Monday, April 06, 2020 06:16 PM

लॉकडाउन में मददगार बने ‘इंद्रदेव‘

बारिश ने रोके बाहर निकल रहे लोगों के कदम, कोरोना के डर से सहमे

पालमपुर-कोविड-19 को लेकर प्रदेशमें लागू किए गए लॉकडाउन के आदेशें के बावजूद बहुत से लोगों के बेवजह सड़कों पर उतरने से परेशान पुलिस-प्रशासन के लिए इंद्रदेव मददगार सबित हुए। प्रदेश के अनेक स्थानों पर मंगलवार को हुई बारिश  से सड़कों पर पहुंचने वाले लोगों की संख्या में कुछ कमी जरूर आई। हालांकि इसके बावजूद एहतियातन प्रदेश भर में षाम पांच बजे से कर्फ्यू लगा दिया गया। मंगलवार सुबह से ही अनेक स्थानों से यह समाचार आ रहे थे कि लॉकडाउन की अवेहलना करते हुए लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं। ऐसे में बारिश प्रशासन के लिए राहत लेकर आई और सड़कों पर पहुंचने वाले लोगों की तादाद पर थोड़ा-बहुत अंकुश लगा। उधर, मार्च माह में इंद्रदेव प्रदेश पर प्रसन्न नजर आ रहे हैं। 24 मार्च तक प्रदेश में सामान्य से 37 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की जा चुकी है। जिला सिरमौर में 336 प्रतिशत ज्यादा बारिश दर्ज की जा चुकी है और औसत 38.3 मिमी की तुलना में यहां बारिश का आंकड़ा 166.8 मिमी तक जा पहुंचा है। जिला कांगड़ा में बारिष का आंकड़ा 165.9 मिमी रहा है जो कि सामान्य 66.2 मिमी से 151 प्रतिषत अधिक है। जिला बिलासपुर में बारिश का ग्राफ 165.1 मिमी तक जा पहुंचा है, जो औसत 49 मिमी से 237 प्रतिशत अधिक है। इसके अलावा जिला हमीरपुर में 159.5 मिमी, जिला चंबा में 151.7 मिमी, जिला कुल्लू में 151 मिमी और जिला ऊना में 125.5 मिमी बारिश दर्ज हुई है। सिर्फ दो जिलों में बारिष का ग्राफ अब तक 100 मिमी के आंकड़े तक नहीं पहुंच पाया है। जिला लाहुल-स्पीति में सबसे कम 33.5 मिमी बारिश हुई है, जो औसत 129.9 मिमी से 74 प्रतिशत कम है। वहीं जिला किन्नौर में सामान्य से 44 प्रतिशत कम बारिश हुई और सामान्य 92.9 मिमी के मुकाबले अब तक केवल 52.5 मिमी बारिश दर्ज की गई है।