Wednesday, April 24, 2019 05:23 AM

लाहुल में सरकार के खिलाफ नारे

हवाई उड़ानों-बंद सड़कों को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बोला हल्ला, किया प्रदर्शन

केलांग—शीत मरुस्थल में अब राजनीतिक माहौल गरमाने लगा है। यहां पर एक तरफ जहां लोकसभा की तैयारियां प्रशासन ने जारों पर चला रखी हंै, वहीं कांग्रेस ने भाजपा को घेरने का भी पूरा बंदोबस्त कर डाला है। मंगलवार को जिला मुख्यालय केलांग में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बंद पड़ी सड़कें, ठप पड़ी दूरसंचार व्यवस्था और हेलिकाप्टर की नियमित उड़ाने लाहुल के लिए न होने को लेकर सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाए। केलांग में लाहुल-स्पीति कांग्रेस द्वारा निकाली गई विरोध रैली में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एक तरफ जहां स्थानीय विधायक को निशाने पर ले क्षेत्र में विकास न करवाने का आरोप जड़ा, वहीं कार्यकर्ताओं ने भाजपा के मंडी संसदीय क्षेत्र से लोकसभा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा पर भी वादाखिलाफी के आरोप जड़े। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि सांसद पांच साल के कार्यकाल में कितने बार लाहुल आए यह सभी को पता है। उन्होंने कहा कि सांसद ने तो लाहुल-स्पीति क्षेत्र की अनदेखी की ही है, लेकिन सरकार ने भी इस क्षेत्र की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया। लिहाला लाहुल के लोगों को दिक्कतें झेलने को मजबूर होना पड़ रहा है। पार्टी कार्यकर्ताओं ने कहा कि आज लोगों को अपने हक पाने के लिए मजबूर हो कर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करना पड़ रहा है। मंगलवार को केलांग में लाहुल-स्पीति कांग्रेस ने उक्त मुद्दों को लेकर विरोध रैली जहां निकाली, वहीं जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त लाहुल-स्पीति के माध्यम से चुनाव आयोग को ज्ञापन प्रेषित किया। सड़कें बंद होने के बाबजूद रैली भारी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता और पंचायत प्रतिनिधि शामिल हुए। रैली को संबोधित करते हुए जिला कांग्रेस अध्यक्ष ग्यालसन ठाकुर ने कहा कि लाहुल घाटी की चंद्रा, तोद, पट्टन और मयाड़ घाटी में पिछले अढ़ाई महीनों से टेलीफोन सेवा ठप है, जबकि घाटी के 50 फीसदी गांव अब भी अंधेरे में है, वहीं तमाम सड़कें बंद होने से जनजातीय जिला के लोग मार्च महीने में भी अपने घरों में कैद हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान भाजपा सांसद ने जनजातीय के लोगों को पांच सालों तक ठगा है। कांग्रेस प्रवक्ता अनिल सहगल ने कहा कि स्थानीय विधायक और कृषि मंत्री डा. रामलाल मार्कंडेय जनजातीय लोगों की मूलभूत समस्याओं को निपटाने में पूरी तरह नाकाम रहे हैं। उन्होंने कहा कि हेलिकाप्टर की नियमित उड़ाने न हो पाने से मरीजों और कर्मचारियों को अपने खर्चे पर निजी चौपर की मदद लेनी पड़  रही है। सहगल ने कहा कि लंबे समय से कृषि मंत्री का लाहुल-स्पीति से बाहर हैं। वह नंबवर माह के बाद घाटी में नहीं आए। उन्होंने कहा कि आज वह मीडिया में लाहुल के लोगों की समस्याआंे की बात तो कर रहे हंै, लेकिन घाटी में हालात क्या बने हुए हैं उसे वह नहीं जानते। जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष शशि किरण ने कहा कि चुनावी साल में जनता का यह हाल है, तो चुनाव जीतने के बाद क्या होगा इसका जनता को एहसास हो गया है। किरण ने कहा कि पिछले कई महीनों से जनजातिय लोग बिना मूलभूत सुविधाओं के बर्फ के बीच जिंदगी से जूझ रहे हैं, लेकिन कृषि मंत्री और सांसद रामस्वरूप ने लोगों का हाल चाल जानना तक उचित नहीं समझा।

मांगें न मानी तो करेंगे आंदोलन

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय केलांग में निकाली रैली में जमकर सरकार और प्रशासन के खिलाफ  नारे लगाए। कांग्रेस ने ऐसे हालात में चुनाव आयोग से मांग की है कि लाहुल के 70 फीसदी वोटर घाटी से बाहर हैं, उन्हें रोहतांग टनल होकर पैदल आवाजाही की इजाजत दी जाए। ज्ञापन में कांग्रेस ने अल्टीमेटम दिया है कि एक सप्ताह के भीतर उनकी मांगें पूरी नहीं हुई, तो पार्टी उग्र आंदोलन करने को मजबूर होगी। रैली में पीसीसी के पूर्व सचिव नोरबू बौद्ध, पमा राम, केलांग ब्लॉक अध्यक्ष नोरबू पांस समेत पंचायतों के प्रधान और उपप्रधान मौजूद रहे।