Friday, October 18, 2019 04:21 PM

विरोध के लिए विरोध

 - डा. विनोद गुलियानी, बैजनाथ

पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, राजस्थान व पंजाब की राज्य सरकारों द्वारा मोटर वाहन संशोधन विधेयक 2019 का विरोध करना बड़ा निंदनीय व चिंता का विषय है। काश जनहित से जुडे़ इन नियमों का विरोध करने वाले यह समझ पाते कि नियम तोड़ने पर जान गंवाने के आगे अधिक जुर्माना राशि बेमायने है। देश के हर व्यक्ति को समझ लेना चाहिए कि उनकी जान किसी भी जुर्माने से कहीं अधिक है। हर समय विपक्ष की भूमिका निभाते माननीय भी यह भली-भांति जानते हैं कि देश में हर वर्ष पांच लाख लोग सड़क हादसों में अकाल मृत्यु को प्राप्त होते हैं। मेरा ऐसा  मानना है कि ट्रैफिक नियम तोड़ने पर जुर्माने के साथ-साथ निर्धारित समय के लिए गाड़ी बाऊंड करने का दंड भी होना चाहिए, जिसके डर से पथ भ्रष्ट हुए युवाओं की कीमती जान को तो बचाया जा सके। भारी जुर्माने के पीछे धन बटोरना सरकार की कतई भी मंशा नहीं है, जिसे हर बुद्धिजीवी भली-भांति समझता है। फिर भी विरोध के लिए विरोध ही है, तो अपने वेतन-भतों को बढ़ाने का विरोध करो, ताकि राजनीतिक लाभ के साथ-साथ समूचे देश का साधुवाद भी विपक्ष को मिल सके।