विमान यात्रा में न लेकर जाएं थर्मामीटर

क्या आपने कभी गौर किया है कि विमान यात्रा के दौरान जो कुछ चीजें आप अपने साथ नहीं ले जा सकते उसमें परंपरागत थर्मामीटर भी शामिल है। अब एक थर्मामीटर से भला क्या नुकसान हो सकता है? परंपरागत थर्मामीटर में पारा होता है, जो कि जहरीला होता है। इसलिए सामान्य रूप से यह बात समझ में आती है कि थर्मामीटर को लेकर हवाई यात्रा करने वाले यात्री से परेशानी उत्पन्न हो सकती है, परंतु बात मात्र इतनी सी ही नहीं है। थर्मामीटर में मौजूद पारा स्वयं विमान के लिए घातक सिद्ध हो सकता है।  विमान की बॉडी टाइटेनियम और एल्युमीनियम से बनी होती है। एल्युमीनियम एक ऐसी धातु है, जो ऑक्सीजन के साथ तुरंत संपर्क कायम कर रासायनिक प्रक्रिया शुरू कर देती है। इससे हवा में मौजूद ऑक्सीजन एल्युमीनियम की सतह को नुकसान पहुंचा सकता है। सामान्यता ऐसा हो नहीं पाता क्योंकि जैसे ही ऐसी कोई प्रतिक्रिया शुरू होती है एल्युमीनियम की परत के ऊपर ऑक्साइड की पतली परत जम जाती है और इससे एल्युमीनियम की परत को नुकसान नहीं पहुंचता, लेकिन पारा यहां खलनायक बन सकता है। पारे का एक गुण-धर्म ऑक्साइड पर हमला करना भी है। यदि पारा ऑक्साइड की परत के संपर्क में आए तो उसे नुकसान पहुंचा सकता है। दूसरी तरफ  पारा एक जगह टिकता भी नहीं इसलिए व्यापक नुकसान की संभावना उत्पन्न हो जाती है। इसके बाद ऑक्सीजन एल्युमीनियम की परत को भी नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है। इससे विमान की बॉडी को भारी नुकसान हो सकता है। एक और बात यह कि इस तरह की रासायनिक प्रक्रिया से उत्पन्न गर्मी से विमान के फ्यूल टैंक में धमाका भी हो सकता है।

Related Stories: