Saturday, November 27, 2021 11:10 PM

वोकल फॉर लोकल ने बनाया रिकार्डधारी, मेड इन इंडिया खरीद पर जोर दें देशवासी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र ने देश में एक अरब कोविड टीकाकरण की उपलब्धि में स्वदेशी वैक्सीन की महत्त्वपूर्ण भूमिका का उल्लेख करते हुए शुक्रवार को कहा कि हमें वोकल फॉर लोकल को अपने व्यवहार में ढालना होगा । देश में एक अरब कोविड टीकाकरण की उपलब्धि के बाद राष्ट्र के नाम संबोधन में श्री मोदी ने कहा कि यह उपलब्धि स्वदेशी वैक्सीन के बल पर ही हासिल की गई है।

उन्होंने कहा कि भारत का पूरा वैक्सीनेशन प्रोग्राम विज्ञान की कोख में जन्मा है, वैज्ञानिक आधारों पर पनपा है और वैज्ञानिक तरीकों से चारों दिशाओं में पहुंचा है। उन्होंने कहा कि हमें इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए दीपावली पर स्थानीय उत्पादों की खरीद पर जोर देना है और इसे अपने व्यवहार में लाना है।

उन्होंने कहा कि जैसे स्वच्छ भारत अभियान एक जनआंदोलन है, वैसे ही भारत में बनी चीज खरीदना, भारतीयों द्वारा बनाई चीज खरीदना, वोकल फॉर लोकल होना, ये हमें व्यवहार में लाना ही होगा। मैं आपसे फिर कहूंगा कि हमें हर छोटी से छोटी चीज, जो मेड इन इंडिया हो, जिसे बनाने में किसी भारतवासी का पसीना बहा हो, उसे खरीदने पर जोर देना चाहिए। और ये सबके प्रयास से ही संभव होगा।

कोरोना के दौरान कृषि ने अर्थव्यवस्था को सुधारा
प्रधानमंत्री ने कृषि क्षेत्र में हो रही प्रगति की सराहना करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण काल के दौरान कृषि क्षेत्र ने अर्थव्यवस्था को सुधारा है। इस दौरान रिकार्ड मात्रा में फसलों की खरीद की गई और किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे भेजे जा रहे हैं। उन्होंने इस दौरान कोरोना महामारी को लेकर लोगों से सतर्कता बरतने की अपील की और कहा कि त्योहारों के अवसर पर उन्हें और सावधान रहना चाहिए।

कोरोना के खिलाफ युद्ध खत्म नहीं, अभी हथियार नहीं डालने हैं
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भले ही देश में एक अरब टीके लगाए गए हों, लेकिन अभी कोरोना के खिलाफ युद्ध खत्म नहीं हुआ है। इसलिए सभी को पूरी सतर्कता बरतनी है तथा हथियार नहीं डालने हैं। देश में एक अरब टीके लगाए जाने की उपलब्धि पर शुक्रवार को राष्ट्र के नाम संबोधन में श्री मोदी ने कहा कि अभी त्योहारों का मौसम आ रहा है और इस दौरान हम सबको पूरी सतर्कता बरतनी है, क्योंकि कोरोना महामारी से अभी पूरी तरह निजात नहीं मिली है।

उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई अभी समाप्त नहीं हुई है। इसलिए किसी को भी हथियार नहीं डालना है और अपने कवच भी पहने रखने हैं। उन्होंने कहा कि जैसे हम घर से बाहर जाते समय जूते पहनना नहीं भूलते, इसी तरह हमें मास्क को भी नहीं भूलना है और इसे सहज स्वभाव में अपने जीवन में अपनाना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि जिन लोगों को अभी वैक्सीन नहीं लगी है, उन्हें सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन लगवानी है। उन्होंने कहा कि यदि हम कोरोना के खिलाफ अपने कवच पहने रखेंगे तो निश्चित रूप से हमारी जीत होगी।