Monday, September 24, 2018 02:50 PM

वार्षिक राशिफल

हम अब वर्ष 2018 में प्रवेश करने जा रहे हैं। नया वर्ष सभी के लिए मंगलमय हो, ऐसी हम कामना करते हैं। भिन्न-भिन्न राशि वाले लोगों के लिए नया साल कैसा रहेगा, उनके जीवन में कौन-कौन सी कठिनाइयां आएंगी और कौन-कौन से शुभ अवसर आएंगे, इसका लेखा-जोखा हम लेकर आए हैं। यह लेखा-जोखा प्रसिद्ध ज्योतिषी रोशन लाल बाली द्वारा तैयार किया गया है। हम 30 दिसंबर, 2017 तथा 6 जनवरी, 2018 के अंक में सभी राशियों का प्रतिफल छापेंगे। इस पृष्ठ पर मेष, वृष, मिथुन व कर्क राशियां दी गई हैं ...

मेष

जनवरी : यह महीना मान-सम्मान व प्रतिष्ठा के लिए शुभ रहेगा। राशि पर मंगल व गुरु की दृष्टि होने से अनुकूलता बढ़ती रहेगी। उच्च प्रतिष्ठित लोगों के साथ संपर्क बनेंगे। 16 जनवरी का विशेष उपाय करना शुभ रहेगा। घरेलू परेशानी कम होगी और मनोबल की वृद्धि होगी। कारोबार की जरूरत है। 25 जनवरी से यात्रा के योग बन रहे हैं। 5, 17, 25, 29, 30 जनवरी शुभ रहेंगे।

फरवरी : आपके अच्छे साधनों के बावजूद व्यय के भी योग बन रहे हैं। अनेक उलझनों के दौर से गुजरने के बाद अपनी मंजिल को प्राप्त करेंगे। नए कार्य की योजना बनेगी, पारिवारिक आय में वृद्धि होगी। 13 फरवरी के बाद सेहत को लेकर गंभीर होने की जरूरत है। व्यय पर भी अंकुश रखने की जरूरत है। सूर्य को रोज जल प्रातः दिया करें। इससे नकारात्मक विचार हावी नहीं रहेंगे। अच्छी ऊर्जा का शरीर में संचार होगा। मंगल के अनुकूल प्रभाव के लिए हनुमान चालीसा का रोज पाठ करना शुभ रहेगा और स्वभाव में चिड़चिड़ापन दूर होगा।

मार्च : यह महीना शुभ फल प्रदान करता रहेगा। भाग्योदय के भी योग बन रहे हैं। गुरु की दृष्टि के कारण अनुकूल परिस्थितियां बनती रहेंगी। धर्म कर्म के प्रति रुचि बढ़ेगी। वाहन आदि का भी सुख मिलेगा। घर-परिवार के हालात अच्छे होते जाएंगे। नौकरी में जिम्मेदारी बढ़ सकती है। प्रशासन से जुड़े लोगों को मान-सम्मान प्राप्त होगा। विद्यार्थियों की इच्छाएं पूरी होंगी। विद्या बल बढ़ेगा। वाहन ध्यान से चलाएं। अविवाहितों को विवाह के योग बन रहे हैं। अकस्मात यात्रा के भी योग बन रहे हैं, जो शुभदायी रहेगी। लक्ष्मी स्तोत्र का नियमित पाठ करना हितकारी रहेगा।

अप्रैल : भूमि-वाहन आदि से लाभ क्रय-विक्रय की योजना बनेगी। दांपत्य जीवन में उत्साह, सहयोग व सुख साधनों की अधिकता के योग भी बन रहे हैं। सूर्य उच्च होने पर 14 अप्रैल के बाद मान प्रतिष्ठा में काफी वृद्धि होगी। उच्च प्रतिष्ठित लोगों के साथ मधुर संबंध बनेंगे। धन की स्थिति अच्छी रहेगी। कुछ गुप्त शत्रु परेशान करने की कोशिश करेंगे। मां बगलामुखी के मूलमंत्र का जाप विशेष सहायक सिद्ध होगा।

मई : अनेक बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे। मेहनत रंग लाएगी। मंगल से भाग्योदय के भी योग बन रहे हैं। मंगल व केतु का मकर राशि में योग होने के कारण व्यवसाय में दौड़-धूप व परेशानियां तंग कर सकती हैं, मगर शुक्र के प्रभाव से समाधान निकलते रहेंगे। अनेक लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत भी बनेंगे। घरेलू जीवन पर ध्यान देने की जरूरत है। संतान पक्ष को लेकर चिंता दूर होगी। किसी परिजन का विशेष सहयोग प्राप्त होगा।

जून : संघर्ष के दौर से गुजरने के बावजूद सफलता अवश्य पाएंगे। रुका धन मिलेगा। किसी से चला आ रहा वाद-विवाद भी दूर होगा। आर्थिक स्थिति सुधरेगी। माता-पिता का रोज आशीर्वाद लेन से गुरु व शनि अनुकूल होते जाएंगे। परिवार में किसी के भविष्य को लेकर चिंता दूर होगी। 12 जून के बाद मानसिक राहत महसूस करेंगे। संपर्क सूत्र बढ़ेंगे, आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए देवी मंदिर में मंगलवार के दिन लाल झंडा व नारियल भेंट करें। परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी।

जुलाई : अपने स्वभाव पर ध्यान देने की जरूरत है। क्रोध पर विशेष ध्यान दें। घरेलू उलझनों के चलते मानसिक तनाव बढ़ सकता है। मंगल का उपाय कारगर सिद्ध होगा। कबूतरों को रोज सत अनाज डालें, कार्य सिद्ध होते जाएंगे। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। किसी प्रिय मित्र से लंबे अंतराल के बाद होने जा रही मुलाकात आनंदित करेगी। करीबी परिजन की सेहत को लेकर चिंता बढ़ सकती है। सोमवार को शिव मंदिर में अभिषेक करवाने से मानसिक राहत प्राप्त होगी और मनोबल की वृद्धि भी होगी।

अगस्त : घर-परिवार से संबंधी रुके कार्य बनने के लिए कोशिश तेज करनी पड़ेगी। स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ सकता है। विवेक बुद्धि से काम लें। मित्रों के साथ अच्छा व्यवहार रखें। आर्थिक पक्ष को लेकर कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। धैर्य से काम लें, इसी में भलाई है। विवाद से दूर रहें। राहु का उपाय मददगार साबित होगा। लंबी यात्रा की योजना बनेगी। काम सिरे चढ़ेंगे, फिजूल खर्चों से बचें, भूमि संबंधी कार्य बनेंगे। सेहत का ध्यान रखें। किसी उच्च व्यक्ति से मधुर संबंध बनेंगे। संतान पक्ष से शुभ समाचार मिलेंगे।

सितंबर : उलझनें सुलझेंगी, धैर्य से काम करेंगे। पार्टनरशिप में काम करने से पहले घर में बड़ों से सलाह-मशविरा अवश्य करें, नई योजना पर विशेष ध्यान देंगे। परिजनों की सेहत को लेकर चिंता दूर होगी। व्यापार पर ध्यान देने की जरूरत है। कुछ शरारती तत्त्व परेशान कर सकते हैं। देर रात यात्रा से बचें। मूल्यवान वस्तुओं की संभाल रखें। उच्चजनों से अच्छे संबंध रहेंगे। रोजगार से संबंधित रुके कार्य बनेंगे। मन प्रसन्न होगा। शिव अर्चना सहायक रहेगी।

अक्तूबर : भाई-बहनों व निकट संबंधियों के साथ अच्छे संबंध रहेंगे। मेलजोल बढ़ेगा। किसी शुभ कार्य में भागीदार होंगे। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। प्रशासन के क्षेत्र में नाम कमाएंगे। निर्णय शक्ति बढ़ेगी। 15 अक्तूबर के बाद निर्भय होंगे। खान-पान पर विशेष ध्यान दें। पेट संबंधी कोई परेशानी तंग कर सकती है। शनिवार को किसी गरीब को भोजन कराएं। मानसिक राहत जहां मिलेगी, वहीं अड़चनों पर विराम लगेगा, पैसों के मामलों को लेकर सतर्क रहें।

नवंबर : दैनिक कार्यों को गति प्रदान होगी। यात्रा की संभावना भी बन रही है। कुछ लोगों से अच्छा मेलजोल लाभ प्रदान करेगा। उच्च जनों से अच्छे संबंध बनेंगे। वस्त्र आभूषण पर व्यय होगा। उच्च पद की प्राप्ति के भी योग नौ नवंबर के बाद बन रहे हैं। दूसरों की मदद करने से पीछे नहीं रहेंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी। अपने स्वभाव में मधुरता लाएं। अनेक प्रतिकूल परिस्थितियां शांत होती जाएंगी। शुक्ल पक्ष की अष्टमी के दिन किसी गरीब रोगी की मदद करें। कार्य सिद्ध होंगे। अकस्मात धन लाभ के भी योग बन रहे हैं।

दिसंबर : मनस्थिति में अच्छा बदलाव पाएंगे, परिजनों से मेलजोल बढ़ेगा। कारोबार संबंधित दौड़-धूप बढ़ेगी। नौकरी में रुतबा बढ़ेगा। संपर्क सूत्र बढ़ेंगे। घरेलू जीवन की समस्याओं को सुलझाने में सफल रहेंगे। लोगों का मार्गदर्शन करेंगे। अपने दैनिक जीवन में अच्छा बदलाव लाने के प्रयास करेंगे। आर्थिक परेशानियां कम होंगी। उच्च स्तरीय जीवन जीने की कल्पना को साकार करने के प्रयास करेंगे। सेहत में सुधार पाएंगे। सूर्य का उपाय लाभकारी रहेगा।

वृष

जनवरी : अकस्मात संघर्ष के दौर से गुजरना पड़ सकता है। धैर्य से काम लें। बाधाएं आएंगी जरूर, मगर हिम्मत से समाधान निकालने में सफल रहेंगे। दौड़-धूप बढ़ेगी। किसी करीबी रिश्तेदार की सेहत को लेकर चिंतित रहेंगे। शुभ व्यय होगा। कारोबार पर ध्यान देने की जरूरत है। ठंड से बचें। सर्दी जुकाम तंग कर सकता है। धार्मिक पुस्तक का दान मकर संक्रांति को करने से विद्या पक्ष में आ रही अड़चनें दूर होंगी।

फरवरी : आर्थिक स्थिति में सुधार पाएंगे किसी उच्च जन के सहयोग से कार्य बनेंगे। संपर्क सूत्र बढ़ेंगे। पारिवारिक माहौल अच्छा होगा। कार्य पक्ष में सुधार आएगा। विद्यार्थियों को पढ़ाई पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। स्वास्थ्य पक्ष अच्छा रहेगा, कभी-कभी मन उचाट होगा। मंगल का उपाय मददगार रहेगा। गाय को गुड़ मंगलवार के दिन प्रातः खिलाएं। बाधाएं दूर होती जाएंगी। किसी गरीब रोगी की मदद करें और शिव-अर्चना करते रहें, मनोबल बढ़ेगा।

मार्च : धन-लाभ व उच्चता के योग बनेंगे। मानसिक तनाव कम होंगे। क्रोध पर नियंत्रण पाएं। किसी से वाद-विवाद न करें। कारोबार को नई दिशा देने की कोशिश सफल होगी। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। 12 मार्च के बाद कोई भी फैसला सोच-समझ कर लें। उधार देने से पहले सोच-विचार करके ही काम करें। हानि भी उठानी पड़ सकती है। आकस्मिक व्यय होगा। पक्षियों को रोज अनाज डाला करें और सुंदरकांड का पाठ करना विशेष सहायक सिद्ध होगा। यात्रा लाभकारी रहेगी। हल्के रंग के कपड़े पहनें।

अप्रैल : घरेलू उलझनें कम होंगी। निर्णय लेने की शक्ति बढ़ेगी, व्यय की अधिकता रहेगी। 20 अप्रैल के बाद नवीन कार्य की योजना सिरे चढ़ेगी। पारिवारिक पक्ष से सहयोग मिलेगा। आर्थिक पक्ष को लेकर कुछ दिक्कतें पेश आ सकती हैं। किसी गरीब परिवार की अनाज से मदद करें और 11 छुआरे मंगलवार को बहते पानी में बहाएं। कार्य सिद्ध होंगे, सेहत संबंधी परेशानी दूर होगी। बैंक संबंधी रुके कार्य बनेंगे। घर में बड़़ों का रोज प्रातः आशीर्वाद लेने से आत्म-सुख मिलेगा।

मई : आपके प्रयासों से भाग्योन्नति का मार्ग प्रशस्त होता है। उत्तम व्यक्तियों से संपर्क होंगे जो लाभकारी सिद्ध होंगे। अपने निकट संबंधियों से जहां मेलजोल बढ़ेगा, वहीं किसी से किसी विषय पर मनमुटाव भी हो सकता है। अपनी वाणी पर संयम रखें। सूर्य को रोज अर्घ्य दिया करें। इससे नकारात्मक सोच कम होती जाएगी। परिवार के संग समय गुजारने का आनंद प्राप्त करेंगे। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। रुका धन 18 मई के बाद मिलने की प्रबल संभावना बन रही है।

जून : वाहन ध्यान से चलाएं और अपने स्वभाव में विनम्रता लाने की कोशिश करें। सेहत का ध्यान आवश्यक है। कारोबार संबंधी कार्यों में व्यस्त रहेंगे। कार्य क्षेत्र का विस्तार होगा। पारिवारिक जीवन को लेकर गंभीर होने की जरूरत है। संयम व सहनशीलता से काम लेंगे तो अनेक समस्याओं का समाधान मिलता जाएगा। राहु की शांति के लिए शिव-अर्चना सहायक रहेगी। विद्यार्थियों की इच्छाएं पूरी होंगी। सफलता के मार्ग 19 जून के बाद प्रशस्त होते जाएंगे।

जुलाई : सुख परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कार्य पक्ष से प्रसन्नता मिलेगी। नई जिम्मेदारी भी मिल सकती है। किसी उच्च व्यक्ति से मिलाप होने से अनेक रुके कार्य बनेंगे। विद्या पक्ष मजबूत होगा। सकारात्मक सोच बढ़ेगी। काम की अधिकता रहेगी। भाई-बंधुओं के साथ प्यार से पेश आएं। अकस्मात उत्तेजित होने से बचें। मंगल का उपाय जहां मददगार रहेगा, वहीं दीप दान करने से यशकीर्ति बढ़ेगी, श्रावण माह का महात्म्य पढ़ना भी लाभकारी रहेगा।

अगस्त :  संतान संबंधी चिंता कम होगी, दौड़धूप बढ़ेगी, किसी निकट परिवार जन की सेहत को लेकर बेचैनी बढ़ सकती है। महामृत्युञ्जय का नियमित जाप करने से आत्मबल व मनोबल दोनों बढ़ेंगे, मानसिक तनाव को स्वयं पर हावी न होने दें। नियमित प्राणायाम करना लाभकारी रहेगा। कुत्ते को 43 दिन रोज प्रातः रोटी डालें। बाधाओं से मुक्ति मिलेगी। किसी गरीब रोगी को वस्त्र भेंट करें और अन्नदान करें, सोचे कार्य बनते चले जाएंगे।

सितंबर : अड़चनें शांत होंगी, किसी अजनबी पर भरोसा करना कभी हानि भी पहुंचाता है। अधिक भावुक होना भी ठीक नहीं। कुछ कार्य बनने की संभावना 20 सितंबर को बनेगी। भागदौड़ से भी कार्य सिद्ध होंगे, सेहत की संभाल जरूरी है। घर-परिवार पर ध्यान देने की आवश्यकता है। मित्रों के संग कहीं घूमने-फिरने की योजना भी बनेगी। शुभ व्यय 15 के बाद होगा, देश काल के हालात से कभी-कभी मन दुखी रहेगा। 25 के बाद किसी गरीब को भोजन कराएं। मानसिक शांति मिलेगी।

अक्तूबर : कभी-कभी अधिक मेहनत करने पर भी सफलता जब नहीं मिलती व मन दुखी होता है जो स्वाभाविक है। ग्रहों की स्थिति को अनुकूल करने के लिए शुभ कर्म काफी सहायक रहते हैं। शुक्र और मंगल का उपाय जहां अड़चनें शांत करेगा, वहीं मानसिक प्रसन्नता भी प्रदान करेगा। दही का दान शुक्रवार को यथाशक्ति करें, मीठे चावल गाय को खिलाएं, कार्य सिद्ध होते जाएंगे, सेहत में तंदरुस्ती महसूस करेंगे। सम्मान व तेज बढ़ेगा, किसी स्पर्धा में सफलता के योग भी बन रहे हैं।

नवंबर : मेहनत रंग लाएगी, गृहस्थ जीवन का सुख मिलेगा। आपसी संबंधों में मधुरता बढ़ेगी। धन की कमी दूर होगी, किसी पर्यटक स्थल पर भी जाने की योजना 10 नवंबर के बाद बन सकती है। नौकरी व कारोबार के लिए समय अनुकूल है। किसी निकट सहयोगी से संबंधों में अच्छा बदलाव देखने को मिलेगा, गुरु की स्थिति अनुकूल चल रही है। शुद्ध शाकाहारी रहना लाभप्रद रहेगा। 3 फूल शिव पर सोमवार को चढ़ाया करें। अधर में अटके कार्य बनते चले जाएंगे।

दिसंबर : साझेदारी में कार्य करना फिलहाल लाभकारी नहीं है। शनि की चल रही ढैया के कारण मन यदा-कदा अशांत रहेगा, किसी लंगर में शनिवार के दिन साबुत माह दान करें और गरीब मजदूर को काले जूते भेंट करें। मनोबल बढ़ेगा, धन की स्थिति मजबूत होगी। घर-परिवार का वातावरण अनुकूल होता जाएगा। सेहत अच्छी रहेगी, नौकरी व कारोबारी पक्ष अच्छा रहेगा। अविवाहितों को शादी के प्रस्ताव आएंगे। घर के बुजुर्गों का रोज प्रातः पैर छू कर आशीर्वाद लेते रहें। शनि अनुकूल होता जाएगा।

मिथुन

जनवरी : परिश्रम करने की क्षमता बढ़ेगी और अपने पुरुषार्थ से सफलता पाएंगे, मानसिक तनाव में कमी महसूस करेंगे। घरेलू जीवन को लेकर कुछ परेशानी रहेगी, 12 जनवरी के बाद समय अनुकूल होता जाएगा। धैर्य से काम लें, हो सके तो शनिवार का व्रत रखें, अनेक अड़चनें शांत होती जाएंगी, आर्थिक स्थिति अनुकूल होती जाएगी, शुभ कार्यों के प्रति रुझान बढ़ेगा। नौकरी व कारोबारी स्थिति में अच्छा बदलाव देखने को मिलेगा, वाहन ध्यान से चलाएं, सेहत की संभाल जरूरी है। खिचड़ी गाय को खिलाना शुभ रहेगा।

फरवरी : सूर्य, बुध की स्थिति विशेष अनुकूल न होने से कुछ अड़चनें आ सकती हैं, मगर गुरु मेहरबान रहेगा। बुद्धि बल से संकटों को दूर करते हुए अपनी मंजिल तक पहुंच जाएंगे। सूर्य उपाय सहायक रहेगा, पूर्णमाशी के दिन सत्यनारायण की कथा करें और केले बच्चों में बांटें। अनेक अरिष्ट दूर होंगे, सेहत का ध्यान विशेष रूप से रखें, आर्थिक स्थिति सुधरेगी, कोई नया कार्य हाथ में लेने की योजना बनेगी, अनेक अच्छे लोगों से मेलजोल बढ़ेगा, घर परिवार पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

मार्च : कार्य व्यवसाय में सुधार देखने को मिलेगा, अधिक परिश्रम करना पड़ेगा, किसी करीबी की सेहत को लेकर चिंतित रहेंगे, घरेलू जीवन में समरसता लाने की कोशिश फलीभूत होगी। 12 मार्च के बाद बिगड़े कार्य बनने शुरू होंगे, अपने स्वभाव में विनम्रता लाएं, अन्यथा परिजनों से मनमुटाव बढ़ सकता है। संयम से काम लें, इसी में आप का हित छिपा है, नौकरी में अपने सहयोगियों का सहयोग मिलेगा, पदोन्नति की भी निकट भविष्य में संभावना बन रही है। आदित्य हृदय का रोज पाठ करें, अवश्य कार्य सिद्ध होंगे।

अप्रैल : मास का शुरुआती दौर कुछ संघर्षपूर्ण रह सकता है। मगर 16 अपै्रल के बाद बिगड़े कार्य बनते चल जाएंगे। रुकी योजनाओं को गति मिलेगी। परिवार में किसी करीबी से चला आ रहा मनमुटाव दूर होगा, धन संबंधी परेशानी में कमी आएगी, सेहत में सुधार पाएंगे, खानपान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। संतान के भविष्य को लेकर गंभीर होंगे। 22 अपै्रल के बाद कोई मांगलिक कार्य पर शुभ व्यय होगा, कारोबारी स्थिति सुधरेगी, गरीब रोगियों में फल बांटें, कल्याण होगा।

मई : व्यर्थ की चिंता से बचें, गुप्त शत्रु परेशान कर सकते हैं। मगर उनकी योजना सफल नहीं होगी, अपने बुद्धिबल से समस्याओं का समाधान निकालने में सफल रहेंगे, कारोबार पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। नई योजना को लेकर गंभीर होंगे, 13 मई से समय बेहतर होता जाएगा, मेहनत रंग लाएगी, प्रतिष्ठित लोगों से मेलजोल बढ़ेगा, घर- परिवार में आत्मीय माहौल रहेगा, अध्ययन के प्रति रुचि बढ़ेगी, लेखन व साहित्य से जुड़े लोगों का मान सम्मान बढ़ेगा। धैर्य से काम करते रहें, सफलता साथ नहीं छोड़ेगी।

जून : कार्य सिद्ध होंगे, मानसिक स्थिति में अच्छा बदलाव आएगा, हिम्मत बढ़ेगी, पूरे आत्मविश्वास से लबरेज होकर काम करेंगे और सहाहना भी बटोरेंगे, मित्रजनों से सहयोग मिलेगा। उच्च पदों पर आसीन लोगों को यश प्राप्त होगा, सलाहकार और राजनेताओं के लिए यह महीना विशेष रूप से शुभ रहेगा, बुध की अनुकूल स्थिति के कारण कोई शुभ समाचार मन को आनंदित करेगा, पारिवारिक परस्थितियां सुधरेंगी, आर्थिक स्थिति बेहतर होगी। किसी शुभ कार्य पर व्यय करेंगे, पक्षियों को बाजरा रोज डालें।

जुलाई : खर्चों पर ध्यान देने की जरूरत है। अकस्मात चोट लग सकती है। सावधानी से वाहन चलाएं। क्रोध को हावी न होने दें। धन संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। विद्यार्थियों को पढ़ाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। देर रात तक न जागें। परिवारजनों का सहयोग प्राप्त होगा, यह महीना संघर्ष के दौर से गुजरेगा, भगवान शिव की आराधना काफी मददगार सिद्ध होगी, विशेषकर पचांक्षरी मंत्र का जाप लाभ प्रदान करेगा। 19 जुलाई के बाद स्थिति सुधरेगी, सेहत बेहतर होगी, रोज सूर्य को जल दिया करें।

अगस्त : अनावश्यक कार्यों पर अधिक खर्चे से बचें, ग्रह स्थिति अनुकूल नहीं चल रही है। नकरात्मक सोच को हावी न होने दें। सेहत पर विशेष ध्यान दें। घर में बड़ों की सलाह को नजरअंदाज न करें, हानि उठानी पड़ सकती है। शनि उपाय विशेष मददगार रहेगा। कारोबार पर विशेष ध्यान दें, जीवनशैली में अच्छा बदलाव लाने की कोशिश सफल रहेगी। 13 अगस्त के बाद यात्रा के भी योग बन रहे हैं, जो लाभकारी सिद्ध होगी, कोई नया काम हाथ में लेने का अवसर मिलेगा।

सितंबर : राशि स्वामी बुध की अनुकूल स्थिति मान-सम्मान दिलाएगी, प्रतिष्ठा बढ़़ेगी, कार्य क्षेत्र व व्यवसाय पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। गुरु को अनुकूल करने की जरूरत है। पीले चावल बनाकर पक्षियों को डाला करें, अड़चनें शांत होंगी, 18 सितंबर के बाद कोई शुभ समाचार मिलेगा, वाहन आदि का सुख प्राप्त होगा, घरेलू जीवन सुधरेगा, घर में बुजुर्गों का आशीर्वाद रोज लें और दही का सेवन करके ही घर से निकलें, कार्य सिद्ध होंगे।

अक्तूबर : कार्य व्यवसाय में अधिक समय देंगे, धन लाभ के अवसर अधिक मिलेंगे, अर्थ दशा सुधरने से ऋण मुक्त होते जाएंगे, कारोबार के विस्तार की कोशिश करेंगे, विज्ञान से जुड़े लोग कोई आविष्कार करेंगे, जिसकी खूब सराहना होगी, अच्छे विचारों का उदय होगा, मित्रों से स्नेह मिलेगा, धर्म कर्म के प्रति झुकाव बढ़ेगा, आय के साधन बनते जाएंगे। शुभ कार्यों पर व्यय होगा, परिजनों संग किसी यात्रा पर जाने की योजना साकार होगी।

नवंबर : दौड़-धूप अधिक रहेगी, लंबी यात्रा की योजना बन सकती है। सेहत में सुधार पाएंगे, आय के साधन ठीक रहेंगे, मगर व्यय की अधिकता भी परेशान करेगी, परिवार में सामंजस्य बढ़ेगा, संतान के भविष्य संबंधी चिंता दूर होगी, खिलाड़ी इस माह विशेष कमाएंगे, लेखन क्षेत्र से जुड़े लोगों को मान-सम्मान की प्राप्ति होगी, गुप्त चिंता कभी-कभी अशांति पैदा कर सकती है, परिश्रम करने की शक्ति प्राप्त होगी। 17 नवंबर के बाद कोई शुभ समाचार प्राप्त होगा, प्रातः थोड़ा शहद चाट कर घर से निकलें, शुभता बढ़ेगी।

दिसंबर : आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की जरूरत है। व्यय अधिक रहेगा, शुभ कार्यों के प्रति झुकाव बढ़ेगा। पदोन्नति के योग भी बन रहे हैं, परिवार में कोई शुभ कार्य बनने की योजना बनेगी, लंबे समय से अटका कार्य बनेगा, संतान पक्ष से लाभ मिलेगा, गृहस्थ जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कारोबार संबंधी चिंता दूर होगी, रुका धन 19 दिसंबर के बाद मिलेगा, विदेश संबंधी कार्य बनेंगे, महत्त्वपूर्ण दस्तावेज संभाल कर रखें, विद्या बल बढ़ेगा।

कर्क

जनवरी : राशि पर राहु का संचार होने से किसी परिजन से मन मुटाव हो सकता है। घर में दिल नहीं लगना, कार्य व्यवसाय को लेकर कुछ दिक्कतें पेश आ सकती हैं। सेहत को लेकर थोड़ी परेशानी, स्वभाव में क्रोध अधिक आना और परिजनों से वाद-विवाद आदि भी हो सकता है। 13 जनवरी के बाद परिस्थितियों में अनुकूलता आएगी, आर्थिक दिक्कतें कम होंगी, रुका धन प्राप्त होगा। राहु का उपाय विशेष सहायक रहेगा। नौकरी पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। दांपत्य जीवन में अच्छे बदलाव देखने को मिलेंगे।

फरवरी : संघर्ष के दौर में कमी आएगी, आर्थिक स्थिति में सुधार पाएंगे, सहयोगी मददगार सिद्ध होंगे, घर परिवार के साथ समय अच्छा गुजरेगा, सेहत की संभाल जरूरी है। खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। नौकरी संबंधी परेशानी 18 फरवरी से शांत होगी, यात्रा के योग बनेंगे, शुभ कार्यों के प्रति रुझान बढ़ेगा। धर्म कर्म में रुचि लेंगे, किसी परिजन से चला आ रहा वाद-विवाद दूर होगा। 20 फरवरी के बाद शुभ समाचार मिलेगा।

मार्च : मेहनत से आप पीछे नहीं हटते। यह गुण विशेष होने के कारण समय को अपने अनुकूल बना लेते हें। धैर्य से काम करें, अवश्य सफलता मिलेगी। किसी सोची योजना के पूरा होने का समय आ गया है। अपने स्वभाव में शालीनता लाने की कोशिश करें, सभी कार्य सिद्ध होंगे। व्यर्थ के विवादों से दूर रहें। भूमि संपत्ति से लाभ होगा, वाहन का सुख मिलेगा, किसी मित्र की मुलाकात आनंदित करेगी, मंगल का उपाय कारगर सिद्ध होगा, गाय को गुड़ वाली रोट खिलाएं, कार्य सिद्ध होंगे।

अप्रैल :: शनि-मंगल का विशेष प्रभाव रहने के कारण परिवार में किसी करीबी की सेहत को लेकर चिंतित रहेंगे। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कोई शुभ कार्य भी निकट भविष्य में होने वाला है। आत्मबल प्राप्त होगा, शिव की विशेष कृपा के पात्र बनेंगे। आर्थिक पक्ष सुधरेगा, यात्रा की अकस्मात योजना बन सकती है। शाकाहारी रहना लाभप्रद रहेगा, मित्रों से अच्छे संबंध बनेंगे, सोमवार को भगवान शिव का दूध से अभिषेक करने से तनाव दूर रहेंगे और अधर में पड़े कार्य बनते चल जाएंगे।

मई : सेहत में सुधार पाएंगे, कार्य पक्ष में अनुकूलता आएगी। भागदौड़ कुछ कम होगी, संतान पक्ष से प्रसन्नता मिलेगी। शुभ व्यय होगा, मित्र वर्ग सहायक रहेगा। परिवारजनों के साथ आपसी तालमेल बढ़ेगा, नौकरी पर ध्यान देने की आवश्यकता है। अपने स्वभाव पर विशेष ध्यान दें, मधुरभाषी का काम आराम से हो जाता है। शनि व मंगल का उपाय करें, सभी पक्ष अनुकूल होेते जाएंगे। गरीब रोगियों को फल बांटें और प्रातः पक्षियों को अनाज डाला करें, कार्य बनते चले जाएंगे।

जून : किसी बिगड़े कार्य के बन जाने से प्रसन्नता मिलेगी, उच्चजनों से संबंध बनेंगे, परिजनों से सामंजस्य बनेगा। तनाव में कमी आएगी, सेहत अच्छी रहेगा, गलत लोगों की सलाह पर न चलें, विवेक-बुद्धि से काम लें, सफलता अवश्य मिलेगी, कारोबार पर ध्यान दें, अकस्मात यात्रा के योग भी बन रहे हैं। विदेश संबंधी कार्य बनेंगे, धन संबंधी समस्या 17 जून के बाद दूर होती जाएगी।

जुलाई : आर्थिक समस्याएं कम होंगी, घरेलू वातावरण पर विशेष ध्यान दें, उच्चजनों से अच्छे संबंध बनेंगे, गुरुजनों का पूरा सहयोग मिलेगा, लंबी यात्रा के योग बनेंगे, कार्य व्यवस्था में बदलाव लाने की कोशिश सफल रहेगी, किसी भी कार्य में अधिक धन व्यय करने से पहले गंभीरता से विचार करें, हानि भी उठानी पड़ सकती। राहु-बुध की अनुकूलता न होने से सावधान रहकर ही हर काम करने में भलाई है। गणेश जी की आराधना मददगार रहेगी।

अगस्त : व्यवसाय में परिवर्तन की योजना बनेगी, धन संबंधी दिक्कतें कम होंगी, परिजनों से अच्छे संबंध रहेंगे, लेन-देन में सावधान बरतें, शत्रु पक्ष से सावधान रहने की जरूरत है। उत्तेजित अवस्था में वाहन न चलाएं। अच्छे लोगों का संग लाभकारी रहेगा। आर्थिक स्थिति अनुकूल होती जाएगी, दुर्गा सप्तशती का नियमित पाठ करने से सभी बाधाएं दूर होती जाएंगी और विरोधी भी अनकुल होंगे, स्वयं की आदतों में अच्छा बदलाव पाएंगे।

सितंबर : नवीन कार्य पर व्यय की योजना बनेगी। परस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी, घर-परिवार में अच्छा माहौल होता जाएगा, अपने व्यवहार में अच्छा बदलाव पाएंगे, मनोभावों में आशावादी सोच उच्चता प्रदान करेगी। आर्थिक स्थिति बेहतर होती जाएगी। सगे संबंधियों की पहचान संकट की घड़ी में ही होती है। बहुत कुछ अनुभव से सीखने को मिलता है। बनते कार्यों में अड़चनों के बावजूद सफलता मिलेगी, शुभ कार्य में व्यय होगा। गुड़ खाकर घर से प्रातः निकलें, कार्य बनेंगे।

अक्तूबर : व्यर्थ की भागदौड़ से बचें, सोची योजना फलीभूत होगी, किसी मित्र के सहयोग से कार्य सिद्ध होंगे। व्यापार को लेकर यात्रा पर जाना पड़ सकता है। नौकरी में सहयोगी साथ देंगे, अपने बर्ताव से लोग अनुकूल होते जाएंगे। स्नेह बांटना लोगों को करीब लाता है, इसमें शंका नहीं। ग्रह स्थिति में अच्छा बदलाव आने से निराशा दूर होती जाएगी, नियमित रूप से भगवान शिव की आराधना विशेष सहायक रहेगी, लेन-देन में सावधानी बरतें।

नवंबर : मान-प्रतिष्ठा बढ़ेगी, सभी पक्ष सुधरते जाएंगे, कार्य व्यवसाय में व्यस्त रहेंगे। आर्थिक स्थिति अनुकूल होती जाएगी। किसी शुभ कार्य पर व्यय होगा, यात्रा लाभकारी रहेगी, पारिवारिक जनों के साथ स्नेहपूर्ण समय गुजरेगा, किसी उच्चजन के सहयोग से मनो-इच्छा पूरी होगी, संतान संबंधी चिंता दूर होगी, फिर भी अपना ध्यान सकारात्मकता की ओर जाएगा। बेरोजगारों को रोजगार के अच्छे अवसर मिलेंगे। नौकरी में भी अच्छे बदलाव की संभावना बन रही है, सूर्य को रोज प्रातः जल दिया करें।

दिसंबर : गुरु और सूर्य की अनुकूल स्थिति के कारण संतान पक्ष से कोई शुभ समाचार मिलेगा, समय दिन-प्रतिदिन बेहतर होता जाएगा। मेहनत फलीभूत होगी। व्यस्तताएं बढ़ेंगी, शुभ कार्यों पर व्यय होगा, किसी समारोह में शिरकत करने का अवसर मिलेगा, लेखन के क्षेत्र में नाम कमाएंगे, पारिवारिक जनों से पूरा सहयोग मिलेगा, किसी प्रियजन की कमी महसूस करेंगे, कला व संगीत से जुड़े लोगों की प्रतिभा में निखार आएगा। राशि मंत्र का नियमित जाप लाभ प्रदान करेगा।

सिंह राशि

जनवरी : सूर्य, शनि व शुक्र की अनुकूल स्थिति के कारण भाग्योदय के मार्ग प्रशस्त होंगे। शुभ व्यय होगा। शत्रु पक्ष कमजोर होगा। अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वहन करेंगे। पारिवारिक माहौल अच्छा रहेगा। संतान संबंधी दिक्कतें दूर होंगी। अधिक व्यय के कारण बजट प्रभावित होगा। किसी उच्च व्यक्ति के सहयोग से बिगड़े कार्य बनेंगे। स्वभाव में क्रोध की अधिकतर के कारण मानसिक तनाव हावी रहेगा जो सेहत पर बुरा प्रभाव डालेगा। मंगल का उपाय विशेष सहायक रहेगा।

फरवरी : स्वस्थ पक्ष को लेकर गंभीर होने की जरूरत है। लापरवाही कभी-कभी घातक भी हो जाती है। घरेलू परेशानी से राहत पाएंगे। मन अशांत रहेगा। किसी परिजन की सेहत को लेकर अशांत रहेंगे। कारोबारी पक्ष सुधरेगा। व्यय की अधिकता रहेगी। सर्दी जुकाम से स्वयं को बचाएं। नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा। अधिकारी वर्ग से सहयोग मिलेगा। रुका धन प्राप्त होने के लिए प्रयास तेज करने पड़ेंगे। सुख समृद्धि के लिए समय अच्छा है। उच्च व प्रतिष्ठित लोगों से मेलजोल बढ़ेगा। खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। शनि स्तोत्र रोज पढ़ें। मनोबल बढ़ेगा।

मार्च : मास का शुरुआती दौर कुछ संघर्ष का रहेगा। दौड़-धूप अधिक करने पर भी कार्य बनने में दिक्कतें आ सकती हैं। 13 मार्च के बाद स्थिति अनुकूल होती जाएगी। घरेलू जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। जीवन साथी के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित रहेंगे। संतान के भविष्य बारे प्रयास तेज करने की जरूरत है। अच्छे लोगों के संग से कई समस्याओं का समाधान निकलता है। आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की जरूरत है। लेन-देन के समय सावधानी बरतें अन्यथा नुकसान उठाना पड़ सकता है। महालक्ष्मी मंत्र का नियमित जाप करें। धन लाभ होगा।

अप्रैल : कुछ निकट संबंधी परेशानी में डालेंगे। इसलिए सचेत रहने की जरूरत है। सेहत की संभाल भी जरूरी है। घर के वरिष्ठ सदस्यों की सेहत को लेकर चिंता बढ़ सकती है। संपत्ति व भूमि आदि को लेकर विवाद बढ़ सकता है। आर्थिक स्थिति ठीक रहेगी। नौकरी में सावधानी से काम करें। गुप्त शत्रु बदनाम करने का प्रयास कर सकते हैं। वाद विवाद से बचें। रोज प्रातः सूर्य को विधिपूर्वक अर्घ्य दिया करें और कुत्ते को रोटी खिलाएं। अड़चनें शांत होती जाएंगी।

मई : सूर्य की अच्छी स्थिति के कारण यश, मान, प्रतिष्ठा आदि के अच्छे योग बनते जाएंगे। कारोबार व नौकरी में नाम कमाएंगे। मंगल की विशेष दृष्टि के कारण क्रोध से बचें। स्वयं की गलती के कारण बनते कार्य बिगड़ सकते हैं। घर परिवार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। यात्रा के सुखद योग भी बन रहे हैं। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा है। किसी कंपीटीशन में सफलता मिलेगी। मां सरस्वती की आराधना काफी सहायक रहेगी।

जून : सुख साधनों की वृद्धि होगी। अनेक बिगड़े कार्य बनेंगे। उच्च जनों से मेल-मिलाप बढ़ेगा। कारोबार व रोजगार में रुतबा बढ़ेगा। बिगड़े कार्य बनेंगे। वाहन आदि का सुख मिलेगा। घरेलू जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। गृहस्थ जीवन में आपसी समरसता बढ़ेगी। देर सायं वाहन न चलाएं। अभिनय व कला से जुड़े लोगों को सफलता विशेष रूप से मिलेगी। अपनी भावनाओं को सही दिशा देने की आवश्यकता है। क्रोध पर कंट्रोल रखें अन्यथा कार्य बिगड़ सकते हैं।

जुलाई : सेहत का विशेष ध्यान रखें। विशेषकर रक्त विकार, एलर्जी आदि रोग तंग कर सकते हैं। घर- परिवार पर भी अधिक ध्यान देने की जरूरत है। संतान के भविष्य को लेकर अधिक गंभीर होंगे। नौकरी व कारोबार पक्ष सुधरेगा। कानून से जुड़े मामलों के लिए प्रयास तेज करने पड़ेंगे। वाहन ध्यान से चलाएं। श्रावण मास में शिव पुराण का नियमित अध्ययन भाग्यवर्द्धक सिद्ध होगा। जहां विवाद हो रहा हो उस स्थान से दूर रहने में ही आप की भलाई है। दीप दान का विशेष महत्त्व है। इससे यश, कीर्ति बढ़ जाती है।

अगस्त : सोचे कार्य बनेंगे। अधिक परिश्रम करने पर कार्य बनते जाएंगे। आर्थिक स्थिति पर ध्यान दें। शुभ व्यय 13 अगस्त बाद होगा। संपत्ति संबंधी कार्य बनेंगे। बुद्धिबल बढ़ेगा। लेखन के क्षेत्र में नाम कमाएंगे। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। सेहत को लेकर सचेत रहें। कुछ उलझनें सुझलेंगी। कुछ पैदा होंगी। समाधान निकालने में सफल रहेंगे। 17 अगस्त से सूर्य अनुकूल होने पर सरकारी कार्यों में प्रगति आएगी। उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनेंगे। भगवान शिव की आराधना शुभदायी रहेगी।

सितंबर : कुछ बिगड़े कार्य बनेंगे। सुख साधनों पर व्यय होगा। किसी परिवार के सदस्य पर शुभ खर्चा करेंगे। क्रोध पर नियंत्रण रखें। आवेश में आकर कभी-कभी व्यक्ति विवेक के साथ काम नहीं लेता, जिस कारण हानि के दौर से गुजरना पड़ सकता है। सूर्य मंगल का उपाय विशेष सहायक रहेगा। गेहूं का दान किसी भी रविवार को यथाशक्ति करने से अड़चनें दूर होंगी। पारिवारिक स्थिति अच्छी रहेगी। संतान सुख मिलेगा। भागदौड़ बढ़ेगी, मगर परिणामकारी रहेगी। गृहस्थ जीव पर विशेष ध्यान दें।

अक्तूबर : सोची योजनाओं पर अधिक ध्यान देंगे और सफलता भी पाएंगे। लंबी यात्रा के योग बन रहे हैं। विदेश संबंधी कार्य बनेंगे। उद्योग धंधे में लाभ मिलेगा। सहयोगी मददगार रहेंगे। उच्चजनों से मेलजोल बढ़ेगा। कुटुंबीजनों से मेलमिलाप होगा। कोई मंगल कार्य परिवार में होगा। शुभ कार्यों पर व्यय होगा। जनकल्याण के कार्यों पर ध्यानदेंगे। मान सम्मान व प्रतिष्ठा बढ़ेगी। धन लाभ के लिए 18 अक्तूबर के बाद समय अच्छा है। लंबी यात्रा के योग भी बन रहे हैं।

नवंबर : दांपत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कार्य पक्ष पर ध्यान अधिक ध्यान दें। किसी निकटस्थ व्यक्ति से धोखा भी मिल सकता है। इसलिए सावधान रहें और अधिक विश्वास किसी भी न करें। पारिवारिक वातावरण अनुकूल रहेगा। नौकरी पर ध्यान दें। व्यर्थ के कार्यों में मन न लगाए। विद्यार्थियों को पढ़ाई पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। धन हानि के योग भी बन रहे हैं। सावधानी आवश्यक है। शुक्र का उपाय मददगार रहेगा। किसी गरीब को दही खिलाएं और काला सफेद चैकदार कंबल भेंट करें। मनोभय दूर होगा।

दिसंबर : आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा। मेहनत व्यर्थ नहीं जाएगी। भाई-बंधुओं से संबंधों में सुधार भी देखने को मिलेगा। शारीरिक कष्ट से बचें। वाहन ध्यान से चलाएं। चोट आदि का भय भी रहेगा। मंगल शनि का उपाय अवश्य है। गाय को मीठी रोटी खिलाएं। हो सके तो तुलादान किसी भी शनिवार को कराएं। अनेक अड़चनें शांत होंगी और सकारात्मक सोच बढ़ेगी। किसी संबंधी के शुभ कार्य में भी भागीदारी बनेंगे। ठंड से स्वयं को बचाएं।

कन्या

जनवरी : नौकरी व व्यवसाय में प्रगति होगी, शनि का राशि पर ढैय्या के कारण कभी मानसिक अशांति तंग कर सकती है। बनते कार्यों में अड़चनें आ सकती हैं। गुरु के दसवें स्थान पर दृष्टि के कारण राज दरबार में मान-सम्मान मिलेगा। रुके कार्य बनेंगे, मित्र सहयोग करेंगे। परिजनों से प्रेम बढ़ेगा, आर्थिक पक्ष को लेकर कभी-कभी परेशानी के दौर से गुजरना पड़ सकता है। मगर कुछ लोगों के सहयोग से काम बनते जाएंगे। माघ माह में शिव पुराण का अध्ययन विशेष बल जहां प्रदान करेगा, वहीं भाग्योदय के योग भी बनते जाएंगे।

फरवरी : दिक्कतों के दौर से गुजरना पड़ सकता है। मगर कोई न कोई रास्ता निकलता जाएगा, जिसे मानसिक राहत मिलती जाएगी। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। घरेलू जीवन सामान्य रहेगा, आर्थिक स्थिति सुधरेगी, ग्रह स्थिति में बदलाव आने से कोई नई योजना सिरे चढ़ेगी। उच्चजनों से संपर्क स्थापित होंगे, राजकीय क्षेत्र में जिम्मेदारी मिल सकती है। प्रतिभा में निखार निकट भविष्य में आने वाला है। विद्या पक्ष सुधरेगा, सूर्य को रोज प्रातः जल दिया करें।

मार्च : रोजगार संबंधी को अच्छी योजना सिरे चढ़ेगी, नौकरी में बदलाव के योग भी बन रहे हैं, किसी की गलती दूसरे के सिरे डालने की कहावत मशहूर है। कुछ लोगों का रचा षड्यंत्र परेशान कर सकता है, मगर उन्हें मुंह की खानी पड़़ेगी। विद्या पक्ष में सफलता के योग बन रहे हें। उत्साह में वृद्धि होगी, कार्यपक्ष सुधरेगा। नई योजना सिरे चढ़ेगी। सेहत में अच्छा सुधार आएगा। घर में गुरुजनों की कृपा बनी रहेगी। धर्म, कर्म की रुचि बढ़ेगी। अकस्मात 21 मार्च के बाद कोई शुभ समाचार मिलेगा।

अप्रैल : कार्य में अनेक उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं। बुद्धि को स्थिर बनाएं और जो भी निर्णय लें, सोच-समझ कर लें, जल्दबाजी ठीक नहीं। 13 अपै्रल के बाद आर्थिक स्थिति काफी बेहतर होती जाएगी। किसी मंगल कार्य में भी शरीक होंगे। अच्छे लोगों से मेलजोल बढ़ेगा। विदेश संबंधी कार्यों में सफलता मिलेगी। सेहत को लेकर थोड़ी परेशानी आ सकती है। नियमित महामृत्युजंय मंत्र का जाप करना श्रेयस्कर रहेगा, मित्र मिलन आनंदित करेगा।

मई : भागदौड़ बढ़ सकती है। कारोबार पर विशेष ध्यान दें। उच्चजनों के सहयोग से कोई चला आ रहा विवाद दूर होगा। मानसिक राहत महसूस करेंगे। देव स्थान के दर्शनों का योग भी बन रहा हे। नौकरी पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। खेलों से जुड़े लोगों के लिए समय अच्छा है। यश नाम कमाएंगे। किसी कंपीटीशन में अगर भाग लेने का मौका मिला तो सफलता आवश्यक मिलेगी, सूर्य पूजन सहायक रहेगा।

जून : उच्च प्रतिष्ठित लोगों से संपर्क बनेंगे। घर में बुजुर्गों की सेहत को लेकर परेशानी बढ़ सकती है। समाज सेवा के प्रति रुझान बढ़ेगा। कार्य व्यवसाय को लेकर अधिक परिश्रम करना पड़ सकता है। घर, संपत्ति व वाहन आदि पर व्यय भी हो सकता है। अपने स्वभाव में विनम्रता लाने से व प्रतिष्ठा बढ़ेगी। रोगियों में केले बांटे और गणेश अर्चना करें, अवश्य अड़चनें दूर होती जाएगी और सफलता के मार्ग प्रशस्त होते जाएंगे।

जुलाई : नौकरी व कारोबार में उन्नति के विशेष अवसर मिलेंगे, रुके कार्य बनेंगे, घरेलू उलझनें शांत होंगी। काम का बोझ बढ़ेगा आपके पुरुषार्थ की सराहना होगी। 19 जुलाई के बाद सेहत का ध्यान रखना लाभकारी रहेगा। तांबे के पात्र से सूर्य को प्रातः जल दिया करें, उत्तम स्वास्थ्य प्राप्त होगा, यश कीर्ति बढ़ेगी, नौकरी के लिए अच्छे अवसर प्राप्त होंगे। देर रात्रि तक घर से बाहर न रहें और वाहन तेज न चलाएं। दीप दान करना शुभता प्रदान करेगा। आर्थिक स्थिति में अच्छा सुधार आएगा।

अगस्त : सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कार्य में संघर्ष पूर्ण स्थिति के दौर से गुजरना पड़ सकता है। धैर्य और संयम से काम लें। घरेलू परेशानियां अवश्य कुछ कम होंगी। बुद्धि बल से समस्याओं का निदान निकालने में सफल होंगे, सोची योजनाओं को पूरा करने की प्रयास तेज होंगे, ध्यान संबंधी समस्याओं दूर होेंगी। शुभ व्यय होगा, पारिवारिक परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। 21 अगस्त से ग्रह अनुकूल होते जाएंगे। पाचन तंत्र पर ध्यान दें।

सितंबर : कार्य व्यवसाय में गति आएगी संघर्ष कम होगा, लंबी यात्रा के भी योग बन रहे हैं। आवश्यकता से अधिक आत्मविश्वास हानि पहुंचा सकता है। कार्य सिद्धि तक प्रयासों में कमी न आने दें। रोज घर में प्रातः व सायं तिल के दीपक जलाने से नकारात्मक प्रभाव कम होगा।  शुभ समाचार मिलेगा। घर में बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लेने से शनि मेहरबान होगा। मजदूर को शनिवार के दिन भोजन कराएं। मानसिक तनाव कम होते जाएंगे।

अक्तूबर : मान-सम्मान व प्रतिष्ठा बढ़ेगी, कारोबारी स्थिति में भी अच्छा बदलाव देखने को मिलेगा। शुभ व्यय होगा। मानसिक प्रसन्नता मिलेगी। कई उत्सवों में जाने के अवसर मिलेंगे। नौकरी में रुतबा बढ़ेगा। बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा। अच्छे पद की प्राप्ति हेगी। स्थान परिवर्तन के अकस्मात योग भी बन रहे हैं। स्पर्धा में सफलता मिलेगी। पारिवारिक जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। गणेश जी की आराधना सफलता प्रदान करेगी।

नवंबर : अचानक शुभ यात्रा के योग बनेंगे, क्रय-विक्रय पर व्यय होगा। परिवार संग अच्छा समय गुजरेगा। कारोबार संबंधी परेशानी कम होगी। दांपत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। सेहत की संभाल भी जरूरी है। अकस्मात आर्थिक पक्ष सुधरेगा, रुका धन प्राप्त होगा, माता-पिता का आशीर्वाद रोज लें। गुड़ खाकर घर से निकला करें। विद्यार्थियों की मनोकामना पूरी होगी। कोई नई योजना सिरे चढ़ेगी। धर्म, कर्म में रुचि बढ़ेगी। किसी परिजन से चला आ रहा विवाद दूर होगा। मानसिक राहत मिलेगी।

दिसंबर : सरकारी क्षेत्र से जुड़े कार्यों में सफलता मिलेगी। उच्चजनों से अच्छा मेलजोल बढ़ेबा। कुटुंबीजनों से मिलन की योजना भी बनेगी। सेहत को लेकर गंभीर होंगे। खान-पान पर ध्यान दें। सुख साधनों की वृद्धि होगी। रोजगार संबंधी परेशानी कम होगी। 17 दिसंबर के बाद यात्रा के योग बनेंगे। विद्या बल बढ़ेगा, लेखन से जुड़े लोगों को मान प्रतिष्ठ की प्राप्ति होगी।

तुला

जनवरी : मंगल व गुरु का राशि पर संचार होने से कुछ कार्य सुलझेंगे, मगर घरेलू जीवन में कभी-कभी अशांति के दौर से भी गुजरना पड़ सकता है। धैर्य से काम लें और जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। कारोबार पर ध्यान दें, उधार से परहेज करें, भावनाओं में आकर आप ठगे भी जा सकते हैं। सुनो सबकी, करो अपने मन की, इस फार्मूले अनुसार चलेंगे तो हानि से बचेंगे। मंगल का उपाय विशेष सहायक रहेगा। किसी विद्वान ज्योतिषी या ब्राह्मण को पपीता व पीला वस्त्र गुरुवार को भेंट करें। सफलता मिलेगी और अड़चनें शांत होंगी।

फरवरी :  मंगल स्वगृही होने से मान-सम्मान व प्रतिष्ठा बढ़ेगी। अनेक उच्चजनों से मेलजोल बढ़ेगा। मित्र सहायक होंगे। पारिवारिक सुखों में वृद्धि होगी। मनमुटाव यदि किसी परिजन से चला आ रहा है, वह दूर होगा। यात्रा के सुखद योग भी बन रहे हैं। किसी नए प्रोजेक्ट पर काम करेंगे। कारोबार के विस्तार की योजना बनेगी। गुरु कृपा के पात्र बनेंगे। विद्या पक्ष में प्रगति होगी। अपने करियर को लेकर चिंता दूर होगी। किसी उच्च व नामी कंपनी में रोजगार के भी योग बन रहे हैं।

मार्च : शुक्र अनुकूल होने से जहां उत्साह में वृद्धि होगी, वहीं सौभाग्य वर्धक स्थिति भी बन रही है। सोचे कार्य बनेंगे। सुख-साधनों की वृद्धि होगी। उपहार प्राप्त होंगे। भवन आदि पर शुभ व्यय होगा। कारोबार को अच्छा देने में सफल होंगे। रुका धन भी प्राप्त होगा। लंबी यात्रा की भी संभावना बन रही है। लोगों में मान-सम्मान बढ़ेगा। होटल मैनेजमेंट से जुड़े लोगों को शुभ समाचार मिलेंगे। विदेश संबंधी कार्य सिरे चढ़ेंगे। परिवारजनों से अच्छा समय गुजरेगा। किसी पर्यटक स्थल की सैर भी होगी। दही का सेवन घर से निकलते समय अवश्य करें। कार्य सिद्ध होंगे।

अप्रैल : कोई शुभ समाचार मन को आनंदित करेगा। कार्यपक्ष अच्छा चलेगा। नौकरी में सहयोगीजनों का साथ मिलेगा। यश कीर्ति बढ़ेगी। धन संबंधी समस्या पैदा हो सकती है। उधार पैसा देते समय अवश्य बार-बार सोचें। कभी-कभी अपनों से ही विश्वासघात होता है। विवेक से काम लें। 18 अप्रैल के बाद कोई भी फैसला सोच-समझकर करें, सेहत का भी ध्यान रखना आवश्यक है। प्रशासक वर्ग को कुछ चुनौतियों के दौर से गुजरना पड़ सकता है। धैर्य और संयम के साथ काम करें। परिस्थितियां अनुकूल बनती जाएंगी।

मई : अपनी सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। लापरवाही न बरतें, अन्यथा गंभीर परिस्थितियों के दौर से भी गुजरना पड़ सकता है। परिवार के साथ प्रेमपूर्वक रहें, स्नेह बांटें और दूसरों के प्रति सहानुभूति भी रखें। व्यापार व नौकरी के लिए सामान्य समय चल रहा है। परिश्रम कभी व्यर्थ नहीं जाता। शुक्र का उपाय सहायक रहेगा। शिव का दूध से अभिषेक करें। सभी विपरीत परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। आर्थक पक्ष को लेकर चिंता दूर होगी। किसी निकट संबंधी से अच्छे संबंध बनेंगे।

जून : जहां प्रतिष्ठा बढ़ेगी, वहीं रुके कार्य भी बनते चले जाएंगे। संपर्क सूत्रों में विस्तार होगा, विद्या पक्ष सुधरेगा। कई लोगों से मेल-मिलाप सुधरने से नए कार्य हाथ में आएंगे। धन की स्थिति में बदलाव आएगा। किसी नए प्रोजेक्ट पर काम करें। लंबी यात्रा की 17 जून से संभावना बन रही है। सुख-साधनों पर अधिक व्यय होगा। संतान पर व्यय होगा। जीवन साथी से मधुर संबंध आनंदित करेंगे। राहु और मंगल का उपाय सहायक रहेगा।

जुलाई : परिवार में मंगल कार्य की योजना बनेगी। मानसिक तनाव से बचें। अनावश्यक दौड़-धूप से बचें। कोई भी कार्य संयोजित तरीके से करने पर ही सफलता मिलती है। उतावलापन ठीक नहीं। अपने सहयोगीजनों से अच्छा व्यवहार करें, क्रोध पर नियंत्रण रखें। फिजूलखर्चों से बचें। कारोबारी स्थिति अच्छी होती जाएगी। घूमने-फिरने की योजना भी 20 जुलाई के बाद बनेगी। राजनीति से जुड़े लोगों को मान मिलेगा। गुप्त शत्रुओं से सावधान रहें। दस साल से छोटी नौ कन्याओं का पूजन शुक्रवार प्रातः करें, कार्य सिद्ध होंगे।

अगस्त : दशमस्थ सूर्य राहु का बन रहा योग ठीक नहीं, राजपक्ष से नुकसान उठाना पड़ सकता है। कोई आरोप भी लग सकता है। सावधानी से हर काम करें, शत्रु की नजर से बचें। घरेलू वातावरण अच्छा रहेगा। महिला मित्रों से अच्छा व्यवहार रखें। 21 अगस्त के बाद विशेष रूप से सतर्क रहें। घर में गुरुजनों का रोज आशीर्वाद प्रातः लें और घर से निकलते समय दही का सेवन करके ही जाएं। शुद्ध शाकाहारी रहें। अकस्मात कोई मंगल कार्य भी होने वाला है, मानसिक शांति मिलेगी।

सितंबर :  आर्थिक स्थिति को लेकर कुछ चिंता बढ़ सकती है। अकस्मात खर्चे बढ़ेंगे। सेहत पर ध्यान देना आवश्यक है। कारोबारी स्थिति अच्छी होती जाएगी। परिवार के प्रति अपना कर्त्तव्य बखूबी निभाएंगे। संतान पक्ष से प्यार मिलेगा और प्रसन्नता भी मिलेगी। नौकरी पक्ष अच्छा रहेगा। अकस्मात यात्रा के योग भी बन सकते हैं। मित्र वर्ग सहयोगी सिद्ध होगा। नौ से 18 सितंबर तक वाहन ध्यान से चलाएं। सूर्य को अर्घ्य रोज प्रातः दिया करें और किसी भी रविवार को गेहूं का यथाशक्ति दान भी करें। प्रगति के मार्ग प्रशस्त होंगे।

अक्तूबर : धन आगमन के योग बनेंगे। मान प्रतिष्ठा बढ़ेगी। सामाजिक कार्यों में प्रतिष्ठा बढ़ेगी। कारोबार के प्रति रुचि बढ़ेगी। अनेक नए प्रोजेक्टों पर काम करने की कोशिश करेंगे। मानसिक स्थिरता पर विशेष ध्यान दें। किए जा रहे  प्रयास फलीभूत होंगे। रूठे मित्र भी 13 अक्तूबर के बाद साथ देंगे। आपके अंदर सकारात्मक सोच बढ़ेगी और यदि आप लेखक हैं तो कलम का कमाल दिखाने में सफल रहेंगे। आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को वस्त्र भेंट करें, कल्याण होगा।

नवंबर : अपने भविष्य को संवारने के लिए किए जा रहे प्रयास फलीभूत होंगे। आत्मविश्वास बढ़ेगा। किसी उच्च अधिकारी के सहयोग से रुके कार्य बनेंगे। परिवार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। अपनी वाणी पर संयम रखें और अन्न दान यथाशक्ति करते रहें। अड़चनें शांत होंगी और मनोबल बढ़ेगा, 13 नवंबर से स्थिति बेहतर होती जाएगी। लंबी यात्रा के भी आसार बन रहे हैं। गुप्त चिंता से कभी-कभी मन उचाट रहेगा। विरोधियों की योजनाएं निष्फल होंगी।

दिसंबर : परिवार संबंधी कार्यों पर अचानक धन व्यय होगा। भागदौड़ बढ़ेगी। मनोदशा को कमजोर न होने दें। सब दिन एक जैसे नहीं रहते। कर्म करते जाओ। सफलता मिलेगी जरूर, पैसों के लेन-देन में सावधानी बरतें। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी। सोचे कार्य भी बनेंगे। राम रक्षा स्तोत्र रोज पढ़ें, शिक्षा से जुड़े लोगों को मान मिलेगा। विद्या बल बढ़ेगा। किसी रुके कार्य के पूरा होने की संभावना 15 दिसंबर के बाद बनेगी। आत्मबल बढ़ेगा, विपरीत परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी।

वृश्चिक

जनवरी : राशि स्वामी मंगल व गुरु दोनों द्वादश भाव में होने के कारण मिला जुला फल मिलेगा। शुभता के योग बनते चले जाएंगे, मगर कभी-कभी अपने स्वभाव के कारण बात बनते-बनते बिगड़ भी सकती है। 15 जनवरी के बाद परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। रुके कार्य बनेंगे, सेहत में सुधार आएगा, आर्थिक स्थिति बदलेगी, नौकरी में सहयोगी मददगार होंगे। पारिवारिक जीवन में समरसता बढ़ेगी, परिजनों के प्रति आदर भाव बढ़ेगा, सेहत की संभाल 24 जनवरी के बाद लाजिमी है।

फरवरी : मंगल स्वगृही होने से नए कार्य की योजना बनेगी, उच्च व प्रतिष्ठित लोगों से अच्छे संबंध बनेंगे, कारोबारी पक्ष अच्छा होता जाएगा, अकस्मात यात्रा के भी योग बन सकते हैं। संतान पक्ष को लेकर कुछ परेशानी आ सकती है। शनि उपाय मददगार रहेगा, नौकरी पर ध्यान देने की जरूरत है। विद्यार्थियों की मनोदशा में अच्छा बदलाव आएगा, उनका विद्या बल बढ़ेगा। 17 फरवरी के बाद वाद-विवाद से दूर रहें और अपने कार्य पर ही ध्यान केंद्रित करें, सफलता मिलेगी।

मार्च : घर-परिवार में किसी विषय को लेकर मतभेद हो सकता है। पर कोई न कोई समाधान भी शीघ्र निकलेगा, आर्थिक स्थिति पर ध्यान देने की जरूरत है। आय कम व व्यय अधिक होगा, सुख साधनों पर व्यय होगा, संतान के भाग्योदय पर विशेष ध्यान देंगे, अच्छे संपर्कों का लाभ उठाने की कोशिश तेज होगी, सामाजिक दायरा बढ़ेगा, लोग हृदय से मान-सम्मान देंगे, खानपान पर विशेष ध्यान देंगे। अध्यात्म के क्षेत्र में रुचि बढ़ेगी, 21 मार्च के बाद कोई अच्छा मार्गदर्शक मिलने की आस बन रही है।

अप्रैल : मंगल अनुकूल होने से धन की समस्या सुलझेगी, घरेलू जीवन में भी सुधार देखने को मिलेगा। कारोबार की स्थिति सुधरेगी, आय के साधनों में जहां वृद्धि होगी, वहीं व्यय भी अधिक रहेगा, कारोबार व नौकरी में अनुकूलता बनी रहेगी, मानसिक तनाव कम होंगे, अपने परिजनों से मधुर संबंध आनंदित करेंगे। सेहत पर ध्यान जरूर दें, खानपान पर ध्यान दें, तीखा भोजन न करें, पाचन तंत्र प्रभावित होगा, किसी करीबी की सेहत को लेकर चिंता बढ़ेगी, अमृत संजीवनी मंत्र का जाप करें, इस जाप से अनेक बाधाएं शांत होती जाएंगी।

मई : व्यावसायिक क्षेत्र में सफलता पाएंगे। मंगल-केतु की स्थिति कभी-कभी संघर्ष को बढ़ाती है, मगर आपको संघर्ष से डर नहीं लगता, कर्म पर विश्वास करते हैं और अपने धर्म का पालन करते हुए सभी जिम्मेदारियों का पालन बखूबी करने से हिचकिचाते भी नहीं हैं। वास्तव में देखा जाए तो आप की जिंदगी की सफलता का राज भी यही है। ग्रहों का अच्छा प्रभाव आपके व्यक्तित्व को निखारेगा और आप सर्वप्रिय बनेंगे, मंगल का समय-समय पर उपाय करते रहा करें।

जून : परिश्रम के बाद ही अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे। सेहत की संभाल जरूरी है। रक्त विकार तंग कर सकता है। पेट संबंधी दिक्कतें पेश आ सकती हैं। कारोबार पर भी विशेष ध्यान देना होगा। अचानक व्यय के योग भी बन रहे हैं, दाम्पत्य जीवन को लेकर कभी-कभी निराशा के भाव पैदा होते हैं। नौकरी संबंधी परेशानी दूर होगी, मित्र सहायक रहेंगे। 21 जून के बाद धन की स्थिति में अच्छा बदलाव देखने को मिलेगा। गो सेवा सहायक रहेगी।

जुलाई : सूर्य, शनि, मंगल की राशि पर विशेष अनुकूलता न होने के कारण विपरीत परिस्थितियों के दौर से गुजरना पड़ सकता है। आर्थिक व पारिवारिक परेशानियां तंग कर सकती हैं। अपने आत्मबल से आगे बढ़ते रहेंगे, देव कृपा व इष्ट साधना से समय अनुकूल होता जाएगा। शनि का उपाय विशेष मददगार रहेगा, हो सके तो शनि का व्रत करें और सरसों के तेल का शनिवार को दान करें, यथाशक्ति दान से ही महाकल्याण होता है। संतान पक्ष को लेकर चिंता दूर होगी।

अगस्त : घर-परिवार में अपने गुरुजनों के साथ वैचारिक मतभेद से बचें, बड़ों को आदर देना जहां कर्त्तव्य है, वहीं जिम्मेदारी भी बनती है। अपने विवेक से काम लें, निजी परेशानियों को दूर करने की कोशिश करते रहें, मंगल और शनि के उपाय करने से चामत्कारिक प्रभाव देखने को मिलेंगे, दाम्पत्य जीवन में समरसता लाने की कोशिश करें, धन सभी लेन-देन में भी सावधानी बरतें, कारोबार में 15 अगस्त के बाद बदलाव देखने को मिलेगा, आपकी मेहनत अवश्य रंग लाएगी।

सितंबर : कोई शुभ समाचार मिलेगा, स्थिति अनुकूल होती रहेगी, कारोबार में लाभ के मार्ग प्रशस्त होंगे, किसी उच्च व प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से रुके कार्य बनेंगे, आपके विशेष प्रयास सार्थक होंगे। राजदरबार में मान-प्रतिष्ठा बढ़ेगी, मान-सम्मान के लिए यह महीना शुभ है। शुभ व्यय के भी योग बन रहे हैं, सोची योजनाएं सिरे चढ़ेंगी, अपने स्वभाव में भी अच्छा बदलाव पाएंगे, महत्त्वपूर्ण कार्य के बनने के भी योग बन रहे हैं। गुप्त चिंता दूर होगी, मंगल व शनि का उपाय करते रहें।

अक्तूबर : अपने पराक्रम व पुरुषार्थ से बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे, समय साथ देता रहेगा। परिस्थितियां धीरे-धीरे अनुकूल होती जाएंगी, वाणी पर संयम रखें और अपने कर्त्तव्य का पालन करते रहें, घर से दही खाकर निकला करें, बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे, विद्या के लिए मां सरस्वती की आराधना करें, कार्य बनते जाएंगे, सेहत में सुधार पाएंगे, यात्रा के भी अकस्मात योग बन रहे हैं।

नवंबर : कोई रुका कार्य बनेगा, संपत्ति संबंधी दिक्कतें दूर होंगी, घरेलू वातावरण पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है। यात्रा होगी, पाचन तंत्र न बिगड़े, इस पर विशेष ध्यान दें, कारोबार व नौकरी ठीक चलते जाएंगे, कुछ गुप्त शत्रु आपकी छवि बिगाड़ने की कोशिश जरूर करेंगे, मगर सफल नहीं हो पाएंगे, आर्थिक स्थिति सुधरेगी, व्यय के भी योग बढ़ेंगे, उच्चजनों से अच्छे संबंध बनेंगे। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। 22 नवंबर के बाद अपने स्वभाव पर विशेष ध्यान दें। बनते कार्य बिगड़ सकते हैं।

दिसंबर : घर में कोई मंगल कार्य होगा, सूर्य, गुरु और बुध के कारण उलझनें शांत होंगी, कार्य बनते चले जाएंगे, काम का अधिक बोझ भी कम होगा, वातावरण आनंद प्रदान करने वाला बनेगा, किसी उच्च व प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से कार्य बनते जाएंगे, अपने स्वभाव में क्रोध को हावी न होने दें अन्यथा मानसिक अशांति तंग कर सकती है।

आर्थिक पक्ष को लेकर दिक्कतें शांत होंगी, मान-सम्मान व प्रतिष्ठा के लिए समय अच्छा है, मित्रजनों का सहयोग मिलेगा, शुभ व्यय के योग 23 दिसंबर के बाद बन रहे हैं।

धनु

जनवरी : राशि स्वामी गुरु लाभ स्थान में होने से अकस्मात धन-लाभ होता जाएगा, शुद्ध शाकाहारी रहें और शनि का उपाय करते रहें। चल रही साढ़ेसाती के कारण मानसिक अशांति तंग कर सकती है, भाग-दौड़ के बाद ही कार्य बनते जाएंगे, विद्यार्थियों को विशेष ध्यान अपने विद्या क्षेत्र में देने की जरूरत है। किसी से धन का लेन-देन करते समय सावधानी बरतें। कोर्ट-कचहरी से जुड़े कार्य अनुकूल होंगे, अपने प्रयासों में तेजी लाने से ही कार्य बनते जाएंगे, मित्र वर्ग सहयोग करेगा, किसी भी शनिवार को तिल का दान करना शुभ रहेगा।

फरवरी : आर्थिक स्थिति में सुधार पाएंगे, संघर्ष शक्ति बढ़ेगी, विपरीत परिस्थितियों को अनुकूल बनाने के लिए प्रयास तेज करेंगे, मित्रों का सहयोग मिलेगा, घर-परिवार पर अधिक ध्यान देंगे। किसी उच्च अधिकारी के सहयोग से अधर में अटके कार्य बनने शुरू होंगे, धैर्य और  संयम से काम करेंगे तो अवश्य सफलता मिलेगी, कारोबार पर ध्यान दें, फिजूल कार्यों पर दिमाग न लगाएं। नौकरी पर पूरा ध्यान देने से पदोन्नति के योग भी बनेंगे। धन संबंधी दिक्कतें 17 फरवरी के बाद दूर होंगी, सेहत का विशेष ध्यान रखें, प्रातः सूर्य को अर्घ्य दिया करें।

मार्च : गुरु की अच्छी स्थिति के कारण संतान पक्ष से लाभ होगा, आर्थिक स्थिति सुधरेगी, कारोबार में अच्छा बदलाव आएगा, रुके धन का आगमन होगा, उच्च व प्रतिष्ठित व्यक्तियों से मेल-जोल बढ़ेगा, जनसंपर्क बढ़ेगा, परिवार संग किसी उत्सव में जाने की योजना बनेगी, वाद-विवाद से बचें, कुछ लोग अड़चनें पैदा करने की कोशिश करेंगे, मगर वह सफल नहीं हो पाएंगे, गुरु का उपाय जहां मददगार रहेगा, वहीं शनि स्रोत का रोज जाप करें, अकस्मात लाभ के मार्ग प्रशस्त होते जाएंगे।

अप्रैल : आर्थिक स्थिति सुधरेगी, व्यय अधिक होगा, संघर्ष की स्थिति में भी कमी आएगी, परिवार के माहौल पर विशेष ध्यान देना आवश्यक है। क्रोध पर अंकुश लगाएं, देर रात्रि तक न जागें, नौकरी में सहयोगियों का पूरा साथ मिलता रहेगा, सेहत में हल्की सी गिरावट महसूस करेंगे, अनार का रोज सेवन करें, मंगल अनुकूल होता जाएगा, हो सके तो मंगलवार को अनार किसी गरीब को भेंट करें, अड़चनें शांत होती जाएंगी, बुद्धि बल बढ़ेगा।

मई : उत्तेजित न हों और किसी भी विवाद से स्वयं को दूर रखें, धन संबंधी दिक्कतें कम होंगी, घर-परिवार पर ध्यान दें, अपनी नौकरी व कारोबार पर फोकस करें, लाभ के रास्ते मजबूत होते जाएंगे, क्रोध व उत्तेजना से बचें। मीठी रोटी गाय को खिलाएं और सूर्य को प्रातः जल दिया करें। गजेंद्र मोक्ष रोज सोने से पहले पढ़ने से  विशेष लाभ के रास्ते बनते चले जाएंगे, 23 मई के बाद कोई शुभ समाचार प्राप्त होगा, हल्के रंग के वस्त्र पहनें।

जून : धन की स्थिति को लेकर चिंता कम होगी, दौड़-धूप अधिक करने पर ही कारोबार में अच्छे बदलाव देखने को मिलेंगे, घरेलू जीवन अनुकूल होता जाएगा, जिम्मेदारियां बढ़ेंगी, घर में कोई मांगलिक कार्य संपन्न होने की भी संभावना बन रही है। लंबे समय से अटका कार्य बनेगा, कोर्ट-कचहरी से जुड़े मामलों को लेकर परेशानी कम होगी, वाद-विवाद से स्वयं को दूर रखने में ही भलाई है। गुरु का उपाय विशेष मददगार रहेगा, कढ़ी चावल किसी गरीब को खिलाएं, कार्य बनते चले जाएंगे।

जुलाई : सेहत का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। सूर्य, मंगल अष्टम स्थान में होने के कारण कलह-क्लेश से बचें, क्रोध पर कंट्रोल रखें, कारोबार की स्थिति सामान्य रहेगी, व्यय की अधिकता से बजट प्रभावित रहेगा, 13 जुलाई से समय अनुकूल होता जाएगा, पारिवारिक परिस्थितियां अनुकूल रहेंगी, नौकरी में मन लगाकर काम करें, मानसिक स्थिति को कभी कमजोर न होने दें। रोज प्रातः हनुमान चालीसा पढ़ा करें, बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे, संतान पक्ष से प्रसन्नता मिलेगी।

अगस्त : सेहत में सुधार पाएंगे, भाग-दौड़ का दौर जारी रहेगा, अधिक मेहनत से ही कार्य बनते चले जाएंगे, महामृत्युंजय का रोज पाठ किया करें, गृह स्थिति विशेष अनुकूल नहीं है। प्रसन्न, स्मरण व सतकार्य से परिस्थितियां अनुकूल बन जाती हैं। 13 अगस्त के बाद समय साथ देगा, रुके कार्य बनते चले जाएंगे, कोई नया कार्य हाथ में लेंगे, शुभ व्यय के भी योग बन रहे हैं। वाहन ध्यान से चलाएं। सुख-साधनों पर 23 अगस्त के बाद शुभ व्यय होगा।

सितंबर : कार्य व्यवसाय में प्रगति के मार्ग प्रशस्त होंगे, नई योजना सिरे चढ़ेगी, शुभ व्यय होगा, उच्चजनों का सहयोग मिलेगा, सरकारी क्षेत्र से भी लाभ मिलेगा, घरेलू जीवन सुधरेगा, विपरीत चलने वाले अनुकूल होते जाएंगे। 11 सितंबर के बाद मनोदशा में सकारात्मक बदलाव आएगा, दुविधा की स्थिति दूर होगी, पितरों के निमित श्राद्धकाल के दौरान यथाशक्ति गरीबों को भोजन कराएं, कौआें को अनाज डालें, कल्याण होगा।

अक्तूबर : धर्म कर्म में रुचि बढ़ेगी, मान-सम्मान व प्रतिष्ठा बढ़ेगी, अनेक लोगों से आत्मीय संबंध बनेंगे, कारोबार व नौकरी का क्षेत्र अच्छा रहेगा, आपको सहयोगीजनों से सहयोग मिलेगा, धन की स्थिति में अच्छा बदलाव आने से मन प्रसन्न रहेगा, सुख-सुविधाओं पर व्यय होगा। खानपान पर ध्यान रखें, सेहत संबंधी थोड़ी परेशानी तंग कर सकती है। आर्थिक मामले सुलझाने के प्रयास तेज होंगे, संतान के भविष्य को लेकर चिंता दूर होगी।

नवंबर : सरकारी कार्यों में सफलता पाएंगे, उच्च अधिकारियों के सहयोग से अनेक कार्य बनेंगे, समय अनुकूल चल रहा है, इसका लाभ उठाएं।

कारोबार पर ध्यान दें, लंबी यात्रा की योजना बनेगी, अधर में लटके कार्य 19 नवंबर के बाद बनेंगे, धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी, अध्यात्म के क्षेत्र में प्रगति होगी, संपत्ति पर व्यय की योजना बनेगी, पारिवारिक वातावरण सुखद रहेगा, मानसिक तनाव में कमी आएगी, किसी जरूरतमंद को शनिवार के दिन भोजन कराएं, कल्याण होगा, अड़चनें दूर होंगी।

दिसंबर : कोशिश बेकार नहीं जाएगी, रुके कार्य बनेंगे, अधिक प्रयास फलीभूत होंगे, कुछ पारिवारिक दिक्कतें कभी-कभी मानसिक अशांति का कारण बन सकती हैं। धैर्य से काम करें, हनुमान चालीसा रोज पढ़ें और कबूतरों को अनाज डाला करें, मनोदशा अनुकूल होती जाएगी, उच्चजनों से अच्छे संबंध बनेंगे, नौकरी व कारोबारी स्थिति में अच्छा सुधार 18 दिसंबर से देखने को मिलेगा, मित्रों संग घूमने-फिरने की योजना भी बनेगी।

मकर

जनवरी : गुरु व शनि की अनुकूलता के कारण कार्य पक्ष में सुधार आएगा। मन में अच्छे विचारों का उदय होगा। बुद्धि तीव्र और निर्णय लेने की शक्ति बढ़ेगी। यात्रा के भी अच्छे योग बन रहे हैं। उच्च व्यक्तियों से मधुर संबंध बनेंगे। कुछ अड़चनें विरोधियों के कारण पैदा हो सकती हैं। धैर्य से काम करें और हनुमान चालीसा का रोज पाठ करें। समस्याएं शांत होती जाएंगी। देव स्थान के दर्शनों का सौभाग्य प्राप्त होगा। 18 जनवरी के बाद शुभ समाचार प्राप्त होंगे। धन की स्थिति ठीक रहेगी, पर व्यय की अधिकता के भी योग बन रहे हैं।

फरवरी : किसी मित्र की सहायता से कार्य विशेष बनेंगे। घर-परिवार की उलझनें शांत होंगी। कारोबार व नौकरी पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। लेन-देन में सावधानी बरतें। मित्रों संग समय गुजारने की योजना बन सकती है। किसी निकट संबंधी की सेहत को लेकर चिंता बढ़ सकती है। सेहत का ध्यान रखें। शुभ व्यय होगा। मनोबल को कमजोर न होने दें। शिव आराधना लाभकारी रहेगी। परिवार में कोई मांगलिक कार्य बनेगा। अतिथि आगमन 20 फरवरी के बाद होगा, अकस्मात धन लाभ होगा।

मार्च : आर्थिक लाभ के योग बनेंगे। रुका धन मिलने की संभावना बनेगी। संतान पक्ष से प्रसन्नता मिलेगी। कारोबार को लेकर गंभीर होंगे। वाहन ध्यान से चलाएं। कारोबार में कुछ बदलाव की योजना 12 मार्च के बाद होने की संभावना बन रही है। सामाजिक कार्यों में विशेष रुचि लेंगे। घर में गुरुजनों का आदर-सत्कार करने से अड़चनें जहां दूर होंगी, वहीं कार्य पक्ष में अच्छा सुधार भी देखने को मिलेगा। चल रही शनि की साढ़ेसाती के कारण मानसिक तनाव कभी-कभी मनोदशा को प्रभावित करता है। शनि का व्रत शनिवार को शुभ रहेगा।

अप्रैल : विघ्न-बाधाओं से निपटने की शक्ति प्राप्त होगी। अपने बुद्धिबल से बिगड़े कार्य बनते जाएंगे। व्यय की अधिकता से बजट प्रभावित होगा। रोजगार का बेहतर अवसर मिलेगा। कठिन परिस्थितियों के बावजूद धन की व्यवस्था होती जाएगी। सामाजिक क्षेत्र में मान-सम्मान के योग 15 अप्रैल से बनते जाएंगे। सुख साधनों पर व्यय होगा। उपहार मिलने के भी योग 22 अप्रैल के बाद बन रहे हैं। प्रापर्टी पर खर्चा  होगा। धन आगमन के अकस्मात योग 27 अप्रैल के बाद बनेंगे। गरीब रोगियों में फल बांटें, आत्म सुख मिलेगा।

मई : कुछ परेशानियां अवश्य कम होंगी। सोचे कार्य बनेंगे। मेहनत का फल सदा मीठा होता है, दार्शनिकों जैसे विचार बनेंगे। सकारात्मक सोच के बल पर आगे बढ़ते चले जाएंगे। प्रशासकीय गुणों में वृद्धि होगी। पारिवारिक माहौल अच्छा रहेगा। किसी उच्च प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से अधर में अटके कार्य बनेंगे। विभाग पर कार्य का बोझ दूर होगा। शनि उपाय सहायक रहेगा। कारोबार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। बैंक संबंधित लेन-देन में सावधानी बरतें। अधिक धन बैंक से लेकर आने में लापरवाही

न करें।

जून : पराक्रम और पुरुषार्थ बढ़ेगा। मानसिक उत्साह में वृद्धि होगी। कार्य व्यवसाय में अच्छा सुधार देखने को मिलेगा। उलझनें कम होंगी। सुख-साधनों की वृद्धि होगी। विदेश संबंधी कार्य बनेंगे। संतान पर व्यय होगा। किसी अटके कार्य के बनने की संभावना भी बनेगी। मित्रों के साथ किसी पर्यटक स्थल पर जाने की योजना बनेगी। भूमि संबंधित रुके कार्य बनेंगे। सेहत की विशेष संभाल जरूरी है। अकस्मात कोई शुभ समाचार 19 जून के बाद मिलने से मन आनंदित होगा। गुरुवार को पपीता किसी निर्धन को दें, कल्याण होगा।

जुलाई :  आराम कम मिलेगा, अधिक भागदौड़ कार्य व्यवसाय को लेकर करनी पड़ेगी। आर्थिक पक्ष में सुधार पाएंगे। परिवारजनों का प्यार मिलेगा। संतान के भविष्य को लेकर योजना बनाएंगे। शुभ व्यय होगा। किसी निकट संबंधी के समारोह में जाने का अवसर प्राप्त होगा। नौकरी पर ध्यान दें। गुप्त शत्रुओं से तटस्थ रहने की जरूरत है। 20 जुलाई से मान-सम्मान व प्रतिष्ठा के योग बनते जाएंगे। खिलाडि़यों के लिए अच्छा समय चल रहा है। किसी अच्छे काम में निवेश करेंगे। असहाय बच्चों के लिए आगे आएंगे।

अगस्त : कठिन व संघर्षपूर्ण परिस्थितियों के बाद भी उन्नति के मार्ग बढ़ते  जाएंगे। हिम्मत बनी रहेगी और हौसला साथ छोड़ेगा नहीं, फिर कोई रोक सकता नहीं। हर क्षेत्र में नाम कमा सकते हैं। धन की स्थिति भी सुधरेगी। सेहत अच्छी रहेगी, लोगों से अच्छा मेलजोल बढ़ेगा। अपने गृहस्थ जीवन में अच्छा बदलाव पाएंगे। विदेश संबंधी कार्य बनेंगे। नौकरी में अधिक जिम्मेदारी मिल सकती है। पैसों के लेन-देन में सावधानी जरूरी है। परिवार में बुजुर्गों के आशीर्वाद मिलते रहेंगे। शनि उपाय सहायक रहेगा।

सितंबर :  आर्थिक स्थिति में अच्छे बदलाव दिखेंगे। नए-नए विचारों को क्रियान्वित करने की कोशिश करेंगे। लोगों में आपको अच्छी सराहना प्राप्त होने से आत्मविश्वास बढ़ेगा। वाहन आदि के सुख मिलेंगे। कोई रुका कार्य बनेगा। किसी संस्थान के सलाहकार बनने की भी संभावना बन रही है। परिजनों का साथ व सहयोग भी मिलेगा। व्यय की अधिकता के कारण कभी-कभी आर्थिक दिक्कतें पेश आ सकती हैं। कुबेर मंत्र का नियमित जाप करने से धन संबंधित दिक्कतें दूर होती जाएंगी।

अक्तूबर : मानसिक प्रसन्नता की प्राप्ति होगी। धन की स्थिति में अच्छा सुधार आएगा। कारोबार में प्रगति के योग भी बन रहे हैं। विचारों में अच्छा बदलाव आनंदित करेगा। किसी उच्च व्यक्ति से मेलजोल बढ़ेगा। कार्य व्यवसाय में दिक्कतें शांत होंगी। परिवार में किसी सदस्य की सेहत संबंधी परेशानी के कारण भागदौड़ अधिक होगी। शुभ व्यय होगा, अच्छे पद की प्राप्ति के लिए साक्षात्कार का अवसर मिलेगा। यात्रा के दुखद योग भी बन रहे हैं। धार्मिक कार्यों पर व्यय होगा।

नवंबर : सेहत में कुछ नरमी आएगी। ध्यान देने की जरूरत है। किसी अच्छे चिकित्सक की सलाह लें। पानी का सेवन अधिक करें। खान-पान पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। कारोबार में उतार-चढ़ाव के बावजूद धन की स्थिति अच्छी होती जाएगी। यात्रा लाभकारी होगी। 15 नवंबर के बाद यात्रा के भी योग बन रहे हैं। यात्रा भाग्योदयकारी रहेगी। विद्यार्थियों को कोई शुभ समाचार मिलेगा। किसी अच्छे व्यवसाय में निवेश भी कर सकते हैं। संपत्ति संबंधी परेशानी दूर होगी, वाद-विवाद से बचें।

दिसंबर : बिगड़े कार्य बनते जाएंगे। आर्थिक स्थिति अच्छी होती जाएगी। उत्साहित होकर काम करेंगे। घर-परिवार का वातावरण अनुकूल होता जाएगा। समाज में मान-प्रतिष्ठा बढ़ेगी, अच्छी सोच से ही अच्छा बदलाव आ सकता है। यह गुण आप में चरितार्थ होगा। ग्रह स्थिति अच्छी होने के कारण लंबी यात्रा के भी योग बन रहे हैं। नौकरी में सहयोगी पूरा साथ देंगे। परिवार  संग समय गुजारेंगे। किसी निकट संबंधी के मंगल कार्य में शरीक होंगे। धन का शुभ व्यय होगा। संपर्क सूत्र बढ़ेंगे।

 कुंभ

जनवरी : शनि की अनुकूलता के कारण मान-सम्मान व प्रतिष्ठा की वृद्धि जहां होगी, वहीं आशाओं में सफलता के भी योग बनेंगे। सुख  साधनों एवं विलासादि कार्यों पर धन का अधिक व्यय होगा। कार्य व्यवसाय व नौकरी के क्षेत्र में परिस्थितियां पहले से अच्छी होती जाएंगी। घर-परिवार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। संतान पक्ष से प्रसन्नता होगी, कोई रुका कार्य 18 जनवरी के बाद बनने के पूरे आसार बन रहे हैं। सेहत की संभाल जरूरी है। दांपत्य जीवन को लेकर चिंता दूर होगी। किसी मजदूर को शनिवार के दिन जलेबी खिलाएं, कल्याण होगा।

फरवरी : अपने स्वभाव पर ध्यान विशेष देने की जरूरत है। कहीं अपनी गलती के कारण बनते कार्य न बिगड़ें, मान-सम्मान के लिए 11 फरवरी से समय अच्छा है। विदेशी कार्यों में भी प्रगति के योग बन रहे हैं। मित्रों की सहायता से बिगड़े कार्य बनेंगे। यात्रा की भी योजना बनेंगी। राशि पर सूर्य का संचार आने से सेहत का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। कारोबार पर भी ध्यान दें। घरेलू जीवन को लेकर कुछ राहत जरूर पाएंगे। किसी उच्च प्रतिष्ठित व्यक्ति से संपर्क बनेंगे और उनके सहयोग से अधर में पड़े कार्य बनेंगे। सूर्य उपाय विशेष सहायक रहेगा।

मार्च : घरेलू उलझनों में राहत पाएंगे। लाभ स्थान पर शनि मंगल का बन रहा योग स्वभाव में अकस्मात क्रोध भावना पैदा कर सकता है। विवेक से कम लें और धैर्यपूर्वक काम करें। मनोइच्छाएं पूरी होती जाएंगी। प्रत्येक कार्य में अधिक पुरुषार्थ करने के बाद ही सफलता मिलेगी। अनेक अनुभव प्राप्त होंगे।  अपने पराए की भी पहचान होगी। हनुमान चालीसा रोज पढ़ें। गाय को मीठी रोटी रोज खिलाएं मानसिक तनावों में कमी पाएंगे। घर में बुजुर्गों का रोज आशीर्वाद लेने से शनि अनुकूल होता जाएगा।

अप्रैल : शनि व गुरु की अनुकूलता से धन लाभ व आय के साधनों में वृद्धि के योग बनते जाएंगे। स्वास्थ्य संबंधी परेशानी कभी-कभी तंग कर सकती  है। मंगल स्तोत्र रोज पढे़ स्थिति अनुकूल होती जाएगी। वाहन ध्यान से चलाएं चोट आदि का भय भी बन रहा है। घर से गुड़ खाकर निकला करें। अड़चनें दूर रहेंगी। परिवार पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। व्यापार के लिए समय अच्छा है। स्वभाव में अच्छा बदलाव 20 अप्रैल के बाद महसूस करेंगे। गृहस्थ जीवन शुभता प्रदान करेगा।

मई : शनि वक्री होने से व्यर्थ की भागदौड़ बढ़ेगी। पारिवारिक परेशानियां तंग कर सकती हैं। निकट बंधुओं व मित्रों से वाद-विवाद न हो इसका विशेष ध्यान रखें। अपनी वाणी पर संयम रखें। इसी में आपकी भलाई है। शांत स्वभाव सेहत के लिए भी शुभ रहता है। अकस्मात यात्रा के भी योग बन रहे हैं। मंगल का विशेष उपाय करना हर पक्ष से राहत प्रदान करता रहेगा। देर रात तक घर से बाहर न रहें। अच्छे मित्रों के संग से विचारों में अच्छे बदलाव आते हैं। संगत का खास ध्यान दें। समय कुछ प्रतिकूल चला है। सावधानी आवश्यक है।

जून : काम में कुछ सुधार महसूस करेंगे। अपने कार्यक्षेत्र पर विशेष ध्यान देने की बहुत जरूरत है। मानसिक स्थिरता पर बल दें। आत्म विकास में कमी न आने दें। कार्य सिद्ध होते जाएंगे। स्वास्थ्य संबंधी कुछ परेशानियां तंग करेंगी। 14 जून के बाद राहत महसूस करेंगे। खान-पान पर विशेष ध्यान दें। शनिवार का व्रत करना काफी सहायक रहेगा। शनि स्तोत्र रोज पढ़ें। विनम्रता किसी आभूषण से कम नहीं। प्रातः सूर्य को रोज जल दिया करें। अपने गुरुजनों का रोज आशीर्वाद लेने से कार्य सिद्ध होते जाएंगे।

जुलाई : उच्च प्रतिष्ठित लोगों से मेलजोल होगा। अधिक परिश्रम से कार्य बनेंगे। विवेक बुद्धि से काम लेने से बिगड़े कार्य भी बनते चले जाएंगे। संतान संबंधी चिंता कुछ परेशान कर सकती है। घरेलू जीवन पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत है। 16 जुलाई के बाद परिवार में शुभ व मंगलकार्य पर व्यय होगा। धार्मिक रुचि बढ़ेगी। सामाजिक क्षेत्र में मान पाएंगे। यदि लेखक हैं तो अच्छा उपन्यास लिखने में सफल होंगे। मित्रों के साथ अच्छे संबंध रहेंगे। आर्थिक स्थिति अच्छी होगी।

अगस्त : धन लाभ व उन्नति के अवसर मिलेंगे। विपरीत परिस्थितियों का साहसपूर्वक मुकाबला करेंगे। कुछ विरोधी परेशान कर सकते हैं, मगर वह सफल नहीं हो पाएंगे। कभी-कभी परिवार में वैचारिक मतभेद होने के कारण मानसिक अशांति महसूस करेंगे। चंद्रमा का उपाय काफी सहायक रहेगा। मीठे चावल गाय को खिलाएं और सोमवार के दिन भगवान शिव को दूध से अभिषेक करें। बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे। पंचाक्षरी मंत्र का रोज जाप करें। मनोबल बढ़ेगा।

सितंबर : रुके कार्य बनेंगे। घर-परिवार का सहयोग मिलेगा। कोई नई योजना सिरे चढ़ेगी। सेहत में भी सुधार पाएंगे। 16 सितंबर तक विशेष सावधानी भी रखने की आवश्यकता है। सूर्य की दृष्टि के कारण अनायास क्रोध परेशानी पैदा कर सकता है। 21 सितंबर के बाद विदेश संबंधित कार्य बनने की उम्मीद जगेगी। सोचे कार्यों में प्रगति आएगी। किसी परिजन से चला आ रहा मनमुटाव दूर होगा। मानसिक प्रसन्नता पाएंगे। तनावों में कमी आएगी, शिव अर्चना सहायक रहेगी।

अक्तूबर :  मानसिक व घरेलू उलझनों में कमी आएगी। किए जा रहे अच्छे प्रयास फलीभूत होंगे। अधिकारियों के साथ अच्छा बर्ताव काफी सहायक रहेगा। कारोबारी स्थिति पर विशेष ध्यान दें। संयमपूर्वक व्यवहार करना शुभता प्रदान करेगा। मानसिक तनावों में 17 अक्तूबर के बाद कमी आएगी। कोई शुभ समाचार भी प्राप्त करेंगे। संतान पक्ष से परेशानी कम होगी। व्यर्थ की दौड़-धूप कम होगी। सोची योजनाओं में सफलता मिलेगा। मान-सम्मान की वृद्धि के भी योग बन रहे हैं। शिव उपासना मददगार रहेगी।

नवंबर : सूर्य को अनुकूल बनाएं उच्चता प्राप्त करेंगे। कार्य व्यवसाय की वृद्धि होगी। घर-परिवार से सुख मिलेगा। सुख साधनों पर शुभ व्यय होगा। सेहत अच्छी होती जाएगी। आर्थिक स्थिति में अच्छा बदलाव 20 नवंबर बाद देखने को मिलेगा। प्रयास करने से बिगड़े कार्य बनते चले जाएंगे। विशेष सुधार 23

के बाद देखने को मिलेगा। लाभ के मार्ग प्रशस्त होने शुरू होंगे। गाय को मूंग की खिचड़ी बुधवार को खिलाएं। अड़चने शांत होती जाएंगी।

दिसंबर : व्यवसाय व नौकरी पर जहां विशेष ध्यान देंगे, वहीं योजनाबद्ध तरीके से काम करने की आंतरिक प्रेरणा मिलती रहेगी। घर व परिवार में मान-सम्मान बढ़ेगा। शुभ व्यय होगा। परिजनों से स्नेह मिलेगा। अपनी बुद्धि की तीक्षणता से अनेक विरोधियों को भी करीब लाने में सफल रहेंगे। दांपत्य जीवन से भी लाभ मिलेगा। प्रतिकूल भाव रखने वाले अनुकूल होते जाएंगे। गुप्त चिंता कभी-कभी अशांत रखेगी। गणेश जी की उपासनासदा लाभ प्रदान करेगी और अशांति को  दूर करेगी।

मीन

जनवरी : सुख साधनों में वृद्धि होगी। गुर-मंगल अष्टमस्थान में होने के कारण सेहत नर्म रहेगी। जुकाम, सिरदर्द, पेट से संबंधित दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कार्य क्षेत्र में विस्तार की योजना बनेगी। व्यस्तताएं बढ़ेंगी। वाणी में तीखापन न आने दें, किसी से मनमुटाव हो सकता है। दांपत्य जीवन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। तुलसी की पूजा विशेष सहायक रहेगी, पीले मीठे चावल पक्षियों को खिलाएं। कष्ट निवृत्ति के लिए सहायक रहेगा।

फरवरी : प्रगति के मार्ग प्रशस्त होंगे। संपर्क सूत्र बढ़ेंगे। किसी उच्च व प्रतिष्ठित व्यक्ति से अच्छे संबंध बनेंगे। कारोबार में उन्नति के योग बन रहे हैं। 12 फरवरी के बाद बिगड़े कार्यों में सुधार होगा। घर- परिवार में आपसी सहयेग प्राप्त होगा। नकारात्मक सोच से बाहर आने की कोशिश फलीभूत होगी। देवकृपा के पात्र बनेंगे, कोई शुभ कार्य भी हाथों से होगा। धर्म, कर्म में रुचि बढ़ेगी, दांपत्य जीवन में समरसता लाने की कोशिश करें।

मार्च : कुछ आर्थिक व घरेलू परेशानियां अशांत कर सकती हैं। सूर्य का उपाय सहायक रहेगा। 13 मार्च के बाद परिस्थितियां अनुकूल होती जाएंगी। गुरुजनों के साथ सम्मानपूर्वक व्यवहार करना यश कीर्ति को बढ़ाएगा। क्रोध पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। परिवार पर ध्यान देने की जरूरत है। आर्थिक स्थिति सुधरेगी। अनावश्यक व्यय न करें और उधारी से बचें। कारोबार व नौकरी पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। अपने अधिकारियों व सहयोगियों से आदरभाव बनाए रखें।

अप्रैल : कुछ बिगड़े काम बनेंगे। संघर्ष के दौरे से भी गुजरना पड़ सकता है। स्वभाव में तेजी आएगी। घरेलू माहौल को लेकर कभी- कभी अशांत होंगे, सूर्य उपाय आवश्यक है। हो सके तो किसी लंगर में गेहूं का दान करें। 21 अपै्रल के बाद स्थिति अनुकूल होती जाएगी। अपने प्रयासों में तेजी लाएं, कार्य सिद्ध होते जाएंगे। शुद्ध शाकाहारी रहना शुभता प्रदान करेगा, गउंओं का हरा चारा खिलाने से समय अनुकूल होगा और धन लाभ के मार्ग प्रशस्त होते जाएंगे।

मई :  आय के साधनों में वृद्धि होगी। सूर्य की उत्तम स्थिति होने के कारण उच्च प्रतिष्ठित लोगों से संपर्क बनेंगे। समाज में प्रभाव क्षेत्र बढ़ेगा। कुछ शुभ कार्य करने की आत्म प्रेरणा भी मिलेगी। घर-परिवार के लिए समय देंगे। किसी नए कार्य की शुरुआत करने पर गंभीरता से विचार होगा। नौकरी में अधिकारी वर्ग सहयोग करेगा और अधिक जिम्मेदारी भी मिल सकती है। सेहत पर 19 मई के बाद विशेष ध्यान देने की जरूरत है। संतान पक्ष को लेकर परेशानी दूर होगी। शुभ व्यय भी होगा। गुरु का उपाय विशेष सहायक रहेगा।

जून : बिगड़े कार्य बनेंगे, आत्मबल बढ़ेगा। अच्छे व सज्जन बंधुओं से मेलजोल बढ़ेगा। शुभ विचारों का प्रभाव मस्तिष्क पर बनता जाएगा, अच्छी सलाह देने की कला में निखार आएगा। अध्ययन में रुचि बढ़ेगी। मंगल की अच्छी स्थिति के कारण भूमि संबंधी बिगड़े कार्य बनने में तेजी आएगी। कुछ संपत्ति विवाद सुलझने के आसार भी बनेंगे। क्रोध पर अंकुश रखें। सहनशीलता से काम लें। आवेश से काम लेंगे तो नुकसान उठाना पड़ सकता है। अपने करियर को लेकर कभी-कभी निराशा के भाव पैदा होंगे। हाथी को केले खिलाएं, कार्य सिद्ध होत जाएंगे।

जुलाई : अड़चनों को दूर करने के लिए किसी निकट संबंधी से सहयोग लें। अपने व्यवहार से आप दूसरों को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं, इसका सही इस्तेमाल करने की कला पर ध्यान देने की जरूरत है। परिश्रम और पुरुषार्थ करने से धन लाभ के अच्छे अवसर प्राप्त होंगे। अभी साझेदारी में काम करने की गलती न करें, नुकसान उठाना पड़ सकता है। नौकरी व कारोबार की स्थिति में सुधार आएगा। गणेश उपासना लाभप्रद रहेगी। परिवार के साथ अच्छा व्यवहार रखें, अधिक आवेश सेहत को भी नुकसान पहुंचा देता है।

अगस्त : कुछ बिगड़े कार्य सिद्ध होने के लिए कोशिश तेज करनी पड़ेगी। आवश्यकता से अधिक आत्मविश्वास कभी-कभी हानि का कारण भी बनता है। गुरु की स्थिति अभी ठीक नहीं, अष्टम स्थान में होने के कारण सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। रक्त विकार, पाचन तंत्र अस्त-व्यस्त व अनिद्रा तंग कर सकती है। आर्थिक स्थिति पर भी ध्यान देने की जरूरत है। कार्य व्यवसाय में 17 अगस्त के बाद सुधार के संकेत मिल रहे हैं। दांपत्य जीवन पर ध्यान दें। मनमुटाव से बचें। मीठे चावल गाय को खिलाएं, कार्य बनते चले जाएंगे।

सितंबर : सेहत की संभाल पर ध्यान दें। अष्टम भाव में शुक्र, गुरु का योग अनेक परेशानियां पैदा कर सकता है। खान-पान पर ध्यान दें, एसिडिटी व वायु विकार तंग कर सकता है। आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए भागदौड़ अधिक करनी पड़ सकती है। किसी गरीब रोगी को फल व लड्डू भेंट करें और शाकाहारी भोजन ही खाएं। घरेलू परेशानी को दूर करने के लिए देवी आराधना सहायक रहेगी। दस साल से छोटी कन्याओं का शुक्रवार प्रातः पूजन करें। अनेक विपदाएं शांत होंगी और कार्य बनते चले जाएंगे।

अक्तूबर : सूर्य की अनुकूल स्थिति के कारण 16 अक्तूबर तक धन की स्थिति सुधरती जाएगी। व्यर्थ की भागदौड़ से बचें। घर में माता-पिता का रोज आशीर्वाद लेने से शनि मेहरबान होता जाएगा। गुरु का भाग्य भाव में आने से किस्मत के रास्ते खुलेंगे और शुभ फलों की प्राप्ति होगी। किसी शुभ कार्य में व्यय भी होगा। सेहत संबंधी परेशानी कम होगी।  मानसिक तनाव कम होते जाएंगे। दलिया गाय को खिलाएं, शुभता प्रदान होगी।

नवंबर : सेहत में अच्छा सुधार आएगा।  गुरु की अनुकूलता से अकस्मात धन लाभ की प्राप्ति और आशाओं की पूर्ति होगी।  बिगड़े कार्यों में भी सुधार आएगा। प्रतिकूल चलने वाले अनुकूल होते जाएंगे। घर-परिवार का माहौल भी अच्छा होगा। जीवन साथी  से प्रेमपूर्वक व्यवहार करें। मानसिक तनावों

में कमी आएगी। रात गई बात गई  फार्मूला काफी कारगर सिद्ध रहेगा। संतान के भविष्य को लेकर कभी-कभी निराशा के  भाव पैदा होते हैं। विवेक से काम लें। अपने कर्त्तव्य का पालन करते जाएं, प्रभु कृपा  बनी रहेगी।

दिसंबर : मान प्रतिष्ठा प्राप्त होगी। घर- परिवार में शुभ एवं मंगल कार्य संपन्न होंगे। मनोबल बढ़ेगा, उत्साह में वृद्धि होगी। किसी गुरुजन की विशेष कृपा को पात्र बनेंगे। सुख साधनों की वृद्धि होगी, मान-प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। अनेक उच्च व प्रतिष्ठित लोगों से संपर्क बनेंगे। सेहत सामान्य रहेगी। खान-पान पर ध्यान दें। आदित्य हृदय का स्तोत्र को नियमित पाठ करें, विशेष प्रतिष्ठा जहां बढ़ेगी, वहीं आत्मबल व अध्यात्मबल भी बढ़ेगा। शत्रु पक्ष निर्बल  होता जाएगा।