Monday, November 18, 2019 05:22 AM

लोकसभा चुनाव के लिए लाहुल-स्पीति तैयार

केलांग—जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के लिए तैयार कर लिया गया है। यहां मौजूद विश्व का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र टशीगंग चुनाव के लिए पुरी तरह तैयार कर लिया गया है। यही नहीं लाहुल-स्पीति के 92 मतदान केंद्रों में जहां तैनात किए गए पुलिस जवानों को प्रशासन द्वारा वायरलेस सेट मुहैया करवाए गए हैं, वहीं चुनाव की पल-पल की जानकारी भी प्रशासन इसी माध्यम से लाहुल-स्पीति के विभिन्न पोलिंग स्टेशनों से जुटाएगा। लाहुल-स्पीति के दो पोलिंग स्टेशन ऐसे हैं, जहां पोलिंग पार्टियों को पहुंचने के लिए बर्फ के बढ़े-बढ़े ग्लेशियरों को पैदल पार करना पड़ा है। इनमें एक नैनगार व दूसरा मियाड़ घाटी में स्थित है। यहां पोलिंग पार्टियों को दो से अढ़ाई किलोमीटर पैदल रास्ता बर्फ के बीच तय करना पड़ा है। इसी तरह योचे पोलिंग स्टेशन तक पहुंचने के लिए भी एक किलोमीटर तक पैदल सफर करना पड़ रहा है। लाहुल-स्पीति प्रशासन का कहना है कि जिला में मौजूद सभी पोलिंग स्टेशनों तक की सड़कों से जहां बर्फ को हटा दिया गया है, वहीं दो पोलिंग स्टेशनों के लिए दो से अढ़ाई किलोमीटर पैदल चलना पड़ रहा है। लिहाजा लोकतंत्र के इस महापर्व में जहां रविवार को लाहुल-स्पीति मतदान करेगा, वहीं प्रशासन ने कुछ खास तैयारियां भी कर रखी हैं। चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों अनुसार हर पोलिंग स्टेशन में दिव्यांग व्यक्तियों के लिए व्हीलचेयर की व्यवस्था की गई है, जबकि दो पोलिंग स्टेशनों को संचालन ही महिलाएं कर रही हैं। उपायुक्त लाहुल-स्पीति अश्वनी कुमार चौधरी ने बताया कि लोकसभा चुनाव को लेकर प्रशासन ने तैयारियां पुरी कर ली हैं। उन्होंने बताया कि जिला में 92 मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं और सभी पोलिंग स्टेशनों पर चार कर्मियों के साथ दो पुलिस जवानों को तैनात किया गया है।

विश्व के सबसे ऊंचे मतदान केंद्र टशीगंग में वोटिंग

हिमाचल प्रदेश के मंडी संसदीय क्षेत्र का टशीगंग मतदान केंद्र विश्व का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र है, जिसकी उंचाई 15256 फुट है और इस मतदान केंद्र में कुल 49 मतदाता हैं। इसमें 29 पुरुष व 20 महिलाएं हैं। गौरतलब है कि इतनी ऊंचाई पर यह मतदान केंद्र पहली बार मतदाताओं के लिए तैयार किया गया है। पहले यह मतदान केंद्र कम ऊंचाई वाले सामुदायिक भवन में था। बरसात से सामुदायिक भवन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था। अब इसे राजकीय प्राथमिक स्कूल टशीगंग के भवन में स्थापित किया गया है।

अढ़ाई किलोमीटर पैदल योचे पहुंचे डीसी

उपायुक्त लाहुल-स्पीति अश्वनी कुमार ने शनिवार को पांच पोलिंग स्टेशनों का जायजा लिया। इन पोलिंग स्टेशनों में चुनावी व्यवस्था को जांचने के लिए उपायुक्त लाहुल-स्पीति अश्वनी कुमार चौधरी सबसे पहले योचे पोलिंग स्टेशन पहुंचे। बर्फ के ग्लेशियर में करीब अढ़ाई किलो मीटर पैदल चल उपायुक्त उक्त पोलिंग स्टेशन पर पहुंचे। पोलिंग स्टेशन में जहां उपायुक्त ने व्यवस्थाओं को जांचा, वहीं पोलिंग पार्टी के साथ नियमों को लेकर चर्चा भी की। उपायुक्त ने दारचा, रारिक, जिस्पा, गैमूर व क्वारिंग पोलिंग स्टेशनों का भी निरीक्षण शनिवार को किया है।

23 मतदान केंद्रों में वायर लेस सेट

लाहुल-स्पीति के 23 मतदान केंद्र ऐसे हैं, जहां दूरसंचार व्यवस्था नहीं है। ऐसे में यहां पर मतदान की पल-पल की जानकारी प्रशासन वायर लेस सेटों के माध्यम से लेगा। प्रशासन ने उक्त पोलिंग स्टेशनों में तैनात पुलिस जवानों को वायरलेस सेट उपलब्ध करवाएं ,जिनके माध्यम से मतदान की जानकारी हासिल की जाएगी।