिंदगी को खतरे में नहीं डाल सकता, लिहाजा मौसम के खुलते ही उक्त टीम को लाहुल पहुंचा दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अगर मौसम साफ रहा तो सोमवार को उक्त टीम बरगुल में पहुंच अपना सर्च आपरेशन शुरू कर देगी। उल्लेखनीय है कि 13 अप्रैल को लाहुल के बरगुल गांव में खेतों में काम करने जा रहा एक किसान हिमखंड गिरने से बर्फ में जिंदा दफन हो गया था। प्रशासन ने घटना की सूचना मिलते ही जहां किसान को तलाशने व बर्फ  से बाहर निकालने का रेस्क्यू अभियान शुरू कर दिया था, वहीं अभी तक रेस्क्यू टीम को सफलता  हाथ नहीं लग पाई है। यहां बतादें कि लाहुल में हिमखंड गिरने की यह कोई नई घटना नहीं है, लेकिन हिमखंड की चपेट में ग्रामीण के आने से क्षेत्र के लोगों में हड़कंप का माहौल पैदा हो गया है। लाहुल-स्पीति के तापमान में बढ़ोतरी होने के साथ ही घाटी में हिमखंडों के गिरने की संभावनाएं भी काफी बढ़ गई हैं। हलांकि प्रशासन स्थानीय लोगों से बार-बार यही आग्रह कर रहा है कि सुरक्षित स्थलों पर ही रहें और खेतों में काम करने जाते समय हिमखंडों का विशेष ध्यान रखें। हिमखंड की चपेट में आए बरगुल के किसान राजेंद्र की तलाश पिछले सात दिनों से लगातार जारी है, लेकिन प्रशासन की हर कोशिश नकामयाब हो रही है। खराब मौसम जहां रेस्कयू अभियान के लिए चुनौती बना हुआ है, वहीं अब प्रशासन ने अटल टनल का निर्माण कार्य कर रही एफकॉन कंपनी की रेस्क्यू टीम को भी लाहुल बुलाया है। ऐसे में लोगों को उम्मीद है कि बर्फ में दबे किसान को तलाश लिया जाएगा। हलांकि हिमखंड की चपेट में आए किसान की तलाश में पुलिस जवान, आईटबीपी के जवानों के साथ  मूलिंग और शिपटिंग गांवों के लोग भी डटे हुए हैं, लेकिन अभी तक कोई भी कामयाब नहीं हो सका है।