Tuesday, August 20, 2019 11:34 AM

वाटर रिसोर्स को सहेजना हम सभी का फर्ज

चंबा -कुल्लू जिला के जीवी पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण एवं सत्त विकास संस्थान के हिमाचल क्षेत्रीय केंद्र द्वारा मंगलवार को डीआरडीए चंबा के सभागार में जल अभ्यारण्य परियोजना का विधिवत तरीके से शुभारंभ की। कार्यक्रम की अध्यक्षता डीसी विवेक भाटिया ने की। डीसी विवेक भाटिया ने स्प्रिंग स्त्रोतों को बचाने के लिए बहुआयामी प्रयासों का आह्वान करते हुए कहा कि सभी संबंधित विभागों को इस दिशा में दक्ष व समयबद्ध प्रयास करने चाहिए। उन्होंने इस कार्य को मिशन मोड पर करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक स्त्रोतों के संरक्षण से पारिस्थितकीय संतुलन भी व्यवस्थित होगा। कार्यक्रम के दौरान क्षेत्रीय केंद्र के विभाग प्रमुख आर के सिंह ने प्रतिभागियों को संस्थान के शोध एवं विकास कार्यों के बारे में जानकारी प्रदान की। वैभव गोसावी ने जल अभ्यारण्य का विस्तृत परिचय, स्प्रिंग स्त्रोतों का महत्त्व एवं उनके जीर्णोद्धार के शोध सहित विभिन्न विषयों की जानकारी दी। कार्यक्रम में मौजूद आईआईटी मंडी के प्रोफेसर डा. जसप्रीत रंधावा ने सोलर सिस्टम पर आधारित जल शुद्धिकरण प्रक्रिया की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह परियोजना नेशनल मिशन ऑफ  हिमालयन स्टडीज की वित्तीय सहायता से चलाई जा रही है। इस मौके पर आईपीएच, वन, पर्यावरण, कृषि व नगर नियोजन विभागों के अधिकारियों के अलावा नगर परिषद, पंचायती राज संस्थाओं, हाईड्रो पावर व स्वयंसेवी संस्थाओं सहित अन्य संस्थानों के प्रतिनिधियों ने उपस्थिति दर्ज करवाई।