Wednesday, July 08, 2020 12:24 PM

लॉकडाउन…डाढ़ में फंसे 17 प्रवासी

श्रीचामुंडा नंदिकेश्वर धाम के साथ लगते गांव में मेला लगाने के लिए आए थे पंजाब के सरदार

श्रीचामुंडा - श्री चामुंडा नंदिकेश्वर धाम के साथ लगते गांव डाढ़ में 17  प्रवासी सरदार मेला लगाने के लिए हिमाचल प्रदेश में  पंजाब के अलग-अलग स्थानों से यहां पर हर साल की भांति आए हुए थे, जो मेला लगाकर साल भर के लिए अपने परिवार का पालन पोषण इन्ही मेलों से करते हैं, परंतु सुजानपुर मेले के दौरान मेला कमेटी सदस्य तथा प्रशासन ने उन्हें अपना  सामान समेट कर अपने घर जाने की सलाह दी,  परंतु ओंकार सिंह का कहना है कि लाखों रुपए का सामान इतनी जल्दी  इकट्ठा नहीं किया जा सकता था और न ही समय पर किसी गाड़ी का प्रबंध न होने के कारण हमें हमारे साथी जो की डाढ़ में काफी सालों से रह रहे हैं, उनसे संपर्क साधा जो कि हमारे साथ मेला लगाने का काम करते हैं, क्योंकि प्रदेश सरकार ने देश तथा  प्रदेश में लॉकडाउन कर दिया था, जिसके चलते कि हम अपने घर वापस न जा सके। कुछ दिनों तक जो हमारे पास जो पैसे थे और उसे हम खाने-पीने की समान लेते रहे, परंतु अभी हमारे पास खाने-पीने की कोई व्यवस्था नहीं थी, जिसके चलते  समाजसेवी घनश्याम वर्मा ने मंदिर अधिकारी सुमन धीमान से बात कर हमें दो-तीन दिन का राशन उपलब्ध करवाया, वहीं स्थानीय प्रधान सरला देवी व उपप्रधान ओंकार चंद ने भी स्थानीय लोगों की मदद से राशन मुहैया करवाया जा रहा है।  ओंकार सिंह का कहना है कि एक-दो दिन तक तो हमारा  यह खाने-पीने का काम तो हो जाएगा, परंतु तीन दिन के बाद हमें  भूखे मरने की नौबत आ जाएगी । हमारी प्रशासन से यह मांग है कि हमें हमारे घर भेजा जाए  या हमारे खाने पीने की व्यवस्था की जाए, जिसके चलते पालमपुर के नायव तहसीलदार शशि शर्मा उनके पास समय समय पर जाकर उनके खाने पीने की व्यवस्था कर रहे हैं। शशि शर्मा का कहना है कि यह 17 लोग पंजाब प्रांत के विभिन्न स्थानों लुधियाणा, होशियारपुर खरड़ व पटियाला आदि से हैं।