Sunday, November 17, 2019 03:26 PM

विज्ञान मेले में छाए एसवीएम करसोग के छात्र

करसोग - वर्तमान युग विज्ञान का है और चमत्कार विज्ञान के रास्ते चलते हुए देश का युवा कर सकता है जिसमें सभी युवा लगन मेहनत व लक्ष्य को सामने रखकर शिक्षा प्राप्त करें, जिसमें गुरुजनों का मानसम्मान भी सर्वश्रेष्ठ व प्राथमिकता पर रहे। यह बात वरिष्ठ समाजसेवी तथा समाजसेवी राजेश ठाकुर ने रविवार को जिला स्तरीय ज्ञान विज्ञान मेला सरस्वती विद्या मंदिर करसोग में बतौर मुख्यातिथि संबोधित करते हुए कही। जिला मंडी के छह संकुल से आए लगभग 350 विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए समाजसेवी राजेश ठाकुर ने कहा कि शिक्षा समिति द्वारा संचालित सरस्वती विद्या मंदिरों में अच्छी शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थियों को पारिवारिक संस्कार देते हुए अपनी समृद्ध संस्कृति की जानकारी भी विस्तारपूर्वक दी जा रही है जो कि सराहनीय प्रयास है। उन्होंने कहा कि समाज को एकजुटता में बांधने के लिए भी युवा शक्ति बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है परंतु यह तभी संभव है जब उन्हें संस्कार तथा संस्कृति की विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की जाएगी। इस कार्य में गुरुजन बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं तथा यह कार्य सरस्वती विद्या मंदिर के आचार्य गुरु जन करने में कोई कमी नहीं रख रहे हैं। इस मौके पर बतौर मुख्यातिथि पहुंचे समाजसेवी राजेश ठाकुर का सरस्वती विद्या मंदिर के प्रधानाचार्य यशवंत भारद्वाज व अन्य आचार्य द्वारा पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया। जिला स्तरीय ज्ञान विज्ञान मेले के दौरान विजेता पाठशाला के विद्यार्थियों को समाजसेवी राजेश ठाकुर द्वारा इनाम बांटे गए। जिला ज्ञान विज्ञान मेले के आयोजन पर राजेश ठाकुर ने सरस्वती विद्या मंदिर करसोग के विकास को लेकर 31000 तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम देने वाली छात्राओं को 5000 की नकद राशि बतौर प्रोत्साहन उपहार भेंट करते हुए कहा कि सरस्वती विद्या मंदिर करसोग के विकास को लेकर जब भी प्रबंधन समिति द्वारा सहयोग मांगा जाएगा उसके लिए वह हमेशा तैयार हैं। समाजिक कार्यों में सभी को मिलकर सहयोग देना चाहिए उसी के चलते सर्वप्रथम शिक्षा मंदिर सुविधाजनक हो इसका प्रयास सामूहिक सफलतापूर्वक किया जा सकता है।

कार्यक्रम में ये गणमान्य रहे मौजूद

सरस्वती विद्या मंदिर करसोग में आयोजित किए गए दो दिवसीय जिला स्तरीय ज्ञान विज्ञान मेले में बतौर मुख्यातिथि समाजसेवी राजेश ठाकुर पहुंचे तथा इस मौके पर प्रांत कार्यकारिणी सदस्य शिक्षा समिति जय राम, उत्तर क्षेत्र वैदिक प्रमुख गोपाल दास शर्मा, शैक्षणिक जिला प्रमुख गोपाल कृष्ण आजाद, जिला कोषाध्यक्ष पदम देव शर्मा, प्रांत विज्ञान सह प्रमुख शशि भारती, जिला मंडी प्रभारी युगल किशोर, तथा वेद प्रकाश गुप्ता, ओम प्रकाश वालिया, धनंजय, धर्मपाल, सोम कृष्ण, सुरेंद्र, गीता ठाकुर, तृप्ता गोतम, इंदिरा सत्य, पदम देव शर्मा, रूपलाल, सरस्वती विद्या मंदिर करसोग के संरक्षक मीना शर्मा व प्रधानाचार्य सरस्वती विद्या मंदिर करसोग यशवंत भारद्वाज सहित अनेकों गणमान्य लोग उपस्थित थे।

नाटियां डाल कर मचाई धूम

जिला स्तरीय ज्ञान विज्ञान मेले में पहुंचे जिला के नन्हे वैज्ञानिकों द्वारा शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम भी रखा गया जिसमें नाटियों की खूब धमाल मची,, जिसे खूब पसंद भी किया गया संस्कृत कार्यक्रम देने पर मुख्यातिथि राजेश ठाकुर द्वारा 5000 नकद इनाम प्रदान किए गए।

सहयोग करने के लिए आभार जताया

सरस्वती विद्या मंदिर करसोग के प्रधानाचार्य यशवंत भारद्वाज ने ज्ञान विज्ञान मेले में मिले सहयोग को लेकर सभी का आभार प्रकट किया जिसमें हिमाचल शिक्षा समिति के जो भी पदाधिकारी पहुंचे हुए थे उनका भी इस आयोजन में मिले सहयोग के लिए आभार प्रकट किया गया।

करसोग ओवर आल चेंपियान

जिला स्तरीय ज्ञान विज्ञान प्रतियोगिता के दौरान सरस्वती विद्या मंदिर करसोग विभिन्न श्रेणियों के सात पुरस्कार लेकर पूरे इवेंट का सिरमौर बना तथा सरस्वती विद्या मंदिर करसोग के नाम ऑल ओवर सर्वश्रेष्ठ का पुरस्कार भी दर्ज किया गया। जिसको लेकर प्रधानाचार्य यशवंत भारद्वाज ने सभी विद्यार्थियों तथा गुरुजनों को बधाई देते हुए कहा कि यह उनकी मेहनत का फल है आगे और कड़ी मेहनत करें, ताकि उनका चयन जो प्रदेश स्तर के लिए हुआ है उसमें भी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन हो सके। इस मौके पर प्रधानाचार्य यशवंत भारद्वाज ने जिला भर के सरस्वती विद्या मंदिर से 350 विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं दी सफलता के लिए हमेशा प्रयास करने के लिए प्रेरित किया।

चीफ गेस्ट ने प्रदर्शनी निहारी

जिला मंडी  के छह संकुल से आए हुए विद्यार्थियों द्वारा जो मॉडल साइंस विज्ञान संबंधी प्रदर्शित किए गए हुए थे उन्हें भी मुख्यातिथि राजेश ठाकुर द्वारा देखा गया व विद्यार्थियों से मॉडल निर्माण संबंधी जानकारी हासिल की। सरस्वती विद्या मंदिर करसोग में जिला स्तरीय ज्ञान विज्ञान मेले में गणित, साइंस, संस्कृत तथा संस्कृति बोध परियोजना से जुड़े हुए मॉडल विद्यार्थियों द्वारा प्रदर्शित किए गए जिनमें नवीन प्रकार की जानकारियां नन्हे वैज्ञानिकों द्वारा अपनी सोच को मूर्त रूप देकर निर्मित की गई। सरस्वती विद्या मंदिर करसोग के प्रधानाचार्य यशवंत भारद्वाज ने जानकारी देते हुए कहा कि जिला मंडी के छह संकुल करसोग, बगसियाड तहसील थुनाग, सुंदरनगर, जोगिंदर नगर, सरकाघाट तथा मंडी से विद्यार्थी अपने मॉडल लेकर करसोग पहुंचे हुए थे जिसमें लगभग 350 विद्यार्थियों ने अपनी वैज्ञानिक सोच को प्रदर्शनी के दौरान दिखाया जो निश्चित तौर पर सराहनीय प्रयास है।