वाडा की बड़ी कार्रवाई

नई दिल्ली   - देश में चल रहे डोपिंग रोधी अभियान के बीच विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) ने राष्ट्रीय डोप जांच प्रयोगशाला (एनडीटीएल) की मान्यता छह महीने के लिए निलंबित कर दी है। टोक्यो ओलंपिक के आयोजन में एक साल का भी समय नहीं बचा है। ऐसे में वाडा का यह कदम देश में डोपिंग के खिलाफ चल रहे अभियान के लिए एक बड़ा झटका है। ऐसा समझा जा रहा है कि राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) अब भी नमूने एकत्र कर सकती है, लेकिन उसे एनडीटीएल के निलंबन की अवधि के दौरान नमूनों की जांच देश के बाहर ऐसी प्रयोगशाला से करानी होगी, जो वाडा से मान्यता प्राप्त हो। वाडा ने अपनी वेबसाइट पर जारी मीडिया विज्ञप्ति में बताया कि वाडा के निरीक्षण के दौरान एनडीटीएल को प्रयोगशालाओं के लिए तय अंतरराष्ट्रीय मानकों (आईएसएल) के अनुरूप नहीं पाया गया, जिसके कारण उसे निलंबित किया गया। भारतीय ओलंपिक संघ ने वाडा से मान्यता प्राप्त देश की एकमात्र लेबोरेटरी के निलंबन के लिए राष्ट्रीय डोपिंग निरोधक एजेंसी को दोषी ठहराते हुए कहा कि नाडा की गलतियों ने देश में डोपिंग निरोधक कार्यक्रम का मार्ग अवरुद्ध कर दिया है। नाडा अगले 21 दिन में इसके खिलाफ अपील कर सकता है। आईओए अध्यक्ष नरिंदर बत्रा ने कहा कि अब हमें रुपए की बजाय डालर में भुगतान करना होगा। मुझे चिंता इस बात की है कि अतिरिक्त लागत कौन वहन करेगा। 

Related Stories: