Thursday, July 09, 2020 11:58 PM

लिपिक के समान दिया जाए वेतन

नाहन-विभिन्न सरकारी विभागों में कार्यरत जेएओ यानी कनिष्ठ कार्यालय सहायकों ने पदोन्नित नियमों मे संशोधन की प्रदेश सरकार से मांग की है। जूनियर आफिस एसिसटेंट का कहना है कि प्रदेश सरकार ने पदोन्निती नियमों में नियमित होने के पांच वर्ष बाद भी उन्हें 5900, 20000, 1950 के मासिक वेतन देने का ही प्रावधान रखा है। वहीं उस पर जेओए कैडर का 50 प्रतिशत ही कर्मचारियों को जूनियर अस्सिटेंट पर प्लेसमेंट देने का प्रावधान किया गया है। जो कि जूनियर आफिस अस्सिटेंट वर्ग के साथ अन्याय है। जिला सिरमौर के जेओए दलीप सिंह, नरेश पोजटा, सुरेंद्र राणा इत्यदि पदाधिकारियों ने कहा कि जेओए को लिपिकों के विरुद्ध रिक्त पड़े पदों से भरा गया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों में सैकड़ों जेओए लिपिकों की तर्ज पर ही विभागों में अपनी सेवाएं दे रहे है। लिहाजा प्रदेश सरकार इस असमानता पर निर्णय लेकर हमे भी लिपिकों के समान वेतनमान देने का निर्णय ले। वहीं कहा गया है कि यदि जेओए की यह जायज मांगें नही मानी गई तो आंदोलन का रास्ता अख्तियार किया जाएगा।

 

The post लिपिक के समान दिया जाए वेतन appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.