Wednesday, September 30, 2020 04:29 AM

वोट बैंक की राजनीति अभिशाप

-राजेश कुमार चौहान, जालंधर

स्वामी विवेकानंद जी ने युवा शक्ति के बारे में कहा था कि ‘मेरा विश्वास युवा शक्ति पर है। इन्ही में से मेरे कार्यकर्ता निकलेंगे, जो अपने पराक्रम से विश्व को बदल देंगे।’ युवा वर्ग का देश के विकास, देश और समाज में अच्छा बदलाव लाने के लिए महत्त्वपूर्ण योगदान होता है, लेकिन अफसोस इस बात का है कि आज देश के कुछ युवा राजनेताओं और धर्म के ठेकेदारों के प्रलोभनों में या बहकावे में आकर, स्वार्थ के वशीभूत होकर राष्ट्र-समाज की सेवा की भावना भी परित्याग कर रहे हैं। हाल ही में जो जेएनयू में हिंसा की घटना हुई बहुत ही शर्मनाक और निंदनीय है, ऐसा लग रहा है कि जेएनयू राजनीति का अखाड़ा बन गया है, जो कि यहां पढ़ने वाले युवा वर्ग के भविष्य को खराब करने वाला है। इस घटना के क्या कारण हैं, यह तो उचित और निष्पक्ष जांच से ही पता चल सकता है।