Monday, July 22, 2019 01:23 PM

लाहुल-स्पीति खर्च ही नहीं कर पाया करोड़ों का बजट

केलांग—जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति में सरकार द्वारा जारी करोड़ों रुपए का बजट ही अधिकारी समय पर खर्च नहीं कर पाए हैं। लिहाजा जनजातीय क्षेत्र को जारी एक करोड़ 42 लाख रुपए सहित मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत 58 हजार रुपए की राशि लैप्स हो गई है। यह खुलासा जिला स्तरीय परियोजना सलाहकार समिति लाहुल-स्पीति की बैठक में हुआ है। मंत्री डा. रामलाल मार्कंडेय बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। मंत्री के समक्ष जब यह मामला आया तो उन्होंने इसको लेकर अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई साथ ही आदेश जारी कर दिए हैं कि कोई भी अधिकारी बिना प्रार्थना पत्र दिए अपना स्टेशन नहीं छोड़ेगा, वहीं मंत्री ने बैठक में शामिल न होने वाले अधिकारियों को भी नोटिस जारी करने के आदेश जारी किए हैं। उन्होंने कहा कि अधिकारियों की लापरवाही किसी भी सूरत में सहन नहीं होगी। उन्होंने साफ  कहा कि अधिकारी जनजातीय क्षेत्रों में कामों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। यह एक करोड़ रुपए की राशि पेजयल, सड़क निर्माण और अन्य जनहित कार्यों में खर्च होनी थी। अधिकारी मौसम खराब होने या इंटरनेट आदि न चलने के बहाने न बताएं। मंत्री ने कहा कि सबसे बड़ी बात यह है कि अधिकारी फील्ड तक जाते ही नहीं हैं तथा यही कारण है कि आज बजट होने के बावजूद लोगों को सुविधा नहीं मिली।  बजट लैप्स होना बड़ी चूक है।

वन विभाग के पौधारोपण की होगी जांच

बैठक में जब वन विभाग ने अपने पौधारोपण के आंकड़े सामने रखे तो मंत्री उस पर भी तल्ख दिखे। विभाग के अधिकारियों का कहना था कि 60 हजार 140 पौधे लगाए गए हैं, लेकिन मंत्री इससे संतुष्ट नहीं दिखे। उन्होंने कहा कि इतने अधिक पौधे अलग लगाए गए हैं तो इसका रिजल्ट भी आना चाहिए। उन्होंने बैठक में पौधारोपण की जांच के आदेश जारी कर दिए।