Tuesday, July 16, 2019 09:43 PM

वार्षिक भविष्यफल

हम अब वर्ष 2019 में प्रवेश करने जा रहे हैं। भिन्न-भिन्न राशि वाले लोगों के लिए नया साल कैसा रहेगा, इसका लेखा-जोखा हम लेकर आए हैं। यह लेखा-जोखा प्रसिद्ध ज्योतिषी रोशन लाल बाली ने तैयार किया है। इस अंक में इस पृष्ठ पर चार व अगले पृष्ठ पर दो राशियां हैं। इससे अगले अंक में भी हम छह राशियों का ब्योरा देंगे।

मेष

जनवरी : यात्रा के शुभ योग बनेंगे। भागदौड़ भी बढ़ेगी, व्यर्थ की उलझनों से दूर रहने में ही भलाई है। भूमि संबंधी परेशानी शांत होगी। सेहत का ध्यान रखें। धार्मिक यात्रा हो सकती है, पारिवारिक सुख अच्छा रहेगा। 5 जनवरी श्नैश्चरी अमावस्या के दिन जरूरतमंद व्यक्ति को भोजन कराएं। परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। 13 जनवरी से समय अनुकूल होता जाएगा। मकर संक्रांति को रेवड़ी दान करने से सेहत अच्छी रहेगी, दाम्पत्य जीवन में अच्छा बदलाव आएगा, विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है। विद्या बल बढ़ेगा।

फरवरी : मान प्रतिष्ठा के लिए यह महीना शुभ है। कार्य व्यस्तता बढ़ेगी। 11 फरवरी के बाद अनेक रुके कार्य बनने शुरू होंगे। अपने स्वभाव में विनम्रता लाएं और राशि स्वामी मंगल का उपाय करते रहें। स्वास्थ्य पक्ष अच्छा रहेगा। नौकरी में आ रही अड़चनें दूर होंगी। नई योजना सिरे चढ़ेगी, पारिवारिक माहौल अच्छा रहेगा। प्रातः स्नान के समय थोड़ा सा दही पानी में मिलाकर नहाएं, विशेष लाभ की प्राप्ति होगी। इष्ट मंत्र का जाम नियमित करें।

मार्च : विद्या पक्ष में उच्चता आएगी। दौड़धूप फलीभूत होगी, अधर में अटके कार्य बनेंगे, उच्चजनों के सहयोग से बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे, सेहत का ध्यान आवश्यक है। कभी-कभी शारीरिक पीड़ा तंग कर सकती है। मंगल और शनि का उपाय मददगार रहेगा, व्यय की अधिकता रहेगी। फिजूलखर्चों पर अंकुश लगाएं, माता-पिता व बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लेना लाभप्रद रहेगा। राहु और केतु से बचे रहेंगे। इष्ट देवता के दर्शन किसी भी गुरुवार को करें। कार्य सिद्ध होते जाएंगे।

अप्रैल : भाग्योदय के अच्छे योग बन रहे हैं। गुरु भाग्य स्थान में आने से दिमागी राहत पाएंगे, उद्योग संबंधी रुके कार्य बनेंगे। फिल्म जगत से जुड़े लोगों को लाभ होगा। कार्य पक्ष का विस्तार होगा। शत्रु कमजोर होगा। देर रात्रि वाहन न चलाएं। किसी जरूरतमंद को दोपहर का भोजन कराना लाभप्रद रहेगा। 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक कन्याओं का पूजन करने से आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।

मई : तेज प्रताप जहां बढ़ेगा, वहीं आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, सोचे कार्य बनेंगे। कारोबारी स्थिति भी सुधरेगी। विदेश में रोजगार के योग भी बन रहे हैं। पाचन तंत्र पर ध्यान रखें। शनि केतु का भाग्य स्थान में होेने से शारीरिक पीड़ा कभी-कभी तंग कर सकती है। विद्यार्थियों को मन केंद्रित करके पढ़ाई पर ध्यान देने की जरूरत है। 4 मई श्नैश्चरी अमावस्या को अन्नदान करने से सभी कार्य सिद्ध होते चले जाएंगे। धन की स्थिति मजबूत होती जाएगी। शुद्ध शाकाहारी रहना लाभप्रद रहेगा।

जून : सुख साधनों की वृद्धि होगी, शुभ व्यय होंगे, अनेक रुके कार्य बनने शुरू होंगे। भवन, भूमि व संपत्ति पर शुभ व्यय होगा। राशि पर शुक्र का चल रहा भ्रमण प्रसन्नता प्रदान करेगा, किसी समारोह में भाग लेने का अच्छा मौका भी मिलेगा, कोर्ट कचहरी से संबंधी कार्य बनेंगे, भाई-बहनों से अच्छा संबंध बनाने की कोशिश करने से संबंधों में मधुरता बढ़ेगी। नौकरी के लिए किए जा रहे प्रयास फलीभूत होंगे। 10 जून दुर्गा अष्टमी व मां धूमावती की जयंती पर कन्या पूजन करने से सभी बिगड़े कार्य बनेंगे।

जुलाई : दूर देश में रोजगार के लिए प्रयासरत बेरोजगारों के काम बनेंगे। भाग्य स्थान में शनि केतु का चल रहा योग अड़चनें तो डालेगा, मगर मिथुन राशि में राहु का संचार बिगड़े कार्य बनाने में सहायक रहेगा। 16 जुलाई गुरु पूर्णिमा पर अपने माता-पिता का पूजन करें और उनका आशीर्वाद लेना न भूलें, गुरु अनुकूल होता जाएगा। 19 जुलाई से पहले कार्य बनने की संभावना बन रही है। गुरु का उपाय आवश्यक है। गुरु वृश्चियक रािश में चल रहा है, किसी भी गुरुवार को आधा किलो चना दाल व 150 ग्राम गुड़ गाय को खिलाने से कार्य बनेंगे।

अगस्त : जीवन साथी के साथ अच्छा व्यवहार करें, लाभ होगा, अपने क्रोध पर अंकुश रखें, कर्क राशि में चल रहे चतुग्रही योग का विशेष प्रभाव 17 अगस्त तक रहेगा, स्वयं को विवादों से दूर रखें, न्यायालय संबंधी कार्यों से राहत महसूस करेंगे। माता चिंतपूर्णी का आशीर्वाद लेने से बिगड़े कार्य बनने शुरू होंगे, संक्रांति को गेहूं साढ़े 11 किलो का किसी जरूरमतंद को दान करें, आत्मबल बढ़ेगा। कोई शुभ समाचार प्राप्त होगा, यात्रा के सुखद योग भी बन रहे हैं।

सितंबर : अधिक व्यय होने की संभावना रहेगी, परिवार को लेकर कुछ चिंतित रहेंगे, विद्या बल बढ़ेगा, शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े लोगों को कार्य का अधिक बोझ रहेगा, पाचन तंत्र गड़बड़ा सकता है। खान-पान का विशेष ध्यान रखें। 6 सितंबर राधा अष्टमी के दिन कन्या पूजन करने से अनेक अरिष्ट शांत होंगे। 28 सितंबर सर्वपितृश्राद्ध व श्नैश्चरी अमावस्या को 11 लोगों को अन्नदान करना सर्वकार्य सिद्ध होने में सहायक रहेगा, भाग्य स्थान में चल रहा केतु का भ्रमण शुभ नहीं है। उपाय से अवश्य लाभ होगा।

अक्तूबर : भागदौड़ बढ़ेगी, अधिक जिम्मेदारी मिल सकती है। कृषि से संबंधित अड़चनें दूर होंगी, शनि केतु का भाग्य स्थान में होना अकस्मात लाभ का योग बना रहा है। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। सेहत सामान्य रहेगी, भवन आदि पर व्यय होगा। 13 अक्तूबर शरद पूर्णिमा को खीर का दान शुभ फल प्रदान करेगा। आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा, गरीब रोगियों को 26 अक्तूबर धन्वन्तरी जयंती पर औषध व फल दान करें। आरोग्यता प्राप्त होगी।

नवंबर : अकस्मात कोई शुभ समाचार मन को प्रसन्नता प्रदान करेगा, बेरोजगारों को अच्छी खबर मिलेगी, अविवाहितों को विवाह का प्रस्ताव मिलेगा, धन संबंधी परेशानी दूर होगी, घरेलू जीवन में समरसता बढ़ेगी, विद्यार्थियों का विद्या बल बढ़ेगा, सोची योजना पर विशेष ध्यान देंगे। सूर्य तुला राशि में होने से अकस्मात कोई विवाद परेशान कर सकता है। प्रातः सूर्य को तांबे के पात्र से जल दिया करें, कल्याण होगा। बैंक से लेन-देन करते समय सावधानी बरतें।

दिसंबर : अपने काम में व्यस्त रहेंगे। दौड़धूप बढ़ेगी, भाग्य स्थान में चतुग्रही योग से रुके कार्य बनने शुरू होंगे। परिवार पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है। दाम्पत्य जीवन में आपसी तालमेल बढ़ेगा, वाणी में विनम्रता लाएं और मंगल का उपाय करते रहें, सप्तम स्थान पर मंगल विराजमान होने से कभी-कभी क्रोध हावी रहेगा, प्रातः खाली पेट एक गिलास कोसा पानी रोज पिया करें, मंगल शांत होगा। 11 दिसंबर दतात्रेय जयंती पर किसी गरीब को भोजन कराएं।

वृष

जनवरी : कोई अच्छी खबर मिलेगी। सेहत की संभाल जरूरी है। पारिवारिक परस्थिति पर विशेष ध्यान रखें। कई नए लोगों से अच्छे संपर्क बनेंगे। कारोबारी स्थिति में सुधार पाएंगे। मंगल की स्थिति क्रोध को बढ़ावा दे सकती है। वाणी पर संयम आवश्यक है। श्नैश्चरी अमावस्या पर यथाशक्ति 5 जनवरी को दान करना निश्चित रूप से लाभ प्रदान करेगा और मानसिक स्थिति सुदृढ़ होगी। नौकरी से जुड़ी परेशानियां कम होंगी।

फरवरी : दौड़ धूप बढ़ेगी, कोई नया कार्य हाथ में लेने का प्लान भी बनेगा-यशकीर्ति के लिए समय अच्छा है। 9 फरवरी के बाद सेहत का ध्यान रखें, सर्दी-जुकाम परेशानी पैदा कर सकते हैं। आर्थिक स्थिति को लेकर चिंता कम होगी, किसी जरूरतमंद को शनिवार के दिन भोजन कराना विशेष सहायक सिद्ध होगा। नई योजना को सिरे चढ़ाने के लिए दौड़धूप अधिक करनी पड़ेगी, कार्य अवश्य सिद्ध होंगे, शुक्रवार के दिन किसी मजदूर को दही खिलाएं।

मार्च : मानसिक स्थिरता पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। हो सके तो शिवपुराण रोज पढ़ें। जहां मनोबल बढ़ेगा वहीं रुके कार्य बनते चले जाएंगे। अविवाहितों को विवाह के अच्छे प्रस्ताव आएंगे। आर्थिक स्थिति भी सुधरेगी। विद्यार्थियों को विशेष ध्यान अपनी पढ़ाई पर देना होगा, आगे वाले दिनों में शुभ समाचार मिलेंगे। अपनी वाणी पर संयम रखें और सूर्य को प्रातः रोज जल दिया करें। 11 मार्च के बाद समय बेहतर होता जाएगा।

अप्रैल : मेहनत रंग लाएगी। कृषि से जुड़े लोगों को कोई शुभ समाचार मिलेगा। कारोबार व नौकरी पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। राहु का विशेष प्रभाव रहेगा, धन व्यय के योग भी बन रहे हैं। परिवार के किसी बुजुर्ग सदस्य की सेहत को लेकर चिंता बढ़ सकती है। संतान पर श्ुभ व्यय होगा, खर्च बढ़ेंगे, नौकरी में पदोन्नति की संभावना भी बन रही है। अस्पताल में गरीब रोगियों में फल बांटें।

मई : अकस्मात यात्रा होगी और बिगड़े कार्य बनने शुरू होंगे। राशि पर राहु का अच्छा प्रभाव होने से बुद्धि, बल व आत्मबल बढ़ेगा, 4 मई को श्नैश्चरी अमावस्या पर यथाशक्ति दान करना कार्य सिद्धि में सहायक होगा, पारिवारिक परिस्थितियों को अनुकूल बनाने में मां बगलामुखी का स्मरण करना मददगार रहेगा, विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है और लोहे के कारोबारियों को मुनाफा होगा, लेखक, साहित्यकार व अभिनय से जुड़े लोग निश्चित यश पाएंगे।

जून : स्वयं को विवादों से दूर रखने में ही भलाई है। वकील व न्यायालय से जुड़े लोग मान-सम्मान जहां पाएंगे, वहीं उन्हें धन लाभ के अच्छे अवसर प्राप्त होंगे। मंगल राहु का योग राशि पर होने से तार्किक शक्ति बढ़ेगी और दूसरों पर हावी रहेंगे। 12 जून गंगा दशहरा पर मां गंगा का मन ही मन नमन करें और पौधों में जल दें। विशेष लाभ होगा। आत्मबल बढ़ेगा, सेहत में भी सुधार पाएंगे। कारोबार की स्थिति में भी सुधार देखने को मिलेगा, शुभ व्यय होगा, धन की स्थिति में अच्छा बदलाव पाएंगे।

जुलाई : बिगड़े कार्य बनेंगे, मगर मेहनत अधिक करनी पड़ सकती है, दिमाग पर कार्य का बोझ मनस्थिति को प्रभावित करेगा। सूर्य, राहु व शुक्र का योग मिथुन राशि पर होने से अपव्यय भी होगा। शरीर में कमजोरी महसूस करेंगे। छुआरे और दूध का सेवन करना काफी सहायक रहेगा। धन के लेन-देन में सावधानी जरूरी है। खानपान पर भी ध्यान दें और समय पर कार्यालय पहुंचना विवाद से बचाएगा।

अगस्त : कोई अधूरा कार्य होने की संभावना बन रही है, शनि केतु का अष्टम स्थान होने से स्वास्थ्य को लेकर परेशानी पैदा कर सकता है। मनोदशा सामान्य रहेगी, पारिवारिक जिम्मेदारियों के चलते कभी-कभी बेहद उदासी-परेशानी पैदा कर सकती है। रोज कुत्ते को रोटी खिलाना शुभ रहेगा और शनिवार को किसी जरूरतमंद को भोजन कराना मददगार सिद्ध होगा-रुका धन 18 अगस्त के बाद मिलने के योग बन रहे हैं। 15 अगस्त को रक्षा बंधन पर बहन को यथाशक्ति वस्त्र आदि भेंट करें। लक्ष्मी की कृपा होगी। 24 अगस्त श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को फल बांटें।

सितंबर : पारिवारिक दिक्कतें कम होंगी, कोई मांगलिक कार्य भी बनने की उम्मीद जगेगी, परिजनों का सहयोग प्राप्त होगा, सेहत में भी सुधार पाएंगे, नौकरी में रुतबा बढ़ने की उम्मीद जगेगी, 6 सितंबर को राधा अष्टमी के दिन दूध कन्याओं को पिलाएं, आर्थिक स्थिति में सुधार पाएंगे और मनोबल बढ़ेगा। सूर्य को प्रातः रोज अर्घ्य दिया करें। शिक्षार्थियों  को शुभ समाचार की प्राप्ति भी होगी। 28 सितंबर को सर्वपितृ श्राद्ध व श्नैश्चरी अमावस्या के दिन अन्न दान करना अत्यंत लाभ प्रदान करने वाला सिद्ध होगा।

अक्तूबर : विद्या बल बढ़ेगा, सूर्य मंगल का पञ्चम स्थान में होना दर्शाता है कि किसी शोध कार्य से जुड़ा व्यक्ति अवश्य सफलता प्राप्त करेगा। घर-परिवार में सुख-शांति की वृद्धि होगी। दाम्पत्य जीवन में भी आपसी सामंजस्य में वृद्धि होगी-महिला मित्र का सहयोग प्राप्त होगा, शनि केतु का योग सेहत पर ध्यान देने का संकेत दे रहा है। नौकरी व कारोबार की स्थिति में सुधार पाएंगे। 17 अक्तूबर को कार्तिक संक्रांति पर जरूरतमंदों को भोजन कराने से अन्न-धन की वृद्धि निश्चित होगी।

नवंबर : घरेलू जीवन में प्रसन्नता प्राप्त होगी, कोई प्रिय मित्र लंबे समय बाद मिलने पर आनंद की अनुभूति प्रदान करेगा। आर्थिक पक्ष में भी अच्छा बदलाव पाएंगे। 12 नवंबर को गुरुनानक देव जयंती व पूर्णिमा पर किसी धार्मिक स्थान में अपनी सेवाएं देना भाग्य वृद्धि में सहायक रहेगा। 19 नवंबर काल भैरव अष्टमी पर जरूरतमंद लोगों को भोजन कराएं। आ रही अड़चनें दूर होती जाएंगी, विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है। विद्या पक्ष में अच्छा सुधार पाएंगे। नौकरी में पदोन्नति के संकेत मिल रहे हैं।

दिसंबर : दौड़धूप बढ़ेगी, घर-परिवार के प्रति जिम्मेदारी बढ़ेगी-शुभ व्यय होगा, नौकरी में अधिकारी व सहयोगी सहायक रहेंगे। देर रात्रि तक न जागें। दिमागी शक्ति को बढ़ाने के लिए रोज गीता का अध्ययन करना शुभता प्रदान करेगा। 8 दिसंबर को मोक्षदा एकादशी का व्रत करना शुभता प्रदान करेगा। 26 दिसंबर को सूर्य ग्रहण पर गेहूं का दान करने से सेहत अच्छी रहेगी, कार्य पक्ष अच्छा होता जाएगा।

मिथुन

जनवरी : कुछ घरेलू परेशानियां शांत होंगी, किसी पारिवारिक सदस्य के साथ हल्का सा मनमुटाव अशांत कर सकता है। मंगल का उपाय काफी मददगार सिद्ध होगा। 13 जनवरी के बाद परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी, लोहड़ी के पर्व पर बच्चों को गुड़ वाली रेवडि़यां व मूंगफली बांटें, सूर्य अनुकूल होता जाएगा। मान-सम्मान व प्रतिष्ठा बढ़ेगी, आर्थिक स्थिति में अच्छा बदलाव आएगा, 18 जनवरी के बाद शुभ व्यय के योग बन रहे हैं। सेहत अच्छी रहेगी।

फरवरी : आत्म बल व बुद्धि बल बढ़ेगा, मेष राशि पर मंगल का प्रभाव हिम्मत बढ़ाएगा, इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में प्रगति होगी, शोध कार्य करने वाले बंधु यश-मान पाएंगे। शुक्र शनि का सप्तम स्थान में चल रहा योग संपत्ति सुख में वृद्धि कराने में सहायक सिद्ध होगा, आर्थिक पक्ष संबंधी कुछ परेशानी आ सकती है। राहु का कर्क राशि पर चल रहा भ्रमण अकस्मात नई उलझन खड़ी कर सकता है। गणेश उपासना काफी मददगार सिद्ध होगी। नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा, सेहत की संभाल आवश्यक है।

मार्च : सरकारी कार्यों में सफलता पाएंगे। दसवें घर में शुक्र की स्थिति धन संबंधी दिक्कतें दूर करने में विशेष सहायक रहेगा। सेहत की संभाल जरूरी है। पाचन तंत्र संबंधी दिक्कत पेश आ सकती है। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी, परिवार के सदस्यों के साथ सौहार्द्र बढ़ेगा, यदि विद्यार्थी हैं तो समय अच्छा है। पढ़ाई में रुचि बढ़ेगी, 4 मार्च महाशिवरात्रि पर भगवान शिव का दूध से अभिषेक करें, विद्या-बल बढ़ेगा और शत्रु कुछ नहीं बिगाड़ सकेगा। 14 मार्च के बाद तेज प्रताप बढ़ेगा, 20 मार्च को होलिका दहन पर यज्ञ में आहुति डालें, मनोकामना पूरी होगी।

अप्रैल : पदोन्नति के योग बनेंगे। आर्थिक लाभ होगा, कोई शुभ कार्य मन को आनंदित करेगा। घर परिवार में कोई मंगल कार्य होने की संभावना बन रही है। कारोबार पर विशेष ध्यान दें, महत्त्वपूर्ण दस्तावेज संभाल कर रखें। किसी उच्च व्यक्ति से संपर्क होने पर कुछ रुके कार्य बनेंगे। लेखन से जुड़े लोगों का मान-सम्मान बढ़ेगा, सेहत संबंधी परेशानी दूर होगी, आत्मबल बढ़ेगा, हनुमान चालीसा रोज पढ़ें। मनोइच्छा पूरी होगी और आत्मशक्ति प्राप्त होगी।

मई : मान-सम्मान बढ़ेगा, अनेक अच्छे लोगों से संपर्क बनेंगे, रुके कार्य बनेंगे, घर में अच्छा माहौल आनंदित करेगा, व्यापार में लाभ होगा, चिकित्सा में कार्यरत लोगों की प्रतिभा में निखार आएगा, राजनेताओं के लिए समय अच्छा है। 4 मई श्नैश्चरी अमावस्या को मजदूरों को भोजन कराएं। देव कृपा प्राप्त होगी, 12 मई को मां बगलामुखी जयंती पर लड्डू बच्चों में बांटें। शत्रु भय से मुक्त होंगे।

जून : प्रफ्यून के प्रति रुझान बढ़ेगा, नए वस्त्रों व सुख साधनों पर व्यय होगा। कार्य व्यवसाय में वृद्धि होगी, होटल-ढाबे का कार्य करने वालों को धन की स्थिति मजबूत होगी, विदेश में कार्यरत लोग लाभान्वित होंगे। दूर स्थान की यात्रा के भी योग बन रहे हैं। परिवार का पूरा सुख जहां मिलेगा, वहीं जीवन साथी से मधुर संबंध रहेंगे, कोई अच्छा उपहार भी प्राप्त होगा, 10 जून को धूमावती जयंती पर अनाथ बच्चों में फल बांटें, कार्य सिद्ध होंगे।

जुलाई : कार्य संबंधी योजना को लेकर यात्रा के योग बन रहे हैं, दौड़धूप बढ़ेगी। भाग्य स्थान में शनि केतु का योग संपत्ति सुख को बढ़ाने वाला रहेगा-स्वभाव में अच्छा बदलाव पाएंगे। सेहत में भी सुधार महसूस करेंगे। किसी स्पर्धा में भाग लेने का अवसर मिले तो सफलता पाएंगे, मंगल का उपाय विशेष सहायक रहेगा। 17 जुलाई को गुरु पूर्णिमा पर फल बांटें, शुभ फलों की प्राप्ति होगी। दाम्पत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। वाणी में विनम्रता लाएं।

अगस्त : परिवार मिलन होगा, मेल-जोल बढ़ेगा। शुभ व्यय के संकेत बन रहे हैं। घर परिवार में सुखद माहौल मन को प्रसन्न करेगा, विद्यार्थियों की पढ़ाई के प्रति रुचि बढ़ेगी-मनो इच्छा पूरी होगी, नौकरी संबंधी परेशानी दूर होगी, केले बुधवार को बांटना शुभ रहेगा और धन संबंधी परेशानी दूर होगी, घर में बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लेना आत्मबल बढ़ाएगा।

सितंबर : दिगामी शक्ति जहां बढ़ेगी, वहीं शरीर में स्फूर्ति का संचार करेगा। पढ़ाई में विशेष रुचि महसूस करेंगे। घर परिवार की परिस्थिति अच्छी पाएंगे। कारोबार व नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा, बैंक संबंधी रुके कार्य बनेंगे। यात्रा का अकस्मात योग भी बन रहा है। किसी शुभ कार्य में आर्थिक योगदान होगा-10 सितंबर के बाद आर्थिक लाभ के भी योग बन रहे हैं। 17 सितंबर को संक्रांति पर गेहूं का दान विशेष लाभ प्रदान करेगा। 29 सितंबर से नवरात्र का शुभारंभ होने जा रहा है। देवी आराधना व कन्या पूजन समृद्धि को बढ़ाने में सहायक रहेंगे।

अक्तूबर : जीवन साथी के साथ अच्छे संबंध रहेंगे, कहीं घूमने-फिरने का प्लान भी बनेगा, कार्य व्यवसाय में वृद्धि होगी। कोई शुभ कार्य भी घर में होगा, विद्यार्थी लाभान्वित होंगे, शिक्षा जगत से जुड़े लोगों को लाभ होगा, संपत्ति व वाहन आदि पर व्यय होगा, सवारी सुख मिलेगा, 13 अक्तूबर शरदपूर्णिमा को शिवालय में दूध का दान विशेष शुभ रहेगा। 26 अक्तूबर धन्वतरी जयंती पर पौधों में प्रातः जल डालें, आरोग्यता प्राप्त होगी।

नवंबर : यात्रा के सुखद योग बनेंगे। किसी निकट संबंधी से चला आ रहा मनमुटाव दूर होगा। मानसिक संतोष प्राप्त होगा, आर्थिक मामलों से जुड़े मसले सुलझेंगे, भावुकता में कोई गलत फैसला नुकसान पहुंचा सकता है। संतान के भविष्य पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। सुरक्षा कर्मी लाभान्वित होंगे। बेरोजगार रोजगार के लिए प्रयासरत रहें, आने वाला समय शुभता प्रदान करेगा-12 नवंबर को किसी धार्मिक आयोजन में अपनी सेवाएं दें, अवश्य मनोकामना पूरी होगी, 19 नवंबर को काल भैरव अष्टमी पर कुत्तों को रोटी डालें, आ रही अड़चनें दूर होंगी।

दिसंबर : तेज प्रताप बढ़ेगा, परिजनों से मेल-जोल बढ़ेगा, यात्रा के सुखद योग भी बन रहे हैं। मौजमस्ती करने को दिल करेगा, किसी पर्यटक स्थल पर जाने की योजना भी बनेगी-सेहत सामान्य रहेगी, पारिवारिक माहौल सुधरेगा, संतान का भविष्य अच्छा होगा, शुभ व्यय की योजना बनेगी, 11 दिसंबर को दतात्रेय जयंती पर फल बांटना शुभ रहेगा।

कर्क

जनवरी : राशि पर राहु होने से मन में चंचलता जहां रहेगी, वहीं व्यर्थ की भागदौड़ भी तंग कर सकती है। सेहत में सुधार पाएंगे, कारोबार संबंधी व्यस्तताएं बढें़गी, गुरु शुक्र को पंचम स्थान में होने से विचारों में अच्छा बदलाव पाएंगे। अपने व्यक्तित्व पर ध्यान देंगे। जुकाम आदि तंग कर सकता है। आर्थिक स्थिति में 13 जनवरी के बाद सुधार पाएंगे। परिवार के साथ अच्छे संबंध बने रहेंगे। अपने स्वभाव में विनम्रता लाएं। गाय को मंगलवार के दिन मीठी रोटी खिलाया करें, कार्य सिद्ध होते जाएंगे।

फरवरी : बुद्धिबल जहां बढ़ेगा, वहीं आत्म विश्वास से भी लबरेज होंगे। परिश्रम करने की शक्ति बढ़ेगी, अपने पुरुषार्थ से आगे बढ़ेंगे, धन संबंधी लेनदेन में सावधानी बरतें, मित्र व परिजन सहायक रहेंगे। गुरु की अनुकूल स्थिति काफी मददगार रहेगी, राजनीति के क्षेत्र में तरक्की के योग भी बन रहे हैं, दशम स्थान में मंगल मेष राशि में प्रभाव क्षेत्र को बढ़ाने में विशेष सहायक रहेगा। मंगल का उपाय शुभ रहेगा। दस फरवरी बसंत पंचमी को 11 कापियां व 11 पैन स्कूली बच्चों में बांटें। कार्य सिद्ध होंगे।

मार्च : परिश्रम करने की क्षमता बढ़ेगी, इसी आत्मविश्वास से प्रतिकूल समय को भी अनुकूल करने में सफल होंगे। धैर्य और संयम जैसे गुणों को धारण करने से रुके कार्य बनेंगे और अधर पर पड़े कार्य अवश्य बनते चले जाएंगे। चार मार्च को महाशिवरात्रि पर शिव अर्चना लाभकारी रहेगी। 14 मार्च संक्रांति को यथाशक्ति अन्न दान करें। यश कीर्ति में वृद्धि होगी। मंगल और राहुल को उपाय काफी सहायक रहेगा। श्री सूक्तम का नियमित पाठ करने से अन्न-धन की कभी कमी नहीं रहेगी।

अपै्रल : शुभ व्यय होगा, मानसिक प्रसन्नता की अनुभूति रहेगी। चेहरे की चमक बढ़ेगी, ओज और तेज में वृद्धि होगी। परिश्रम फलीभूत होगा। शनि गुरु व केतु का योग अकस्मात धन लाभ करवाने में सहायक रहेगा। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कार्य विस्तार की योजना बनेगी। छह अपै्रल से 14 अपै्रल तक नौरात्रों में सिद्धकुञ्जका स्तोत्र का नियमित पाठ करने से अरिष्ट टलेंगे। नौकरी पक्ष ठीक रहेगा। विनम्रता जैसे गुण अपनाने से सभी के स्नेह के पात्र बनेंगे।

मई : कार्य व्यवसाय में सुधार पाएंगे, सेहत अच्छी रहेगी, मानसिक स्थिति को अस्थिर न होने दें। यात्रा के योग भी बन रहे हैं। चार मई श्नैश्चरी अमावस्या को यथाशक्ति दान करने से मन प्रसन्न रहेगा और रुके कार्य बनने शुरू होंगे। विद्यार्थियों के लिए अच्छा समय है। मां सरस्वती स्तोत्र रोज पढ़ें। मनोइच्छाएं पूरी होती जाएंगी, नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा। अधिकारियों के साथ मधुर संबंध बनेंगे। दाम्पत्य पर ध्यान देने की जरूरत है। संतान पक्ष अनुकूल रहेगा, शुभ व्यय के योग 20 मई के बाद बन रहे हैं।

जून : बुद्धिबल व आत्मबल बढ़ेगा। गुरु का पंचम स्थान में होने से शिक्षा पा रहे छात्र-छात्राओं के लिए बुद्धि वृद्धि नाम योग बना है। स्मरण शक्ति जहां बढ़ेगी, वहीं पढ़ाई में विशेष रुचि बढ़ेगी। घर परिवार में कोई शुभ समाचार प्राप्त होगा, इस माह धन की स्थिति सुधरेगी, आर्थिक पक्ष में और सुधार आए, इसके लिए दस जून धूमावती जयंती पर कन्या पूजन करें और किसी गरीब को भोजन कराएं। अरिष्ट योग टलेंगे। मानसिक प्रसन्नता बढ़ेगी, 15 जून के बाद कारोबार में अच्छा बदलाव पाएंगे।

जुलाई : उलझनें सुलझेंगी, बिगड़े कार्य बनने शुरू होंगे। दौड़धूप रंग लाएगी, कारोबार पर विशेष ध्यान देंगे। घर परिवार की समस्याएं कम होंगी। सेहत का ध्यान आवश्यक है। सू. शु. रा. का त्रिग्रही योग यात्रा के योग बना रहे हैं। यात्रा विदेश की भी हो सकती है। जो विदेश में रोजगार के लिए प्रयासरत हैं, उनके प्रयास फलीभूत होंगे। 16 जुलाई को गुरु पूर्णिमा पर फलों का दान विशेष शुभता प्रदान करेगा। शुक्र का उपाय सदा सहायक रहेगा, धन की स्थिति में अच्छा बदलाव पाएंगे, सूर्य को रोज जल दिया करें, ओज बढ़ेगा।

अगस्त : कोई शुभ समाचार मन को आनंदित करेगा। प्रभाव बढ़ेगा, जिम्मेदारी भी बढ़ेगी, व्यस्तता बढ़ेगी। जनसंपर्क भी बढ़ेगा, सूर्य मं. बु. श. का राशि पर चल रहा प्रभाव अनेक रुके कार्यों को पूरा करने में सहायक रहेगा। छात्र व छात्राओं का विद्या-बल बढ़ेगा। उत्तेजित अवस्था में वाहन न चलाएं। क्रोध पर अंकुश लगाएं, हनुमान चालीसा रोज पढ़ें, कार्य सिद्ध होते जाएंगे, परिवार पर विशेष ध्यान दें, खासकर संतान के भविष्य व उसकी अच्छी आदतों पर ध्यान दें।

सितंबर : अपने कार्य में अच्छे बदलाव लाने की कोशिश करेंगे। धन संबंधी कुछ परेशानी तंग कर सकती है। राहु केतु का उपाय मददगार रहेगा, गणेश उपासना से बिगड़े कार्य बनेंगे। गुरु का पंचम स्थान में स्थिति कोई शुभ समाचार देगा। नौकरी पक्ष से प्रसन्नता  मिलेगी, कुटुम्बीजनों से मेल-जोल बढ़ेगा, परिवार संबंधी अड़चनें कम होंगी, गृहस्थ जीवन पर ध्यान देने की जरूरत है। घर के बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लें, कल्याण होगा, 19 सितंबर के बाद यात्रा के योग बनेंगे।

अक्तूबर : सुख संपत्ति में वृद्धि होगी। सुख स्थान पर शुक्र बुध का शुभ योग कल्याणवर्द्धक रहेगा, नौकरी व रोजगार संबंधी दिक्कतें कम होंगी। फल उत्पादकों को लाभ मिलेगा, विद्यार्थी के लिए गुरु अनुकूल चल रहा है। शुभता प्राप्त होगी। 18 अक्तूबर को कार्तिक संक्रांति पर गेहूं का दान शुभ रहेगा। 26 अक्तूबर के बाद आर्थिक लाभ होगा। सेहत सुधरेगी, लंबी यात्रा के भी योग बनेंगे। संतानपक्ष से लाभ होगा। संगीत के क्षेत्र से जुड़े लोग यश प्राप्त करेंगे, मानसिक प्रसन्नता पाएंगे।

नवंबर : रोजगार के लिए प्रयासरत बेरोजगारों को शुभ समाचार प्राप्त होगा। मॉडलिंग व अभिनय से जुड़े लोगों को लाभ होगा। मान प्रतिष्ठा बढ़ेगी, परिवार पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। नए भवन के भी निकट भविष्य में योग बन रहे हैं। विद्या के क्षेत्र में नाम कमाएंगे, दाम्पत्य जीवन में आत्मीयता बढ़ेगी, मित्रों के साथ अच्छा समय गुजारेंगे, 16 नवंबर को फल बांटें। मानसिक प्रसन्नता मिलेगी, स्वास्थ्य पक्ष अच्छा रहेगा।

दिसंबर : अपने व्यवहार में विनम्रता लाना लाभदायक रहेगा, विनम्र वाणी सभी को अपनी ओर खींच लेती है। घर गृहस्थ की ओर से सुख पाएंगे। मान-सम्मान के लिए 17 दिसंबर के बाद समय अच्छा है। उच्चजनों से अच्छे संबंध बनेंगे। कारोबार पर ध्यान देने की जरूरत है। धन संबंधी मामलों पर ध्यान दें। महत्त्वपूर्ण दस्तावेजों को संभाल कर रखें।

सिंह

जनवरी : शत्रु पक्ष कमजोर होगा, सुखद यात्रा के योग बन रहे हैं, मित्रों संग अच्छा समय गुजरेगा, पारिवारिक परिस्थितियां अनुकूल रहेंगी, पराक्रम वृद्धि होगी, राशि स्वामी सूर्य पंचम स्थान में होने से बुद्धिबल बढ़ेगा, अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वहन करेंगे। सभी को साथ लेकर चलने की कला पर जोर दें। बहुत आगे बढ़ेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति के साथ समधुर संबंध बनेंगे। आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की जरूरत है। अपने स्वभाव पर ध्यान दें। सेहत का ध्यान 19 जनवरी के बाद रखें। 17 जनवरी को पुत्रदा एकादशी पर व्रत रखें कल्याण होगा।

फरवरी : घरेलू दिक्कते कम होंगी, अपने जीवन साथी की सेहत को लेकर परेशानी हो सकती है। कारोबारी पक्ष सुधरेगा, व्यय की अधिकता रहेगी। सर्दी जुकाम से स्वयं को बचाएं। मंगल की मेष राशि में स्थिति शुभ है। पराक्रम वृद्धि होगी। राजनीति से जुड़े लोगों की व्यस्तताएं बढ़ेंगी। संपर्क सूत्र बढ़ेंगे। प्रभाव क्षेत्र की वृद्धि होगी। लेन-देन करते समय सावधानी बरतें। धन हानि हो सकती है। सुख समृद्धि के लिए 21 फरवरी बाद समय अच्छा है। शुक्र का उपाय सहायक रहेगा।

मार्च : किसी परिजन की सेहत को लेकर थोड़े चिंतित रहेंगे। कार्य व्यवसाय पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है। काम बनेंगे। 16 मार्च के बाद परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। जीवन साथी की सेहत अच्छी रहेगी। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है। पढ़ाई के प्रति रुझान बढ़ेगा, कार्य सिद्ध होंगे। शुभ समाचार मन को प्रसन्नता प्रदान करेगा। आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी। 14 मार्च को सूर्य मीन में आने बाद आत्मबल बढ़ेगा। 4 मार्च महाशिवरात्रि पर व्रत रखें। मनोइच्छा पूरी होगी।

अप्रैल : सावधान रहकर काम करने में जहां भलाई है, वहीं सुरक्षा भी। उत्तेजित न हों, मानसिक संतुलन बिगड़ सकता है। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा। 13 अप्रैल के बाद भागदौड़ बढ़ेगी, सेहत का भी ध्यान रखें। परिवार के साथ समय गुजारने का आनंद उठाएंगे। 6 अप्रैल से 14 अप्रैल के नवरात्र में कन्या पूजन करना भाग्यवर्द्धक सिद्ध होगा। गुप्त शत्रु कुछ नहीं बिगाड़ पाएंगे। देवी कृपा सदा बनी रहेगी। राहु मिथुन राशि में शुभ फल प्रदान करेगा, अकस्मात धन का लाभ होगा।

मई : सूर्य बुध का मेष राशि में स्थित होने के कारण यश, मान व प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। दिमाग पर कार्य का अधिक बोझ मानसिक स्थिति पर विपरीत प्रभाव डालेगा। शनि केतु की स्थिति अनुकूल नहीं है। उपाय आदि करने से परिस्थितियां सुधरती चली जाएंगी। धन की स्थिति बेहतर होगी। भाग्य वृद्धि के योग 11 मई बाद बनते चले जाएंगे। 4 मई शनैश्चरी अमावस्या को तुला दान करने से आरोग्यता प्राप्त होगी और 12 मई बगलामुखी जयंती पर कन्या पूजन करने से शत्रु भय नहीं रहेगा।

जून : सेहत का विशेष ध्यान रखें विशेषकर रक्तविकार, एलर्जी आदि तंग कर सकती है। घर-परिवार की परिस्थितियां अनुकूल रहेंगी। संतान पक्ष पर विशेष ध्यान देंगे। उसके भविष्य को लेकर भागदौड़ तेज होगी, मानसिक बल पर खास ध्यान देने की जरूरत है। हनुमान चालीसा रोज पढ़ें, मनोबल निश्चित रूप से बढ़ेगा। नौकरी व कारोबारी स्थिति सुधरेगी। विद्यार्थियों को पढ़ाई में विशेष रुचि लेने की जरूरत है। पंचम स्थान में शनि केतु की स्थिति ठीक नहीं है। दोनों का उपाय शुभ रहेगा।

जुलाई : शुभ व्यय होगा, अविवाहिता को विवाह के प्रस्ताव आएंगे। सरकारी कार्य में आ रही अड़चनें दूर होंगी, रोजगार के अच्छे अवसर 11 जुलाई बाद आएंगे, धन संबंधी परेशानी दूर होगी। गुरु पूर्णिमा 16 जुलाई को आ रही है उस दिन बच्चों में केले बांटे। कार्य सिद्ध होंगे। पढ़ाई के लिए समय अच्छा है। सोच कार्य बनेंगे। परिवार के सदस्यों के साथ मधुर संबंध रहेंगे। अतिथि आगमन होने से घर का माहौल आनंद प्रदान करेगा।

अगस्त : परिश्रम करने की क्षमता बढ़ेगी, अधिक पुरुषार्थ से कार्य सिद्ध होंगे। आर्थिक स्थिति पर ध्यान दें, शुभ व्यय के योग 19 अगस्त बाद होंगे, कोई रुका कार्य बनेगा। विदेश संबंधी रुके कार्य बनेंगे। माता-पिता का रोज आशीर्वाद लें, मनोइच्छा पूरी होगी। शनि केतु का उपाय काफी सहायक रहेगा। आत्मबाल को कभी कमजोर न होने दें। नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा। अपने अधिकारियों के साथ अच्छे संबंध रहेंगे। गुप्त शत्रुओं से सावधान रहने की जरूरत है।

सितंबर : महीने में कई अच्छी घटनाएं घटेंगी। रुके कार्य बनेंगे। हिम्मत बढ़ेगी। घर पर व्यय होगा, नौकरी व कारोबारी पक्ष में सुखद माहौल मन को प्रसन्न रखेगा। पैसों के मामलों में सावधानी आवश्यक है। किसी उच्च व्यक्ति से मेलजोल बढ़ेगा। राशि पर सूर्य, मंगल, बुध और शुक्र का चतुर्ग्रही योग आत्मबल से लबरेज करेगा। 6 सितंबर राधा अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना विशेष शुभता प्रदान करेगा। 28 सितंबर सर्वपितृ श्राद्ध व शनैश्चरी अमावस्या पर तुलादान करना पितृ दोष निवारण में सहायक रहेगा। धन की स्थिति सुदृढ़ होगी।

अक्तूबर : परिवारजनों के साथ अच्छे संबंध बनाए रखें। वाणी में विनम्रता लाएं। सभी के साथ मित्र समान व्यवहार करने में ही भलाई है। दूसरे घर में सूर्य मंगल का योग क्रोध को बढ़ावा देगा। इसके लिए मंगल का उपाय मददगार रहेगा। मंगलवार के दिन गाय को गुड़ वाली रोटी खिलाएं। कल्याण होगा। दांपत्य जीवन अच्छा रहेगा। विद्यार्थियों के लिए समय अनुकूल चल रहा है। पढ़ाई पर विशेष ध्यान देंगे। सोची योजनाएं सिरे चढ़ेंगी। नवरात्र में कन्यापूजन करने से लक्ष्मी व सरस्वती मां की विशेष कृपा होगी।

नवंबर : संपत्ति से जुड़े विवाद सुलझेंगे। राशि स्वामी सूर्य पराक्रम होने से आत्मविश्वास बढ़ेगा, किसी उच्च अधिकारी के सहयोग से रुके कार्य बनेंगे। नौकरी में पदोन्नति के योग भी बन रहे हैं। 12 नवंबर को गुरुनानक देव की जयंती पर अपनी सेवाएं लंगर में दें, कार्य सिद्ध होंगे। 19 नवंबर को काल भैरव अष्टमी पर कुत्तों को रोटी डाले। शत्रु पराजित होंगे और घर की रक्षा होगी। उद्योग से जुड़े लोगों को सफलता मिलेगी। विद्यार्थियों को शुभ समाचार प्राप्त होगा। कारोबारी स्थिति सुधरेगी।

दिसंबर : मेहनत रंग लाएगी, कोई रुका कार्य जो लंबे समय से अधूरा पड़ा था, वह पूरा होगा। सेहत में सुधार पाएंगे। कार्य पक्ष भी सुधरेगा। मित्र सहायक सिद्ध रहेंगे। परिवार के साथ समय गुजारने का आनंद उठाएंगे। किसी परिजन की सेहत को लेकर थोड़े चिंतित रहेंगे। 11 दिसंबर दतात्रेय जयंती पर फल बच्चों में बांटे।  मनोइच्छा पूरी होगी। 26 दिसंबर कंकण सूर्य ग्रहण पर गेहूं का दान करें, मान प्रतिष्ठा बढ़ेगी और आरोग्यता प्राप्त होगी।

कन्या

जनवरी : प्रगति के पथ पर आगे बढ़ेंगे, कार्य व्यवसाय में कारोबारी स्थिति अच्छी होगी। नौकरी व व्यवसाय पर अधिक ध्यान देंगे। घर- परिवार की स्थिति अनुकूल रहेगी। राशि स्वामी सूर्य की उपासना विशेष लाभ प्रदान करेगी। शुद्ध सात्विक रहने में ही भलाई है। पंचम स्थान में शुक्र शनि का योग कभी-कभी अशांति पैदा कर सकता है। शुक्रवार को आलू पशुओं को खिलाएं। मानसिक राहत मिलेगी। 13 जनवरी को गुड़ की रेवडि़यां व मूंगफली बच्चों में बांटे, मनोइच्छा पूरी होगी। घर में बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लें।

फरवरी : संपत्ति पर व्यय करने का प्लान बनेगा। सुख साधनों की वृद्धि होगी। किसी पुराने अच्छे मित्र से मुलाकात होगी, जो मन को आनंदित करेगी। राजकीय कार्यों में सफलता पाएंगे। परिवार के किसी परिजन की सेहत का विशेष ध्यान रखना आवश्यक है। कार्य व्यवसाय से संतुष्ट रहेंगे। कुटुंबीजनों से मिलन योजना बनेगी। रोजगार संबंधी परेशानी कम होगी। 13 फरवरी के बाद यात्रा के योग बनेंगे। संक्रांति को यथाशक्ति दान काफी सहायक रहेगा व आ रही अड़चनें दूर होंगे।

मार्च : कार्य व्यवसाय में गति आएगी। संघर्ष कम होगा, लंबी यात्रा के भी योग बन रहे हैं। आवश्यकता से अधिक आत्मविश्वास कभी-कभी घाटे का सौदा सिद्ध होता है। परिश्रम द्वारा कार्य सिद्ध होते जाएंगे। प्रातः व सायं तिल के तेल का दीपक रोज जलाने से परिवार में सुख-शांति बढ़ेगी। सूर्य मंत्र का नियमित जाप करना शुभ रहेगा। मनोबल बढ़ेगा। शुभ समाचार प्राप्त होगा। परिवार में बुजुर्गों का आशीर्वाद रोज लेना आरोग्यता प्रदान करेगा।

अप्रैल : भागदौड़ बढ़ेगी, अनेक नए लोगों से संपर्क लाभप्रद सिद्ध होंगे, अपने स्वभाव में शालीनता लाने में हित छिपा है। किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति से मुलाकात 10 अप्रैल बाद सहायक सिद्ध होगी। 18 अप्रैल के बाद यात्रा के भी योग बन रहे हैं। कारोबार पर व्यय की योजना सिरे चढ़ेगी। मित्र सहायक रहेंगे। जीवनसाथी के साथ मधुर संबंध रहेंगे। नौकरी पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है। मानसिक प्रसन्नता बढ़ेगी।

मई : अपने व्यक्तित्व में अच्छा बदलाव पाएंगे। व्यवहार में विनम्रता आएगी। व्यापार में सुखद बदलाव होगा। नौकरी में भी मान-सम्मान की वृद्धि होगी। देर रात्रि वाहन न चलाएं। किसी उच्च व्यक्ति के सहयोग चल रहे विवाद सुलझेंगे। परिवार में आपसी तालमेल ठीक रहेगा। धर्म-कर्म में रुचि लेंगे। सुख स्थान में गुरु की अनुकूल स्थिति संपत्ति वृद्धि में विशेष सहायक रहेगी। सोची योजनाएं 19 मई के बाद पूरी होंगी। 12 मई को बगलामुखी जयंती पर कन्या पूजन करना शुभ रहेगा। शत्रु परास्त होंगे।

जून : उच्च प्रतिष्ठित लोगों से मधुर संबंध बनेंगे। लेखन के क्षेत्र में नाम कमा सकते हैं। राशि स्वामी बुध सूर्य के साथ दसवें स्थान पर विराजमान होने के कारण राज्य पक्ष से मान-सम्मान मिल सकता है। राजकीय कार्यों के लिए यह समय अनुकूल चला है। मित्रों के साथ घूमने-फिरने की योजना बन सकती है। घर-परिवार पर ध्यान देने की आवश्यकता है। शनि, केतु का योग पंचम स्थान में होने के कारण कभी-कभी क्रोध हावी रहेगा, हनुमान चालीसा रोज पढ़ने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार पाएंगे।

जुलाई : नौकरी में तरक्की के योग बन रहे हैं। यदि किसी स्पर्धा में भाग लेंगे तो सफलता के अवसर प्राप्त होंगे। कारोबारी अपने व्यवसाय में प्रगति पाएंगे। रुका धन मिलेगा। किसी परिजन के सहयोग से सुख-साधनों पर खर्चा होगा। संतान पक्ष से अच्छा समाचार पाएंगे। बेरोजगारों को अच्छे अवसर प्राप्त होंगे। मेहनत रंग लाएगी। किसी जरूरतमंद को शनिवार के दिन भोजन कराना लाभदायक रहेगा। 16 जुलाई को गुरुपूर्णिमा व चंद्रग्रहण पर अन्नदान करना अनेक अरिष्टों को दूर करने में सहायक रहेगा।

अगस्त : धन संबंधी दिक्कतें दूर होंगी, पारिवारिक वातावरण सुखद रहेगा। अनेक लोगों से तालमेल बढ़ेगा। सेहत की संभाल रखें। कार्य संबंधी अड़चनें दूर होती जाएंगी और व्यवसाय गति पकड़ना शुरू करेगा। संगीत, कला व अभिनय से जुड़े लोगों का यश मान बढ़ेगा। अच्छे अवसर प्राप्त होंगे। गृहस्थ का सुख पाएंगे, कोई शुभ कार्य हाथों से होगा। विद्यार्थियों के लिए अच्छा समय चल रहा है। अपना विद्या पक्ष उबरेगा और सोची योजना पूरी होगी। संक्रांति के दिन अन्न दान शुभता प्रदान करेगा।

सितंबर : पुरुषार्थी के लिए कुछ भी असंभव नहीं। आप जो कुछ भी प्राप्त करेंगे स्वयं के पुरुषार्थ से ही स्वयं पर विश्वास कम न होने दें। कार्य सिद्ध होंगे। मां लक्ष्मी की आराधना नियमित करें। राज्य पक्ष से लाभ मिलेगा। यदि सरकारी नौकरी में हैं तो प्रतिष्ठा बढ़ेगी, पुरस्कृत भी हो सकते हैं। घर- परिवार का सुख मिलेगा। किसी जरूरतमंद को भोजन शनिवार को कराना मानसिक परेशानियों को दूर करने में सहायक रहेगा। 28 सितंबर सर्वपितृ श्राद्ध व अमावस्या को अन्न व वस्त्र दान करें। शुभता प्राप्त होगी।

अक्तूबर : ओज और तेज बढ़ेगा, सुरक्षा विभाग में कार्यरत होने वालों के हौसले बढ़ेंगे। विजयश्री प्राप्त होगी। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। निर्भय होकर अपने लक्ष्य को भेदने में सफल रहेंगे। राशि पर सूर्य मंगल का योग आत्मविश्वास को बढ़ाएगा और रुके कार्य सिद्ध होंगे। धन की स्थिति मजबूत होगी। दांपत्य जीवन में समरसता आएगी। रोजगार की तलाश में बेरोजगारों को रोजगार प्राप्त होगा। स्पर्धा में सफलता पाएंगे। बुजुर्गों का आशीर्वाद लेते रहें। राहु अनुकूल होता जाएगा।

नवंबर : यात्रा के अकस्मात योग बनेंगे जो शुभता प्रदान करेगी। परिवार पर विशेष ध्यान देना पड़ेगा। जीवन साथी से आपसी तालमेल अच्छा बढ़ेगा। धन की स्थिति मजबूत होगी। स्वास्थ्य में सुधार पाएंगे। खाना खाने के बाद गुड़ का सेवन करना शुभ रहेगा। पाचन तंत्र सुधरेगा और बल वृद्धि भी होगी। 16 नवंबर संक्रांति को गुड़ व गेहूं का दान करें, अड़चने शांत होंगी और आत्मबल की वृद्धि होगी। 19 नवंबर काल भैरव अष्टमी को कुत्ते को रोटी खिलाएं। केतु की अनुकूलता बढ़ेगी और रुके कार्य बनेंगे।

दिसंबर : किसी से मनमुटाव हो सकता है जिस कारण अशांति बढ़ सकती है। कारोबार व नौकरी पक्ष ठीक है। भागदौड़ 10 दिसंबर के बाद बढ़ सकती है। परिवार के साथ समय गुजारने की इच्छा बढ़ेगी। राजदरबार में रुतबा बढ़ेगा। महिला मित्र के सहयोग से कार्य बनेंगे। किसी नए प्रोजेक्ट को हाथ में लेने की योजना सिरे चढ़ेगी। लेखन से जुड़े लोगों की मान  प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

तुला

जनवरी : आर्थिक स्थिति में सुखद बदलाव मन को प्रसन्न करेगा, परिवारजनों से आत्मीयता बढ़ेगी, 11 जनवरी के बाद किसी परिजन की सेहत को लेकर चिंतित रह सकते हैं, संपत्ति संबंधी दिक्कतें कम होंगी, नौकरी व कारोबार संबंधी अड़चनें शांत होंगी। शत्रु पक्ष से सावधान रहें, मां बगलामुखी के बीज मंत्र का नियमित जाप करते रहें। सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा, बुजुर्गों की सेवा करते रहें। मान-सम्मान में वृद्धि होगी, 17 जनवरी को पुत्रदा एकादशी पर बच्चों में फल बांटें। घर गृहस्थी अच्छी रहेगी।

फरवरी : आध्यात्मिक क्षेत्र के प्रति रुझान बढ़ेगा, गृहस्थ जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कारोबार व नौकरी यथावत चलेगी। घर के किसी सदस्य की सेहत को लेकर चिंता बढ़ेगी, 4 फरवरी सोमावती अमावस्या को यथाशक्ति चावल का दान करें और शिव का अभिषेक करें, मनोव्यथाएं दूर होंगी और मानसिक प्रसन्नता बढ़ेगी, धन की स्थिति भी सुधरेगी, रूठा साथी अनुकूल होता जाएगा। विद्यार्थियों को 10 फरवरी बसंत पंचमी के दिन 11 छोटे स्कूली बच्चों को एक कापी व एक पैन भेंट करने से मां सरस्वती की विशेष कृपा प्राप्त होगी।

मार्च : किसी संबंधी से मनमुटाव हो सकता है, अपने स्वभाव पर विशेष ध्यान दें। कोई भी कदम उठाने से पहले सोचें और बुजुर्गों की सलाह लेना न भूलें। शनि केतु, पराक्रम में होने से कभी कभी व्यक्ति विवेक से काम नहीं लेता, शनि उपाय आवश्यक है। रोज मां गायत्री का जाप करने से आत्मबल, बुद्धिबल जहां बढ़ता है, वहीं परिस्थितियां अनुकूल होती जाती हैं। आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की आवश्यकता है। महाशिवरात्रि 4 मार्च के दिन संयोगवश सोमवार है। भगवान शिव का दूध से अभिषेक करें।

अप्रैल : संतान के भविष्य को लेकर चिंता दूर होगी, शुभ व्यय होगा, गृहस्थ जीवन में आपसी तालमेल बढ़ेगा, राशि स्वामी शुक्र पंचम स्थान में होने से विलास आदि साधनों पर व्यय होगा और मकान आदि की सजावट पर भी खर्चा करने का प्लान बनेगा, नवरात्र में कन्याओं का पूजन करना यशस्वी बना देगा, आर्थिक समस्या नहीं आएगी। घर में बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लिया करें। प्रगति पथ पर निरंतर आगे बढ़ते जाएंगे। नौकरी संबंधी दिक्कतें दूर होंगी।

मई : पेट में वायु विकार तंग कर सकता है। खानपान का विशेष ध्यान रखें, मसालेदार आहार न लें। साबूत मूंग का दान किसी जरूरतमंद को दें। परिस्थिति अनुकूल होती जाएगी। कारोबार में सुधार आएगा, 18 मई से स्थिति अच्छी होती जाएगी, मां बगलामुखी जयंती 12 मई को कन्याओं का पूजन करने से विवाद शांत होंगे और आत्मविश्वास की वृद्धि होगी, रुके कार्य बनेंगे, घर परिवार की स्थिति अनुकूल होती जाएगी।

जून : जीवन साथी से लाभ होगा, कोई उपहार भी मिलेगा। राशि स्वामी शुक्र केंद्र में आसीन है। कोई रुका कार्य बनेगा। मन प्रसन्न होगा, कारोबार संबंधी दिक्कतें दूर होंगी, संपत्ति संबंधी विवाद सुलझेगा, नौकरी में मन लगेगा, क्रोध पर नियंत्रण रखें। मंगल स्तोत्र का रोज पाठ करें। वाणी विनम्र होती जाएगी, विद्यार्थियों को मां सरस्वती की कृपा प्राप्त होगी, शुद्ध शाकाहारी रहने में ही भलाई है। 10 जून धूमावती जयंती पर वस्त्र किसी कन्या को भेंट करें।

जुलाई : सरकारी कार्यों में कुछ अड़चनें आ सकती हैं। मंगल बुध का कर्क राशि में होने के कारण कोई परेशानी पैदा कर सकता है। झूठा आरोप भी लग सकता है। मंगल और चंद्र का उपाय आवश्यक है, गुरु पूर्णिमा 16 जुलाई को चंद्रग्रहण भी है। वजन जितने चावल किसी जरूरतमंद को दान करें और उसके बाद पानी वाला नारियल शिव मंदिर में रखें। अड़चनें शांत होती जाएंगी और शुभ फलों की प्राप्ति होगी। समय अनुकूल होता जाएगा। आर्थिक पक्ष भी सुधरेगा, मित्र सहायक रहेंगे।

अगस्त : यात्रा के शुभ योग बनेंगे। विदेश में रोजगार संबंधी रुके कार्य बनने की संभावना बनेगी। राहु का भाग्यस्थान में मिथुन राशि में होने से अटके कार्य बनेंगे। भाई बंधुओं के साथ संबंधों में सुधार पाएंगे, महिला मित्र के साथ अच्छे संबंध बनेंगे और उनसे सहयोग भी प्राप्त होगा, देर रात्रि तक न जागें। पूरी नींद लेना स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। कारोबार संबंधी समस्या दूर होगी और आर्थिक स्थिति में भी सुधार आएगा, 20 अगस्त के बाद कोई श्ुभ समाचार प्राप्त होगा। मंगल कार्य की योजना बनेगी।ं

सितंबर : पराक्रम बढ़ेगा, स्वयं के ही पुरुषार्थ से लटके कार्य बनेंगे। अकस्मात यात्रा के योग बनेंगे, कुछ घरेलू परेशानी अशांत कर सकती है। हिम्मत से आगे बढ़ते रहेंगे। धैर्य से काम करें, सफलता अवश्य मिलेगी। 10 सितंबर को वामन जयंती पर किसी गरीब को भोजन कराएं। मनोव्यथा दूर होगी और आ रही अड़चनें शांत होंगी। दाम्पत्य जीवन अच्छा रहेगा। विद्यार्थियों के लिए समय अनुकूल चला है। प्रातः सूर्य उदय से पहले उठें और पढ़ाई करें। स्मरण शक्ति बढ़ेगी, सूर्य का जाप भी नियमित किया करें।

अक्तूबर : राशि पर शुभ ग्रहों शुक्र व बुध का चल रहा योग कारोबार व नौकरी में प्रगति देगा, धन की स्थिति अच्छी रहेगी, सुख साधनों की वृद्धि होगी, गृहस्थ जीवन में यदि मनमुटाव चल रहा है वह निश्चित रूप से दूर होगा। अविवाहितों को अच्छे वर की प्राप्ति के भी योग बन रहे हैं। शरद पूर्णिमा के दिन 13 अक्तूबर रविवार को खीर का दान लक्ष्मी वृद्धि के योग को मजबूत करेगा। शनिवार को रोटी कुत्ते को अवश्य खिलाएं। परेशानियां दूर होंगी।

नवंबर : स्वभाव पर विशेष ध्यान पड़ेगा, सूर्य राशि पर आने से अकस्मात क्रोध परेशान कर सकता है। गेहूं का रविवार को दान देना विशेष लाभकारी रहेगा। लड़ाई-झगड़ों से दूर रहने में ही भलाई है। घर परिवार का सुख मिलेगा, कामकाज में रुचि बढ़ेगी, 19 नवंबर को काल भैरव की अष्टमी के दिन भैरव पूजन करना व कुत्ते को रोटी खिलाना विशेष लाभकारी रहेगा, अड़चनें दूर होंगी, कार्य बनेंगे। यात्रा लाभकारी रहेगी, सोची योजनाएं सिरे चढ़ेंगी, शुभ फलों की प्राप्ति होगी।

दिसंबर : ओज तेज बढ़ेगा, राशि पर मंगल के आने से दौड़धूप परिणामकारी रहेगी, कारोबार में तरक्की होगी, रुका धन प्राप्त होगा, कोई उलझन अवश्य सुलझेगी, भाई-बहनों से संबंधों में सुधार आएगा। संतान के भविष्य को लेकर व्यय होगा, घर में 13 दिसंबर के बाद कोई मंगल कार्य की योजना बनेगी, नौकरी पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।

बृश्चिक

जनवरी : राशि पर गुरु-शुक्र का अच्छा प्रभाव और राशि स्वामी मंगल की पंचमस्थ होने से मान-प्रतिष्ठा व उत्साह में वृद्धि होगी। सौभाग्य सूचक योग बन रहा है। धर्म-कर्म में रुचि और परिवार में शुभ कार्य भी संपन्न होंगे, आर्थिक स्थिति में कुछ उतार-चढ़ाव आ सकता है, अपव्यय से बचें। पौष पूर्णिमा पर व्रत रखना शुभ रहेगा, साथ ही बच्चों में केले बांटें, अड़चनें शांत होंगी। पारिवारिक व कुटुंबीगणों से मेल-मिलाप अच्छा रहेगा, शुभ व्यय के योग 23 जनवरी के बाद बन रहे हैं। राशि स्वामी मंगल का उपाय काफी सहायक रहेगा।

फरवरी : गुरु का राशि पर अनुकूल प्रभाव काफी शुभता प्रदान करेगा, बिगड़े कार्य बनेंगे, पराक्रम वृद्धि और उत्साह भी बढ़ेगा, उच्च प्रतिष्ठित लोगों से संपर्क लाभकारी सिद्ध होंगे। शुद्ध शाकाहारी रहना लाभदायक रहेगा, कोई नया काम हाथ में लेने की योजना बनेगी। अपने स्वभाव में विनम्रता लाएं और सूर्य को रोज प्रातः जल दिया करें। विद्यार्थियों के लिए ग्रहस्थिति अनुकूल चल रही है। सोचे कार्य बनेंगे और शिक्षा के क्षेत्र में विशेष सम्मान बढ़ेगा। मनोदशा अच्छी रहेगी, माता-पिता का नियमित आशीर्वाद लेते रहें। कल्याण होगा।

मार्च : राशि पर मंगल की स्वगृही दृष्टि रहने से शुभ फल घटित होंगे। कुछ बिगड़े कार्यों में सुधार आएगा, प्रतिकूल चलने वाले अनुकूल चलेंगे। आर्थिक स्थिति सुधरेगी, पदोन्नति के भी योग बन रहे हैं, प्रसन्नता बढ़ेगी, कुलदेवी के दर्शन करने से परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी और सोचे कार्य भी बनते चले जाएंगे, स्वास्थ्य पक्ष भी अच्छा रहेगा, यात्रा की भी संभावना बन रही है। 18 मार्च से दौड़धूप बढ़ेगी, गाय को गुड़ वाली रोटी खिलाते रहें, मंगल होता जाएगा।

अप्रैल : अकस्मात लाभ के मार्ग प्रशस्त हो रहे हैं। आर्थिक स्थिति भी अच्छी होगी, शनि की चल रही साढ़ेसती के कारण परिवार पक्ष से अशांति महसूस करेंगे, वाद-विवाद से स्वयं को दूर रखें, अपव्यय से बचें, उधार देने से पहले गंभीरता से सोचें, मंगल स्तोत्र का नियमित जाप करना विशेष लाभ प्रदान करेगा, मित्र सहायक रहेंगे, राजदरबार से प्रसन्नता जहां मिलेगी, वहीं मान-सम्मान और प्रतिष्ठा के भी 21 अप्रैल से योग अच्छे बन रहे हैं।

मई : सावधानी से हर काम करने की जरूरत है। राहु अष्टम स्थान में मंगल के साथ होने से उलझनें बढ़ेंगी, हनुमान चालीसा रोज पढ़ें और वाद-विवाद से स्वयं को दूर रखें। क्रोध पर अकुंश जरूरी है। 12 मई बगलामुखी जयंती व दुर्गा अष्टमी पर कन्या पूजन करना शुभ रहेगा और बेसन की बर्फी बच्चों में बांटें। अवश्य मानसिक व्यथाएं शांत होंगी। शत्रु भय से राहत पाएंगे। विद्यार्थियों का विद्या बल बढ़ेगा, सूर्य को प्रातः जल जरूर दिया करें।

जून : लेखन व साहित्य से जुड़े लोगों के लिए समय अनुकूल चला है। इसका लाभ उठाएं। सेहत का ध्यान रखें। राशि स्वामी अष्टमस्थान राहु के साथ होने से बनते कार्यों में रुकावटें आएंगी, मकर राशि पर गुरु का संचार राहत पहुंचाता रहेगा, गंगा दशहरा 12 जून को शिवलिंग पर जल चढ़ाएं और पानी वाला नारियल भी चढ़ाएं। परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। पारिवारिक चिंता दूर होगी, कारोबार की स्थिति अनुकूल होगी, साथ ही धन आगमन के अच्छे योग भी बनते रहेंगे।

जुलाई : अपनी वाणी पर संयम रखें अन्यथा किसी वाद-विवाद में पड़ सकते हैं, आपसी संबंधों में खटास बढ़ेगी। न्यायालय से जुड़े मामलों के लिए प्रयास तेज करने पड़ेंगे। राहु सूर्य और शुक्र का अष्टम स्थान में होना संघर्ष कराता है। गुरु राशि पर काफी मददगार रहेगा, बुजुर्गों और विद्वानों की सेवा करें, साथ ही आशीर्वाद लेने से बिगड़े कार्य बनेंगे। नौकरी पक्ष पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है। किसी अधिकारी के सहयोग से परिस्थितियां अनुकूल रहेंगी।

अगस्त : व्यय की अधिकता तंग कर सकती है, संतान पर शुभ व्यय होगा, घरेलू कार्य बनेंगे, 17 अगस्त संक्रांति के दिन 11 मीठी रोटियां गाय को खिलाएं और 24 अगस्त को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन रोगियों में फल बांटें। कल्याण होगा। आ रही अड़चनें दूर होंगी, कारोबारी स्थिति में आ रही दिक्कतें भी कम होती जाएंगी। 19 अगस्त को शुभ समाचार मन को प्रसन्न करेगा। रुका धन प्राप्त होगा।

सितंबर : कार्य व्यस्तताएं बढ़ेंगी, लग्न में राशि पर गुरु और दशम स्थान में चतुग्रही योग सूर्य, मंगल व बुध और शुक्र का होना मान-सम्मान प्रतिष्ठा को बढ़ाएगा। संतान पक्ष से खुशी मिलेगी, विद्यार्थियों के लिए शुभ समय है। विद्या बल व मनोबल दोनों बढ़ेंगे। 28 सितंबर को शनैश्चरी अमावस्या पर कुछ जरूरतमंदों को भोजन कराएं। कार्य सिद्ध होते जाएंगे। मित्र सहायक रहेंगे, उच्चजनों से आत्मीय संबंध बनेंगे, सेहत का 21 सितंबर के बाद विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है।

अक्तूबर : किसी विशेष कार्य को लेकर चल रही दौड़धूप फलीभूत होगी, उच्च प्रतिष्ठित लोगों का पूरा सहयोग प्राप्त होगा, शुभ कार्यों पर व्यय होगा। सेहत का ध्यान रखें, अष्टम स्थान में राहु के कारण अनावश्यक कार्यों में उलझ भी सकते हैं। राहु का उपाय सहायक रहेगा। पीपल की जड़ के आसपास शक्कर, गुड़ डाला करें। मानसिक व्यथाएं शांत होती जाएंगी और आर्थिक स्थिति में अच्छा बदलाव भी देखने को मिलेगा।

नवंबर : पारिवारिक परेशानी कभी-कभी अशांति का कारण बन सकती है। कुछ सदस्य गलतफहमी के शिकार होने के कारण नकारात्मक विचार रखेंगे। धैर्य से काम लें, 18 नवंबर के बाद परिस्थितियां जहां अनुकूल होती जाएंगी, वहीं गलतफहमी भी दूर होगी। वाद-विवाद से स्वयं को दूर रखें। कारोबार की स्थिति अच्छी रहेगी, धन आगमन के भी योग बन रहे हैं। अनेक बाधाओं के बावजूद स्वयं को संभालते हुए जिम्मेदारियों का निर्वहन करते जाएंगे।

दिसंबर : मंगल की स्थिति विशेष अनुकूल नहीं चल रही है। तुला राशि में द्वादश स्थान पर होने के कारण कुछ तनाव रहेंगे। मंगल का उपाय विशेष सहायक रहेगा, मंगल स्तोत्र का नियमित जाप करना आत्मबल व मनोबल दोनों को बढ़ाएगा। परिवार में मतभेद रहेगा। आहत रहेंगे। क्रोध की अधिकता भी रहेगी। सेहत का विशेष ध्यान रखें। मंगलवार को मलका मसुर की दाल 250 ग्राम किसी जरूरतमंद को दें। इससे निश्चित ही लाभ प्राप्त होगा।

धनु

जनवरी : धनु राशि में सूर्य और शनि की युक्ति के कारण एक तरफ व्यस्त रहेंगे, साथ ही दिमाग पर उलझनों का बोझ भी रहेगा, व्यस्त व उलझनों के दौर में रहते हुए भी हिम्मत साथ देती रहेगी, धन की कमी भी कभी-कभी अखरेगी, अपने पराये की पहचान होगी। दाम्पत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। व्यय की अधिकता रहेगी, नौकरी व कारोबार पर ध्यान देना आवश्यक है। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी, गुरु और शुक्र का द्वादश में होना काफी शुभता प्रदान करेगा। 13 जनवरी को लोहड़ी पर गुड़ की रेवड़ी बांटें। कल्याण होगा।

फरवरी : घरेलू परिस्थितियां सुधरेंगी, आज द्वारा किए जा रहे प्रयास अवश्य फलीभूत रहेंगे। किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे। कारोबारी स्थिति में भी बदलाव पाएंगे। शुद्ध शाकाहारी रहें और रोज पंचाक्षरी शिव मंत्र का जाप करते रहा करें। 4 फरवरी सोमावती अमावस्या के दिन जरूरतमंद को दाल-चावल  खिलाएं। मानसिक शांति पाएंगे और मनो व्यथा दूर होगी, कारोबार व नौकरी पक्ष शुभ रहेगा, प्रयास सफल रहेंगे।

मार्च : सेहत का विशेष ध्यान रखें, एलर्जी तंग कर सकती है। परिवार के सदस्यों का पूरा सहयोग मिलेगा। धन आगमन के अच्छे योग बनेंगे। शुक्र व बुध के योग से कारोबार व नौकरी की स्थिति में सुधार पाएंगे, नया प्रोजेक्ट हाथ मेें लेने पर लाभ होगा, भागदौड़ रंग लाएगी। अविवाहितों को विवाह के योग भी बन रहे हैं। 4 मार्च महाशिवरात्रि को भगवान शिव की कृपा प्राप्त हो, उसके लिए व्रत रख सकें तो रखें और पंचाक्षरी मंत्र का अधिक से अधिक जाप करें। 20 मार्च को होलिका दहन पर यज्ञ में आहुति डालें। पीड़ाएं दूर होंगी।

अप्रैल : परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। आत्मबल बढ़ेगा, धैर्य से काम लेने का सुखद परिणाम देखने को मिलेगा, रोजगार पक्ष अच्छा रहेगा। संतान पक्ष से प्रसन्नता मिलेगी, पारिवारिक माहौल सुखद पाएंगे, गुरु की स्थिति शुभ बन रही है। चना दाल व गुड़ गाय को खिलाएं, वाहन ध्यान से चलाएं। दाम्पत्य जीवन में आपसी तालमेल ठीक रहे, इस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

मई : शनि केतु व सूर्य बुध का नवपंचम योग अड़चनें व विघ्न-बाधाएं पैदा कर सकता है। मानसिक तनाव व सिरदर्द यदा कदा परेशानी बढ़ा सकता है, गुरु की पराक्रम पर दृष्टि के कारण हिम्मत बनी रहेगी और अधिक प्रयास करने पर बिगड़े काम अवश्य बनते जाएंगे। घर गृहस्थी पर ध्यान देने की आवश्यकता है। छोटी-छोटी बातों पर मनमुटाव मन को अशांत करेगा। कन्या पूजन किसी भी गुरुवार को करें और 12 मई को मां बगलामुखी जयंती पर बेसन की बर्फी बच्चों में बांटें, अवश्य लाभ होगा और व्यथाएं शांत होंगी।

जून : व्यर्थ की दौड़धूप में कमी आएगी। परिजनों से अच्छे संबंध बनेंगे। परेशानी कम होती जाएगी। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। कभी-कभी मन उच्चाट रहेगा, मगर धैर्य से काम करें, साथ ही स्वयं में सहनशीलता के गुण भी लाएं, ग्रहस्थिति कुछ समय के लिए अनुकूल नहीं चल रही है। 10 जून को धूमावती जयंती पर सिद्धकुञ्जका स्तोत्र का 11 बार पाठ  करें, अवश्य मनोबल बढ़ेगा और आत्मबल में भी वृद्धि पाएंगे। अड़चनें शांत होंगी।

जुलाई : सेहत को लेकर थोड़े चिंतित रहेंगे। कार्य पक्ष पर विशेष ध्यान देना पड़ेगा, राशि पर शनि केतु विराजमान है, साथ शनि साढे़सती भी चल रही है। पेट से संबंधित दिक्कत पैदा हो सकती है। शनिवार को खिचड़ी किसी गरीब को खिलाएं और शनि स्तोत्र का नियमित पाठ करें। परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। पारिवारिक परेशानी कम होगी, उलझनें सुलझती जाएंगी। आर्थिक पक्ष भी अच्छा होता जाएगा। गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण भी है। 16 जुलाई के दिन चावल यथाशक्ति किसी जरूरतमंद को भेंट करें। अवश्य लाभ होगा।

अगस्त : कुछ पारिवारिक समस्याएं मन को अशांत कर सकती हैं, सू., म.ं का अष्टमस्थ होने के कारण संघर्ष के दौर से गुजरना पड़ सकता है। दुर्गा अष्टमी के दिन देवी के मंदिर में एक पानी वाला नारियल भेंट करें, साथ ही 24 अगस्त को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को बच्चों में फल बांटें, अवश्य प्रभु कृपा के पात्र बनेंगे, सेहत में भी सुधार देखेंगे। विपरीत चलने वाले अनुकूल चलेंगे। गृहस्थ जीवन में आत्मीयता आएगी। रुके कार्य बनते चले जाएंगे, धैर्य से कार्य करते जाएं, अवश्य सफलता मिलेगी।

सितंबर : सूर्य बुध, मंगल व शुक्र का चतुर्ग्रही योग भाग्य स्थान पर सिंह राशि में बनने से 15 सितंबर बाद मन को प्रसन्न करने वाले समाचार मिलेंगे। बिगड़े व रुके कार्य बनेंगे। आशा की किरण देखने को मिलेगी, निराशा के बादल धीरे-धीरे छंटेंगे। कोई नया काम हाथ में लेंगे। आत्मविश्वास बढ़ेगा, किसी उच्च व प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से कार्य बनेंगे, अपने स्वभाव में भी अच्छा बदलाव पाएंगे। 28 सितंबर को सर्वपितृ श्राद्ध व शनैश्चरी अमावस्या पर कुछ जरूरतमंदों को भोजन कराएं। मनोइच्छाएं पूरी होंगी।

अक्तूबर : सरकारी क्षेत्र में रुके कार्य बनेंगे। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी, राजनीतिक क्षेत्र से जुड़े लोगों का यश बढ़ेगा। विपरीत चलने वाले साथ देंगे, घर परिवार के हालात भी अच्छे होते जाएंगे। दाम्पत्य जीवन में भी समरसता बढ़ेगी, किसी परिजन से चला आ रहा मनमुटाव दूर होगा। घर में बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लेने से नकारात्मक सोच घटती चली जाएगी और परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। शिव के पंचाक्षरी मंत्र का रोज जाप करें। शुभता बढ़ेगी।

नवंबर : बुद्धिबल व आत्मबल बढ़ेगा, घर-परिवार में आपसी सामंजस्य बढ़ेगा, रुके कार्य बनेंगे। भागदौड़ परिणामकारी रहेगी, क्रोध पर नियंत्रण रखें और मंगल का उपाय काफी सहायक रहेगा, राशि पर मंगल की दृष्टि के कारण पाचनतंत्र पर विशेष ध्यान दें। नौकरी व कारोबारी पक्ष सामान्य रहेगा, उच्चजनों  से 19 नवंबर के बाद अच्छे संबंध बनेंगे। 12 नवंबर को गुरु नानक जयंती पर अपनी सेवाएं दें। अड़चनें अवश्य शांत होती जाएंगी, शनि की साढ़ेसती का प्रभाव भी अच्छा होता जाएगा।

दिसंबर : राशि स्वामी गुरु का राशि पर आना काफी राहत प्रदान करेगा, बिगड़े कार्य बनेंगे। विद्यार्थियों के लिए ग्रहस्थिति शुभ है। पढ़ाई में रुचि बढ़ेगी, सोचे कार्य बनने शुरू होंगे। परिवार के माहौल में अच्छापन आएगा, मनमुटाव दूर होगा, सेहत में भी सुधार पाएंगे। 11 दिसंबर को दत्तात्रेय जयंती पर फल रोगियों में बांटें और शिव मंदिर में दूध से अभिषेक करें। प्रभु कृपा प्राप्त होगी, अड़चनें शांत होंगी।

मकर

जनवरी : परिश्रम करने की शक्ति प्राप्त होगी। आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी। दौड़धूप रहेगी। राशि पर केतु का हो रहा संचार कल्पनाओं में घुमाता रहेगा, धर्म-कर्म के प्रति रुचि बढ़ेगी, कुत्ते की सेवा करना शुभ रहेगा, पराक्रम वृद्धि होगी। लंबी यात्रा का प्रोग्राम भी बनेगा। परिवार संग समय गुजारेंगे। दिमागी शक्ति बढ़ेगी, यादाश्त में भी अच्छा सुधार पाएंगे। गुरु और शुक्र का सुंदर योग ग्यारहवें स्थान पर बना है, जो रुके कार्यों को पूरा करने की प्रेरणा बनेगा। लोहड़ी व संक्रांति के दिन तिल से बनी मिठाई व ऊनी वस्त्र का दान शुभ रहेगा।

फरवरी : भागदौड़ होने पर भी आय के साधनों में वृद्धि होगी। व्यस्तताएं बढ़ेंगी, राहु पर मंगल की नीच दृष्टि होने पर मानसिक तनाव  अशांत करेगा, सेहत का भी ध्यान रखें, चोट आदि का भय भी बन रहा है। राहु मंगल का उपाय आवश्यक है। धन के लेन-देन में लापरवाही न बरतें, हानि उठानी पड़ सकती है। अपने स्वभाव में विनम्रता लाएं। परिवार में किसी प्रियजन से वाद-विवाद महंगा पड़ सकता है। संतान पक्ष से कुछ चिंता रहेगी, जो अशांति का कारण बनेगा। लंबी यात्रा की भी योजना बनेगी।

मार्च : आय के साधनों की वृद्धि होगी और पराक्रम बढ़ेगा। आत्मविश्वास से आगे बढ़ेंगे और अनेक रुके कार्यों को पूरा करने में सक्रिय होंगे। घर गृहस्थी में भी अच्छापन आएगा, मास के आखिरी भाग में सेहत का विशेष ध्यान रखना आवश्यक है। रक्त विकार संबंधी परेशानी तंग कर सकती है। नौकरी में रुतबा बढ़ेगा। अधिकारी सहायक सिद्ध होंगे, सहयोगियों से मधुर संबंध रहेंगे। कुलदेवी का आशीर्वाद लेना सुखद रहेगा।

अप्रैल : शुक्र की स्थिति अनुकूल होने के कारण परिस्थितियां अनुकूल रहेंगी, कारोबार में सुधार पाएंगे, मगर व्यय की अधिकता भी रहेगी, धन संचय का प्लान नहीं बन पाएगा, अकस्मात व्यय के कारण बजट प्रभावित रहेगा। कोर्ट कचहरी में संबंधित मामले सुलझाने के प्रयास तेज होंगे। 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक नवरात्र के दौरान कन्यापूजन करना अनेक व्यथाओं को शांत करेगा। शुद्ध शाकाहारी रहें और सूर्य को रोज जल दिया करें।

मई : अपने व्यवहार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। क्रोध की अधिकता बढ़ सकती है। शनि वक्री व केतु के साथ होने के कारण चिड़चिड़ापन बढ़ेगा, छोटी-छोटी बातों पर आवेश में आना कभी-कभी हानि का कारण बन सकता है। वाणी पर संयम रखना ही बुद्धिमता है। सुख साधनों पर व्यय होगा, अच्छे वस्त्रों पर व्यय करेंगे, अच्छा समाचार 19 मई के बाद मिलेगा, दूर देश की यात्रा के भी योग बन रहे हैं। 4 मई शनैश्चरी अमावस्या को अन्नदान करना भाग्यवर्धक रहेगा।

जून : आलस्य को हावी न होने दें, प्राणायाम नियमित करना स्वास्थ्यवर्धक होगा। संतान संबंधी चिंता मन को अशांत करेगी, 12 जून गंगा दशहरा पर राहगीरों को पानी पिलाने से चंद्रमा अनुकूल रहेगा और धन की स्थिति मजबूत होगी, उच्चजनों से मधुर संबंध रहेंगे, पारिवारिक परिस्थिति में सुधार पाएंगे। मित्र सहायक रहेंगे, 15 जून के बाद गेहूं का यथाशक्ति दान रविवार को करने से मान-सम्मान की प्राप्ति के योग बनेंगे। मिथुन में सूर्य आने से राहु के साथ हो जाएगा, सूर्य राहु का योग ठीक नहीं होता।

जुलाई : गृहस्थ जीवन में सुधार जहां आएगा, वहीं आपसी तालमेल भी बढ़ेगा, बुध की स्थिति विशेष मददगार साबित रहेगी, ग्यारहवें स्थान पर गुरु का शुभ योग, बुद्धिबल को बढ़ाएगा और किसी विशिष्ट व्यक्ति के सहयोग से रुका कार्य बनेगा, आर्थिक स्थिति सुधरेगी, संघर्ष के दौर से गुजरने के बाद भी हिम्मत बनी रहेगी, संतान के भविष्य को लेकर अच्छी योजना बनेगी, लंबी यात्रा के भी योग बन रहे हैं। व्यवसाय व नौकरी पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है।

अगस्त : शत्रु पक्ष कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा, मगर दौड़धूप अधिक रहेगी, मंगल शुक्र सूर्य बुध का सप्तम स्थान में होना मिला जुला प्रभाव पारिवारिक जीवन पर डालेगा, कभी-कभी मन अशांति के दौर से गुजरेगा और संसार से विरक्ति की भावना पैदा होगी, आत्मविश्वास बढ़ेगा। दाम्पत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है, दुर्गा अष्टमी पर बच्चों में मिष्ठान बांटें, मनोबल बढ़ेगा, लक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त होगी।

सितंबर : स्वास्थ्य पक्ष को लेकर थोड़ी परेशानी बढ़ सकती है, समय रहते अच्छे चिकित्सक से सलाह लें और रक्त परीक्षण आदि कर लें, सूर्य, मंगल, शुक्र व बुध का अष्टम स्थान पर योग ठीक नहीं है। हो सके तो किसी भी शनिवार को तोलादान कराएं और महामृत्युञ्जय का नियमित पाठ करें, प्रयास के अनुरूप फल प्राप्त नहीं होंगे। पारिवारिकजनों से भी वैचारिक मतभेद रहेगा, देर रात्रि तक न जागें, आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी, वाहन ध्यान से चलाएं। 28 सितंबर सर्वपितृ श्राद्ध व शनैश्चरी अमावस्या पर कुछ गरीबों को भोजन कराना विशेष लाभकारी रहेगा।

अक्तूबर : मान प्रतिष्ठा व यश प्राप्ति के लिए माह अच्छा है। प्रतिष्ठित लोगों के साथ भी मेल-जोल बढ़ेगा, भाग्य स्थान पर मंगल सूर्य की स्थिति रुके कार्यों की पूर्ति में सहायक रहेगीष। 7 अक्तूबर को कन्याओं में मिष्ठान बांटने से कार्य सिद्धि के प्रबल योग बनेंगे। कार्तिक संक्रांति 17 अक्तूबर से कोई शुभ समाचार प्राप्त होगा, मेहनत अधिक करने पर भी धन की प्राप्ति योग्यता के अनुरूप नहीं मिलने से मानसिक अशांति बढ़ेगी। मां बगलामुखी के मूल मंत्र का रोज जाप करें, कल्याण होगा।

नवंबर : कारोबार व नौकरी पक्ष सुधरेगा, किसी बिगड़े कार्य के बनने के आसार भी बन रहे हैं। सूर्य का दसवें स्थान में योग प्रतिष्ठा को बढ़ाएगा। सेहत अच्छी रहेगी, 16 नवंबर को सूर्य का वृश्चिक राशि में आने पर प्रतिकूल परिस्थितियां सुधरनी शुरू होंगी। पूर्णिमा के दिन केलों का दान शुभ रहेगा। मरीजों को फल बांटने से सकारात्मक सोच बढ़ेगी। बेरोजगारों को रोजगार प्राप्ति के योग बन रहे हैं, 19 नवंबर को कालभैरव पूजा करने से अरिष्ट दूर होंगे।

दिसंबर : अपने विचारों में अच्छा बदलाव लाने की कोशिश करेंगे। आत्मबल बढ़ेगा, सेहत का ध्यान आवश्यक है। तीखा भोजन न खाएं, पित बढ़ सकता है और टांगों में हल्की पीड़ा के भी योग बन रहे हैं। शनि व राहु का उपाय सहायक रहेगा। आर्थिक स्थिति सुधरेगी, व्यय की अधिकता भी रहेगी, विदेश संबंधी रुके कार्य बनेंगे। 21 दिसंबर के बाद कोई शुभ समाचार मिलेगा जिससे मन में प्रसन्नता का आभास होगा। धर्म-कर्म के कार्य करते रहें। इससे भी सुकून मिलेगा।

कुंभ

जनवरी : आय के साधनों में वृद्धि होने के संकेत बन रहे हैं। गुरु की कृपा बनी रहेगी। बुद्धि बल बढे़गा। पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों की पढ़ाई में रुचि बढ़ेगी। किसी अनावश्यक कार्य को लेकर यात्रा भी हो सकती है। घर- परिवार में अच्छा माहौल रहेगा। नौकरी पर ध्यान दें और अधिकारियों से संबंधों में सुधार पाएंगे। बताशे या गुड़ से बनी रेबडि़यां दान करना शुभ रहेगा। शाकाहारी रहने से नकारात्मक सोच शांत रहेगी और गृह निवास में अच्छी ऊर्जा का संचार होगा।

फरवरी : सुख साधनों पर खर्चा होगा। घरेलू जीवन में आपसी समरसता बढ़ेगी। किसी उच्च अधिकारी से अच्छे संबंध बनेंगे। संपत्ति पर व्यय का प्लान बनेगा। पारिवारिक सदस्यों में आपसी प्रेम बनाने के लिए आप की महत्त्वपूर्ण भूमिका रहेगी। व्यापार पर ध्यान देने की आवश्यकता है। दांपत्य जीवन अच्छा रहेगा। नौकरी में अच्छा समय गुजरेगा। अपने बुद्धिबल से सभी को अनुकूल बनाने की कोशिश सफल रहेगी। माघ पूर्णिमा के दिन स्नान करके भगवान शिव का दूध से अभिषेक करें। प्रतिकूल परिस्थितियां दूर होंगी।

मार्च : पराक्रम में वृद्धि होगी और आय के साधन बढ़ेंगे। किसी उच्च अधिकारी से अच्छे संबंधों के कारण रुके कार्य बन सकते हैं। प्रयास तेज करने पड़ेंगे। चार मार्च को महाशिवरात्रि का व्रत रखना शुभ फल प्रदान करेगा। मकर राशि पर शुक्र बुध का अच्छा योग चल रहा है। लक्ष्मी कृपा बनेगी। संतान से प्रसन्नता मिलेगी। संक्रांति को गेहूं का यथाशक्ति दान करना अड़चनों को दूर करने में सहायक रहेगा। शत्रु कुछ नहीं बिगाड़ सकेंगे। गुरु का योग बुद्धि बल को बढ़ाने में विशेष सहायक रहेगा।

अपै्रल : मानसिक अशांति के कारण कार्य व्यवसाय में मन नहीं लगेगा। किसी विशेष मित्र से मनमुटाव भी तंग कर सकता है। अपनी वाणी पर ध्यान रखें। विनम्रता से सभी से बातचीत करें। क्रोध को हावी न होने दें। आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की जरूरत है। शुभ व्यय के भी योग बन रहे हैं। यात्रा के भी योग बन रहे हैं। किसी श्रेष्ठ व्यक्ति की सहायता से बिगड़े कार्य बनेंगे। अपने प्रयासों में कमी न आने दें।

मई : कुछ नवीन योजना आशा की किरण सिद्ध होगी। रुके कार्य बनने की संभावना भी बन रही है। नौकरी व व्यवसाय में कुछ तनाव रह सकता है। अधिक दौड़-धूप के बाद ही परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। पंचम स्थान में राहु की स्थिति मनस्थिति को संघर्षमय बना देगी। गुरु भाग्य स्थान में साहस बढ़ाएगा और अड़चनों को शांत करने में विशेष सहायक रहेगा। चार मई श्नैश्चरी अमावस्या को बच्चों को चने खिलाएं और 12 मई मां बगलामुखी जयंती पर पीला झंडा मंदिर में चढ़ाएं, साथ ही बेसन की बर्फी यथाशक्ति बांटे।

जून : कोई भी काम सोच विचार के बाद ही करें। जल्दबाजी में उठाया गया कदम हानि पहुंचा सकता है। मंगल, राहु का मिथुन राशि में इकट्ठा होने से कोई लांछन भी लग सकता है। सावधानी में ही सुरक्षा है। सरकारी कामों में सफलता पाएंगे, गुरुवार को शाकाहारी रहें। चावल यथाशक्ति किसी जरूरतमंद को दें और शिव का पचांक्षरी मंत्र रोज जपें। आत्मबल बढ़ेगा और मानसिक व शारीरिक पीड़ाएं दूर होंगी।

जुलाई : मंगल के कर्क राशि में बुध के साथ होने से व्यवसाय में उतार-चढ़ाव आने की संभावना रहेगी। सूर्य, राहु व शुक्र का पंचम स्थान में होना दर्शाता है कि आप की कूटनीति ज्यादा काम नहीं आएगी। स्वयं को जितना हो सके, वाद-विवाद से दूर रखें। सूर्य देवता को प्रातः रोज नमस्कार करें और गाय को थोड़ा गेहूं 100 ग्राम खिलाएं। परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। गुरु पूर्णिमा के दिन 16 जुलाई को चंद्रग्रहण के दिन यथाशक्ति चावल, दूध की थैली किसी जरूरतमंद को दें। मनोबल कमजोर नहीं होगा और रुके कार्य बनेंगे।

अगस्त : शिव भक्ति के प्रति मनोभाव तेज होंगे। सरकारी कामकाज में सफलता मिलेगी। उच्चजनों से मधुर संबंध बनेंगे। नौकरी में सहयेगी साथ देंगे। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। ेअकस्मात कोई रुका कार्य बनेगा। भूमि संपत्ति से जुड़े कार्य बनेंगे। किसी नए व्यवसाय को लेकर गंभीर होंगे। परिजनों का पूरा सहयोग मिलेगा। कोर्ट-कचहरी से संबंधित मामले सुलझेंगे। आप के प्रयास फलीभूत होंगे। 24 अगस्त को कृष्ण जन्माष्टमी के दिन फल बांटें और हो सके तो व्रत भी रखें। भगवान की कृपा होगी।

सितंबर : बिगड़े कार्य बनते जाएंगे। संघर्षशील रहकर आप सफलता को प्राप्त करेंगे। सिंह राशि में सूर्य मंगल, बुध का योग कार्य सिद्धि में सहायक रहेगा। यात्रा के भी योग बन रहे हैं, जो लाभकारी सिद्ध होगी। आर्थिक पक्ष भी अच्छा रहेगा। किसी पुराने मित्र से मुलाकात मन को प्रसन्नता प्रदान करेगी। पारिवारिक स्थिति अच्छी रहेगी, 20 सितंबर के बाद सेहत का ध्यान आवश्यक है। छह सितंबर को राधाष्टमी पर कन्या पूजन अत्यंत शुभ रहेगा, अड़चनें कम होती जाएंगी। 28 सितंबर को सर्वपितृश्राद्ध व श्नैश्चरी अमावस्या पर किसी गरीब को भोजन कराएं। कल्याण होगा।

अक्तूबर : सेहत संबंधी थोड़ी परेशानी सूर्य मंगल के अष्टम स्थान में होने के कारण हो सकती है। गुड़ वाली रोटी गाय को मंगलवार को खिलाएं, दिक्कतें दूर होंगी। कार्य व्यवसाय सुधरेगा, आर्थिक स्थिति अनुकूल रहेगी। मित्र सहयोगी रहेंगे। भाग्य वृद्धि 19 अक्तूबर के बाद होगी। कोई शुभ समाचार प्रसन्नता प्रदान करेगा। घरेलू जीवन अच्छा रहेगा। किसी मंगल कार्य की भी योजना बनेगी। 17 को कार्तिक संक्रांति पर यथाशक्ति दान किसी जरूरतमंद को देना शुभकारी रहेगा। अकस्मात लाभ के मार्ग प्रशस्त होते जाएंगे।

नवंबर : ओज व तेज की वृद्धि होगी। मेहनत रंग लाएगी। किसी उच्च प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से 13 नवंबर के बाद कार्य सिद्ध होंगे। कारोबारी स्थिति अच्छी होती जाएगी। राजदरबार में मान-सम्मान बढ़ेगा। जिम्मेदारी बढ़ सकती है। सूर्य तुला राशि में विचरण कर रहा है, गेहूं का साढ़े पांच किलो दान रविवार को किसी जरूरतमंद को करें। कुछ अधर में लटके कार्य बनने भी शुरू होंगे। घरेलू जीवन अच्छा रहेगा। वाद-विवाद से स्वयं को दूर रखें। 19 नवंबर को काल भैरव अष्टमी के दिन कुत्तों को रोटी डालें, कल्याण होगा।

दिसंबर : परिवार में धर्म कर्म के कार्य होने के योग बन रहे हैं। कुछ परेशानियां तंग कर सकती हैं। मंगल की स्थिति विशेष अनुकूल नहीं है। तुला राशि में मंगल अष्टम स्थान में विराजमान है। जिस कारण दांपत्य जीवन में वैचारिक मतभेद हो सकता है। नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा। काम का अधिक बोझ रहने से मानसिक तनाव कभी-कभी तंग कर सकता है। केतु का उपाय आवश्यक है। सत अनाजा दान करें, अवश्य राहत पाएंगे।   शिव आराधना मददगार रहेगी।

मीन

जनवरी : हिम्मत बढ़ेगी। राशि पर मंगल की स्थिति ऊर्जावान बना देगी। उच्च प्रतिष्ठित व्यक्तियों से अच्छे मधुर संबंध बनेंगे। भाग्य स्थान पर चतुर्ग्रही योग के कारण रुके कार्य दौड़-धूप के बाद बनेंगे जरूर। पारिवारिक स्थिति अच्छी रहेगी। किसी निकट संबंधी के स्वास्थ्य में सुधार आएगा। 13 को लोहड़ी पर गुड़ की रेवड़ी बांटे। संतान के भाग्य में उन्नति आए इसके लिए 17 जनवरी को पुत्रदा एकादशी पर व्रत करें और किसी विद्यार्थी को कापी व पैन भेंट करें। 21 जनवरी से ग्रहस्थिति विशेष अनुकूल हो रही है। लाभ उठाएं।

फरवरी : धार्मिक कार्यों के प्रति रुझान बढ़ेगा। संघर्ष शक्ति बढ़ेगी। लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। सेहत का ध्यान रखें। तले हुए पदार्थों का सेवन कम करें। आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की जरूरत है। फिजूलखर्चों पर अंकुश जरूरी है। अपव्यय के योग बन रहे हैं। 4 फरवरी को सोमावती अमावस्या पर चावल किसी जरूरतमंद को भेंट करें। बसंत पंचमी 10 फरवरी को है, उस दिन मां सरस्वती की जयंती भी है। विद्यार्थी बेसन की बर्फी अपने सहपाठियों में बांटे। विद्याबल बढ़ेगा। शुक्र की अनुकूल स्थिति सुख साधनों की वृद्धि करेगी।

मार्च : राशि पर गुरु की दृष्टि के कारण शुभ कार्य होंगे। धर्म, कर्म व सेवाभाव में रुचि बढ़ेगी। उच्चजनों से काफी मधुर संबंध बनेंगे। विद्या के क्षेत्र में नाम कमाएंगे। पारिवारिक वातावरण अच्छा रहेगा। नौकरी व व्यापार पक्ष अच्छा रहेगा। कारोबार में बदलाव करना चाहें तो समय अच्छा है। सेहत में भी ताजगी महसूस करेंगे। यात्रा का प्लान 16 मार्च के बाद बनेगा। 4 मार्च महाशिवरात्रि के शुभ पर्व पर शिवलिंग पर बेलपत्र, दूध, फल चढ़ाएं। कम से कम दूध की तीन थैलियां जरूरतमंदों को बांटे, शिव की विशेष कृपा प्राप्त होेगी।

अप्रैल : व्यापर में तरक्की होगी। रुका धन प्राप्त होगा। राशि पर सूर्य बुध का बुध आदित्य योग बना है, जो यश कीर्ति को बढ़ाने में सहायक रहेगा। कोई मंगल कार्य परिवार में होने का भी योग बना है। 6 अप्रैल से 14 अप्रैल तक नवरात्र में कन्या पूजन काफी  सहायक रहेगा। मां की कृपा से रुके कार्य बनेंगे। शत्रु पक्ष शांत होंगे। विदेश रोजगार के इच्छुक लोगों के लिए समय अच्छा है। राजनेताओं के लिए 16 अप्रैल से समय अच्छा रहेगा। हनुमान जी को भोग जरूर मंगलवार को लगाया करें, विशेष लाभ होगा।

मई : सुख साधनों की वृद्धि होगी, अच्छे वस्त्र व सुगंधित पदार्थों के प्रति आकर्षण बढ़ेगा। उपहार प्राप्त होगा। किसी समारोह में भी जाने का अवसर प्राप्त होगा। राशि पर शुक्र का चल रहा भ्रमण रूठों को मनाने में सफल होगा। लक्ष्मी मेहरबान रहेगी। खान-पान पर विशेष ध्यान रखें। पाचन तंत्र प्रभावित हो सकता है। 4 मई को शनैश्चरी अमावस्या पर यथाशक्ति अन्न दान करना विशेष शुभ रहेगा। आरोग्य प्राप्त होगा, अड़चनें दूर होंगी। शनि का शुभ फल मिलेगा। संपत्ति सुख के योग बनेंगे।

जून : परेशानियां शांत होंगी। अपने स्वभाव में मधुरता लाएं। क्रोध से काम बिगड़ेंगे, अपव्यय से बचें। उधर देने से पहले बार-बार विचार करें, पैसा फंस सकता है। 10 जून को दुर्गा अष्टमी व धूमावती जयंती पर देवी पूजा व कन्या पूजन करना विशेष शुभ फल प्रदान करेगा। शत्रु पराजित  होंगे और बिगड़े कार्य बनने शुरू होंगे। पारिवारिक परिस्थितियां सुधरती जाएंगी। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा चल रहा है। विद्या पक्ष को लेकर चिंता दूर होगी। राशि मंत्र का नियमित जाप उत्कर्ष तक पहुंचाने में सहायक रहेगा।

जुलाई : आलस्य को स्वयं पर हावी न होने दें। कार्य पक्ष के लिए समय ठीक है। मेहनत से कार्य सिद्ध होते जाएंगे। मित्र सहायक रहेंगे। वाहन ध्यान से चलाएं। संतान के भविष्य पर व्यय होगा। कुछ पारिवारिक परेशानियां शांत होती जाएंगी। भाग्य स्थान में वृश्चिक राशि में गुरु की स्थिति मददगार साबित रहेगी। शुद्ध शाकाहारी रहना आवश्यक है। गुरुवार को लड्डू बच्चों में बांटे। मनस्थिति अच्छी होती जाएगी। 16 जुलाई गुरुपूर्णिमा व चंद्रग्रहण पर अन्नदान करना शुभ रहेगा।

अगस्त : नौकरी पक्ष को लेकर कभी-कभी मनस्थिति तनावपूर्ण रहेगी। गणेश जी की आराधना सहायक रहेगी। शनि केतु की युक्ति आलस्य भी बढ़ा सकती है। गो सेवा शुभ रहेगी। 15 अगस्त रक्षाबंधन पर फल बांटे। कार्य बनते चले जाएंगे। घर-परिवार की स्थिति में सुधार आएगा। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। दांपत्य जीवन में समरसता बढ़ेगी। परिवार के साथ किसी तीर्थ स्थान के दर्शनों का भी योग बन रहा है।

सितंबर : घर में कोई मंगल कार्य होगा, विघन बाधाएं शांत रहेंगी। धर्म, कर्म के प्रति रुझान बढ़ेगा। सरकारी कामकाज में आ रही अड़चनें दूर होंगी। गुरु पर मंगल की दृष्टि का सुखद प्रभाव घरेलू परिस्थितियों का अच्छा सुधार लाने में विशेष भूमिका निभाएगा। क्रोध पर कंट्रोल करें और 28 सितंबर को सर्वपित श्राद्ध व शनैश्चरी अमावस्या पर गाय को माह की खिचड़ी खिलाएं और किसी जरूरतमंद को भोजन कराएं। मनोव्यथा दूर होगी और आत्मबल बढ़ेगा, शुद्ध शाकाहारी रहें।

अक्तूबर : अकस्मात धन प्राप्ति के योग बनेंगे। रुका धन प्राप्त होगा। आशाओं में सफलता मिलेगी। परिवार में शुभ मंगल कार्य निर्विघन संपन्न होंगे। कार्य व्यस्तता बढ़ेगी। किसी देव स्थान पर जाने का प्लान पूरा होगा। राशि स्वामी गुरु की राशि पर दृष्टि के कारण परिस्थितियां अनुकूल रहेंगी। कारोबार की स्थिति सुधरेगी। जीवनसाथी की सेहत की संभाल आवश्यक है। सेहत का ध्यान रखें। शुक्र बुध व सूर्य अष्टम स्थान पर रहने के कारण शारीरिक कष्ट के योग बन रहे हैं। अमृत संजीवनी का जाप करें।

नवंबर : भूमि वाहन का सुख मिलेगा। श्रेष्ठ व्यक्ति के सहयोग से भाग्य वृद्धि होगी। आत्मविश्वास से परिपूर्ण होंगे। सुरक्षा विभाग में कार्यरत लोगों का मान-सम्मान व प्रतिष्ठा बढ़ेगी। दांपत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। भाग्य स्थान में गुरु शुक्र व बुध का योग अकस्मात आनंद देने वाला समाचार प्रदान करेगा। घर में किसी बुजुर्ग प्रियजन की सेहत का ध्यान रखें। कोर्ट-कचहरी से संबंधित मामले सुलझेंगे। सेहत का ध्यान रखें। 19 नवंबर कालभैरव अष्टमी पर कुत्तों को रोटी खिलाएं। बिगड़े कार्य बनेंगे।

दिसंबर : परिवार में कोई शुभ कार्य बनेगा। मांगलिक कार्य की योजना भी बनेगी। पाचन संबंधी दिक्कतें तंग कर सकती हैं। नौकरी में मान प्रतिष्ठा के योग बन रहे हैं। उच्च अधिकारियों से मधुर संबंध रहेंगे। कारोबार की स्थिति अच्छी रहेगी। पारिवारिक चिंता कम होगी। गृहस्थ जीवन में आपसी तालमेल बढ़ेगा। किसी रुके कार्य के बनने की पूरी संभावना है।